Latest Article :
Home » , , » नामवर सिंह के विचार एक प्रतिगामी प्रवृति है - जसम

नामवर सिंह के विचार एक प्रतिगामी प्रवृति है - जसम

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on सोमवार, अक्तूबर 10, 2011 | सोमवार, अक्तूबर 10, 2011


विवाद पैदा करना और उन विवादों को हवा देना प्रसिद्ध आलोचक और प्रगतिशील लेखक संघ के अध्यक्ष नामवर सिंह की पुरानी आदत है। लखनऊ में आयोजित प्रगतिशील आंदोलन की 75 वीं सालगिरह के मौके पर भी उन्होंने यही किया। देश के विभिन्न हिस्सों से आये लेखकों को सुनना उन्हें मंजूर नहीं था। वे या तो उदघाटन के समय अवतरित हुए या फिर समापन पर और जब सामने आये तो  कुछ उपदेश दिया या कुछ चिकोटी काटने वाले अन्दाज में खरी खोटी सुनाई। जन संस्कृति मंच, राही मासूम रज़ा एकेडमी तथा अलग दुनिया ने इनके द्वारा प्रगतिशील लेखक संघ के हीरक जयन्ती समारोह में कही बातों पर कड़ी आपति जताई है तथा कहा है कि दलित व स्त्री लेखन तथा आरक्षण के सम्बन्ध में उनके विचार दलित व स्त्री विरोधी है। 

जसम के संयोजक कौशल किशोर, राही मासूम रज़ा एकेडमी के महामंत्री रामकिशोर, अलग दुनिया के के0 के0 वत्स, नाटककार राजेश कुमार, कवि भगवान स्वरूप कटियार ने अपने संयुक्त बयान में कहा है कि प्रगतिशील आंदोलन हमेशा से महिलाओं, दलितों, समाज के कमजोर वर्गों के लिए संघर्ष करके तथा उन्हें नायकत्व प्रदान करके ही आगे बढ़ा है। प्रगतिशील साहित्य हाशिए पर खड़े शोषितों, उत्पीड़ितों की पीड़ा, संघर्ष और उनकी मुक्ति की प्रबल आकांक्षा का साहित्य है। ंऐसे में नामवर जी द्वारा प्रलेस की हीरक जयन्ती के अवसर पर व्यक्त विचार प्रगतिशील आंदोलन को न सिर्फ कमजोर करेगा बल्कि उसकी विश्वसनीयता के लिए भी संकट पैदा करेगा। नामवर जी के इस तरह के विचारों से अन्ततः ब्राहमणवादी पितृसŸाात्मक सोच को ही बढ़ावा मिलेगा।बयान  में आगे कहा गया है कि नामवार जी का यह कथन कि मौजूदा दलित व स्त्री लेखन जिस ‘भोगे हुए यथार्थ’ को मान्यता देता है, यदि उसे मान लिया जाय तो सारा प्रगतिशील लेखन खारिज हो जाता है। नामवर जी की यह टिप्पणी दलित व स्त्री लेखन का सरलीकरण है। दलित आंदोलन और स्त्री आंदोलन  हमारे देश की जटिल सामाजिक संरचना व यथार्थ की देन है। प्रगतिशील आंदोलन का यह कार्यभार है कि वह समाज के जनतांत्रिकरण की प्रक्रिया में इस आंदोलन के साथ संवाद स्थापित करे तथा इनके साथ एकताबद्ध हो।

बयान में यह भी कहा गया है कि  नामवर जी का यह कथन कि भारत को चीन ने तीन तरफ से घेर रखा है तथा इससे भारत के लिए खतरा बढ गया है, यह नामवर जी का अंधराष्ट्रवाद है। सच्चाई तो यह है कि भारत के लिए वास्तविक़ खतरा देश के अमेरीकीकरण से है तथा देश के शासकों द्वारा अपनाई जा रही अमरीकापरस्त व अमीरपरस्त नीतियों से है जिससे न सिर्फ भारत की सामा्रज्यवादियों पर निर्भरता बढ़ी है बल्कि इसने देश की आजादी व संप्रभुता के लिए भी गंभीर संकट पैदा किया है। क्या इस सच्चाई को नकारा जा सकता है कि हमारे देश का शासक वर्ग अमेरीकी शह पर इस महाद्वीप में क्षेत्रीय महाशक्ति की महत्वकांक्षा पाले हुए है। समारोह में आये कई लेखकों ने भी नामवर जी के दलित व स्त्री विरोधी विचारों की आलोचना की थी। जसम के संयोजक कौशल किशोर ने इसका स्वागत किया है कहा है कि नामवर जी के विचार एक प्रवृति है जो बहुत से प्रगतिशील लेखकों में मिलते है। इनके विरुद्ध संघर्ष चलाकर ही प्रगतिशील व जनवादी सांस्कृतिक आंदोलन को आगे बढाया सकता है।

योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

जन संस्कृति मंच,लखनऊ के संयोजक हैं.लखनऊ-कवि,लेखक  के होने साथ ही जाने माने संस्कर्तिकर्मी हैं.

एफ - 3144, राजाजीपुरमलखनऊ - 226017
मो - 08400208031, 09807519227
SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template