''शिक्षा के क्षैत्र में हो रहे राजनीतिक हस्तक्षेप को रोकने के लियें स्वायत्त प्राधिकरण की आवश्यकता है''-प्रो. एम.एस. अगवानी - Apni Maati Quarterly E-Magazine

नवीनतम रचना

''शिक्षा के क्षैत्र में हो रहे राजनीतिक हस्तक्षेप को रोकने के लियें स्वायत्त प्राधिकरण की आवश्यकता है''-प्रो. एम.एस. अगवानी


उदयपुर
शिक्षा के क्षैत्र में हो रहे राजनीतिक हस्तक्षेप को रोकने के लियें चुनाव आयोग की तर्ज पर एक स्वायत्त  प्राधिकरण की आवश्यकता है। उच्च शिक्षा में बदलाव की दिशा को तय करने के पश्चात् ही प्रभावी कदम उठाने की जरूरत है उक्त विचार डा.मोहन सिंह मेहता मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा आयोजित उच्च शिक्षा की चुनौतिया, विषयक संवाद में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय दिल्ली के पूर्व कुलपति प्रो. एम.एस. अगवानी ने व्यक्त  किये। प्रो. अगवानी ने उच्च शिक्षा की स्थिति पर दुःख व्यक्त करते हुये कहा कि विश्व के बेहतरिन दौ सौ विश्वविद्यालयों में भारत का एक भी विश्व विद्यालय सम्मिलित नही है।  कोटा ओपन विश्वविद्यालय के निदेशक प्रो. अरूण चतुर्वेदी ने कहा कि उच्च शिक्षा के विस्तार की संरचनाओं का दायित्व नीजी क्षैत्र को देना खतरे से खाली नही है। उच्च शिक्षा से जुडी सभी गतिविधियों का आंकलन किये बिना विस्तार की दिशा में बढ़ना आत्मघाती होगा।

विद्याभवन महात्मा गांधी शिक्षक प्रशिक्षण के निदेशक प्रो. एम.पी. शर्मा ने उच्च शिक्षा में विजन की जरूरत बतलाते हुये शिक्षण प्रशिक्षण के क्षैत्र में हो रहे शोध पर चिन्ता व्यक्त की।   प्रो. शर्मा ने कहा कि विश्वविद्यालयों में शिक्षा और शिक्षण का स्तर गंभीर हालत में है। शिक्षा विद प्रो. एस.बी.लाल ने कहा कि विश्व विद्यालयों को संवाद का केन्द्र होना चाहिये। प्रो.लाल ने उच्च शिक्षा व्यवस्था का आंकलन करते हुये शोध प्रशाषन और विस्तार सेवाओं में थिंकटेंक की आवश्यकता पर बल दिया। वास्तुकार बी.एल. मंत्री ने तकनीकि शिक्षा की व्यवस्था पर चिन्ता प्रकट करते हुये उसमें आमूल सुधार आवश्यकता बतलाई सामाजिक कार्यकर्ता शान्तीलाल भण्डारी एंव डा.बी.एल. कूकडा ने मूल्य नीष्ठ उच्च शिक्षा की वकालत करते हुये विश्व विद्यालयों को स्वायत्ता देने की बात की। गांधीवादी डा. सुशील दशोरा तथा पर्यावरण विद् मन्नाराम डांगी ने शिक्षा के व्यावसायिकरण पर शोक प्रकट करते हुये सम्पूर्ण शिक्षा व्यवस्था में ही परिवर्तन की आवश्यकता बतलाई।
स्वागत करते हुये ट्रस्ट सचिव नन्द किशोर शर्मा ने उच्च शिक्षा की वर्तमान चुनौतियों पर प्रकाश डाला।संवाद में सोहनलाल तम्बोली, एम.एम.खान, एम.एस. राणावत, तेजशंकर पालीवाल, एडवोकेट प्रभुलाल बुनकर मोहम्मद जावेद आदि ने भाग लिया। धन्यवाद नितेश सिंह कच्छावा ने ज्ञापित किया।

योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-


नंद किशोर शर्मा

मोहन सिंह मेहता मेमोरियल ट्रस्ट सचिव
संपर्क सूत्र :-0294&3294658, 2410110 ,
msmmtrust@gmail.com,
SocialTwist Tell-a-Friend

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here