Latest Article :
Home » , , » ‘मीरा सम्मान पुरस्कार’ की घोषणा

‘मीरा सम्मान पुरस्कार’ की घोषणा

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on बुधवार, सितंबर 28, 2011 | बुधवार, सितंबर 28, 2011

मुख्य आयोजन:-
प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी शरद पूर्णिमा के अवसर पर भक्त शिरोमणि मीराबाई की पावन स्मृति में मीरा स्मृति संस्थान के तत्वावधान में दिनांक 10 से 13 अक्टूबर तक चित्तौड़गढ़ में मीरा महोत्सव-2011 का विराट पैमाने पर भव्य आयोजन किया जा रहा है।उक्त जानकारी देते हुए मीरा स्मृति संस्थान के अध्यक्ष भंवरलाल शिशोदिया ने बताया कि इस वर्ष मीरा महोत्सव का प्रमुख आकर्षण ‘नानीबाई का मायरा’ की संगीतमय कथा का होगा, जो 10 से 12 अक्टूबर की रात्रि में 7.00 बजे से गोरा-बादल स्टेडियम में रखी गई है। इस लोकप्रिय कथा की प्रस्तुति के लिए जोधपुर के सुप्रसिद्ध सन्त बालव्यास राधाकृष्णजी महाराज को आमन्त्रित किया गया है।

समारोह का एक अन्य महत्त्वपूर्ण आकर्षण ‘गरबा-डांडिया रास’ का होगा, जो 13 अक्टूबर की रात्रि में गोरा-बादल स्टेडियम में आयोजित किया जाएगा। इस समारोह में चित्तौड़गढ़ नगर क्षेत्र के प्रमुख डांडिया दल अपनी अभूतपूर्व कला का प्रदर्शन करेंगे। इसके अतिरिक्त गुजरात के गरबा रास दल को भी आमन्त्रित करने का प्रयास किया जा रहा है।

मीरा संगोष्ठी
दिनांक 11 एवं 12 अक्टूर को अपराह्न 1.00 बजे से गोरा बादल स्टेडियम में बनाये जा रहे कथा स्थल पर ‘मीरा संगोष्ठी’ का आयोजन रखा गया है, जिसमें प्रमुख वक्ताओं के रूप में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन (मध्यप्रदेश) के प्रो. शैलेन्द्रकुमार शर्मा, डिब्रूगढ़ (असम) के देवीप्रसाद बागड़ोदिया, अहमदाबाद (गुजराज) के डाॅ. किशोर काबरा, दिल्ली के डाॅ. भगवतीशरण मिश्र, जयपुर के ब्रजेन्द्रकुमार सिंहल और भरतपुर के डाॅ. कृष्णचन्द्र गोस्वामी को आमन्त्रित किया गया है। ये विद्वान मीराबाई के जीवन, काव्य एवं दर्शन के विभिन्न पक्षों पर विशेष व्याख्यान देंगे। पूज्य संत बालव्यास राधाकृष्ण जी महाराज भी मीराबाई के जीवन-दर्शन पर संगोष्ठी में प्रवचन प्रदान करेंगे। चित्तौड़गढ़ के स्थानीय साहित्यकारों, एवं चिन्तकों के अतिरिक्त राजस्थान के अन्य भागों के विद्वान साहित्यकार तथा ‘वैचारिकी’ पत्रिका के सम्पादक, भारतीय विद्यामन्दिर शोध प्रतिष्ठान कोलकाता के डा. बाबूलाल शर्मा भी इस संगोष्ठी में पधारेंगे।

मीरा महोत्सव के अन्तर्गत 11 अक्टूबर को प्रातः 8.00 बजे चित्तौड़ दुर्ग पर मीरा मन्दिर में मीरा भजन, भक्ति संगीत एवं संकीर्तन का कार्यक्रम होगा। पूज्य सन्त बालव्यास राधाकृष्ण जी महाराज, उनके सहयोगी कलाकार तथा पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र उदयपुर की ओर से मेड़ता के भजन कलाकारों का दल मीरा भजनों एवं भक्ति संगीत की प्रस्तुति करेंगे।

सम्मान समारोह
मीरा महोत्सव के अवसर पर मीरा एवं मेवाड़ पर उल्लेखनीय साहित्यिक योगदान, शोध एवं लेखन के लिए ब्रजेन्द्रकुमार सिंहल (जयपुर), डा. भगवतीशरण मिश्र (दिल्ली), राजेन्द्रशंकर भट्ट (जयपुर), देवीप्रसाद बागड़ोदिया (डिब्रूगढ़-असम) तथा दीपचन्द सुथार (मेड़ता सिटी) को ‘मीरा सम्मान पुरस्कार’ से सम्मानित किया जायेगा। इसी प्रकार ‘सन्त-भक्त मीरा सारस्वत सम्मान’ नाथद्वारा के वयोवृद्ध साहित्यकार एवं हिन्दी साहित्य सम्मेलन प्रयाग के सभापति भवगतीप्रसाद जी देवपुरा को प्रदान किया जाएगा। महाकवि गुलाब खण्डेलवाल मीरा काव्य पुरस्कार से जोधपुर की डा. रेणुशाह को सम्मानित किया जाएगा।
प्रतियोगिताओं का आयोजन

महोत्सव के दौरान आयोज्य प्रतियोगिताओं के समन्वयक और संस्थान के सहसचिव जे.पी. भटनागर के अनुसार मीरा भजन प्रतियोगिता 9 अक्टूबर सुबह 11 बजे श्री सांवलिया विश्रान्तिग्रह में होगी, जिसमें 13 वर्ष तक और 13 से अधिक वर्ष की आयु के प्रतिभागी दो वर्गो में भाग ले सकेंगे। इस हेतु प्रविष्टियां 5 अक्टूबर तक संयोजक या संस्थान सचिव को दी जा सकती है। एक अन्य प्रतियोगिता ‘मीरा-कृष्ण बनो’ रखी गई है। 9 अक्टूबर को ही शाम 7 बजे होने वाली इस प्रतियोगिता में आयु के अनुसार दो वर्ग होंगे। एक वर्ग 6 वर्ष तक और दूसरा वर्ग 6 से 15 वर्ष की आयु वर्ग का होगा। प्रविष्टियां 7 अक्टूबर तक मांगी गई है।मीरा महोत्सव-2011 के विशेष आकर्षण ‘नानीबाई का मायरा’ की कथा तथा अन्य कार्यक्रमों के सफल आयोजन के लिए सभी आवश्यक तैयारियाँ की जा रही है।

योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

डॉ. ए. एल. जैन
(चित्तौड़ नगर के शिक्षाविद हैं.जो कोलेज शिक्षा से सेवानिवृत प्राचार्य हैं.वर्तमान में भगवान् महावीर मानव समिति चित्तौड़गढ़ के 
 अध्यक्ष,मीरा स्मृति संस्थान के सह सचिव,स्पिक मैके के वरिष्ठ सलाहकार होने के साथ ही वे इस आन्दोलन में संयोजन मंडल में हैं)
ए-64,शुभम,बापू नगर,सैंथी,चित्तौड़गढ़-राजस्थान 
draljain@gmail.com,9414109779


SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template