मालवी आलेख:-भारी करी अन्ना दाजी - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

मालवी आलेख:-भारी करी अन्ना दाजी


भ्रस्ताचार   का   पाछे अन्ना  दाजी   जो पड्या ने जो आन्दोलन करियो , आजादी की लड़ाई से भी आगे निकली ज्ञा | अग्रेज गोरा ना से लड़ने में तो सगली अड़ी से लड़ने की छुट थी पण या लड़ाई भोत सूझ बुझ से लड़ने की थी |अन्ना दाजी  में  देश  भक्ति की भावना कुटी कुटी के भरी हे और देश की संसद में उनको भरोसो हे | कोई भी कानून उनने तोड्यो नि | बिना पैसा की तोड़ फोड़ के उनने अपना सरीर के पीड़ा दी के जनता के अपना साते कार्यो |

सरकार का बदजुबान होण ने उनका ऊपर भोत ही ओछी हरकत करी के आरोप भी लगाया पण वि भी झूठा सिद्ध हुवा | सच तो सच होई हे और झूठ कितरी देर इका सामने टिके | जितरा झूठ सरकार ने बोल्या , जनता उत्रिज दाजी का साते होती गई | इक  तरफ सरकार कानून कायदा होण के तोड़ी मरोड़ी के   अपना  हिसाब से वापरी री थी |  राजनीती ने संसद में बैठा हुवा लोग ना की काम करने को जो तरीको हे बिलकुल भी विस्वसनीय नि हे | कई पक्छ  ने कई  विपाकछ,   लोग रंग बदलने में ऐसा माहिर हे की सल्ड्यो भी कई बदले | इणा आन्दोलन से अखी दुनिया के यो पतों चली गयो हे के संसद में जो लोग हम चुनी के भेजी रिया हे लोग की नियत कई हे |

एक बात तो साफ हुई गी हे के संसद में बैठा हुआ लोग जनता की भावना समजने में विफल रिया हे | यो लोकपाळ बिल सरकार होण (कई पक्छ ने  कई  विपाकछ)  ने  42 साल तक टालयो |  बाबा रामदेव के बापडा के इतरा बड़ा आन्दोलन के बड़ी बुरी तरे से सतायो  | मोती कोरट ने भी सरकार ने दिली पुलिस की खिचाई करी पण अभी तक करवाई नि हुई | अरे सत्ता में बैठी के कानून को दुरूपयोग तो " रास्ट्र द्रोह " मान्यो जानो चहिये |  पिछला महिना हम देखा तो संसद ने संसोदों ने नेता होण ने जन भावना को अनादर कार्यो हे | सरकार में बैठ्या लोग होण ने " एडी  से लगे के चोटी "  तक जोर लगाई दियो के इतरा लोग होण का प्रतिनिधि अन्ना दाजी के झुकाई के सारू , पण अन्ना दाजी ने बड़ी सूज बुज से कमान संभाली | इतरा दन में कित्रा    मोका आया जीमे अन्ना दाजी  की स्थिति बिगड़ी पण  उनकी समजदारी , सूझ बुज का आगे सब ठीक हुयो | बात मानने को ड़ोंग करने वाला इक दन पेला तक हिटलर सरी की बात करी रिया था | सरकार में बैठी के मदमस्त नेता यो भूली ज्ञा था के वि जनता का प्रतिनिधि हे | आज संसद से सलाम करी रिया हे ,कल तक विज लोग जेल में डाली रिया था ने आन्दोलन ख़तम करने वास्ते उल्टा सुलटा बयान डि रिया था |

यो जन जागरण को आन्दोलन भारत की आजादी में मिल को पत्थर साबित होगो ने हमारा लोक तंत्र के मजबूत करेगो | अखी दुनिया  यो आन्दोलन देखि री थी ने | आज पूरी दुनिया में मार काट मची हे वा भारत में अन्ना ने अहिंसा को जो यो जान जागरण करियो हे जीमे सबसे जादा जवान छोरा छोरि होण ने फेसबुक ने मोबाइल से भाग लियो हे भोत अछी बात हे | राजनीती में छोरा छोरि होण दूर रेता था पण अब लागे के चुनाव में सबसे जादा बोटिंग अब  छोरा छोरि करने वाला हे | इना आन्दोलन ने फिर से छोरा छोरि में देश प्रेम की भावना भारी हे और वि की रिया हे हु भी अन्ना तो भी अन्ना आखो देश हे अन्ना |  


योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

राजेश एस . भंडारी "बाबु"
104, महावीर नगर, इंदौर
फ़ोन 9009502734
rb@indoreinstitute.com
SocialTwist Tell-a-Friend

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here