Latest Article :
Home » , » खादों के इस्तेमाल से कृषि उत्पादन बढ़ाने के बजाय कृषि भूमि बर्बाद हो गयी है''-मन्नाराम डांगी

खादों के इस्तेमाल से कृषि उत्पादन बढ़ाने के बजाय कृषि भूमि बर्बाद हो गयी है''-मन्नाराम डांगी

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on बुधवार, नवंबर 16, 2011 | बुधवार, नवंबर 16, 2011

उदयपुर,

हरित क्रान्ति की तकनीक भारत सहित  दक्षिणी एशिया के देशों के अनुकुल नहीं है। भारत में कृषि विकास तथा मिट्टी के उपजाऊ पन को बरकरार रखने की कई प्राचीन विधियां है। जिन्हें सजीव करने की जरूरत है। उक्त विचार ख्यात नाम वैज्ञानिक एवं ओरगेनिक कृषि के हितेषी डा. जी.एन. रेड्डी ने डा. मोहनसिंह मेहता मेमोरियल ट्रस्ट एवं प्रयत्न समिति द्वारा आयोजित ‘‘प्राकृतिक एवं जैविक कृषि’’ विषयक संवाद में व्यक्ति किये। डा. रेड्डी ने कहा कि कृषि उत्पादन बढ़ाने के क्षेत्र में दक्षिणी एशिया का अपना दर्शन होना  चाहिये।  भारत जैसे देश में परम्परागत कृषि विधियों की देशी तकनीक विकसित किये बिना सतत् उत्पादन बढ़ाना मुश्किल होगा। 

सभा की अध्यक्षता करते हुए एडवोकेट मन्नाराम डांगी ने कहा कि खेती मात्र व्यवसाय नहीं वरन् आजीविका है। रासायनिक खादों के इस्तेमाल तथा मोनसेन्टो बीजों के प्रयोग से कृषि उत्पादन बढ़ाने के बजाय कृषि भूमि बर्बाद हो गयी है। कृषि विशेषज्ञ डा. शैलेन्द्र तिवारी ने दक्षिणी राजस्थान में बढ़ते बी.टी. कपास के क्षेत्र पर चिन्ता व्यक्त करते हुए इसे भविष्य के लिये आत्मघाती बतलाया। पूर्व मत्स्य पालन निदेशक ईस्माल दूर्गा ने मत्स्य पालन में बढते रसायनों के उपयोग पर चिंता व्यक्त की। पूर्व पार्षद अब्दूल अजीज खान ने फलों, सब्जीयों में बढते रासायनिकों पर गंभीर आपती दर्ज करवाई।  आस्था के भवंर सिंह चदाणा ने सरकार की कृषि नितियों में बदलाव की जरूरत बताई। ट्रस्ट सचिव नंदकिशोर शर्मा ने कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिये विभिन्न रसायनों के प्रकोप पर चिंता व्यक्त करते हुऐ प्राकृत, जैविक कृषि विद्या पर शोध की जरूरत बतलाई। प्रयन्त संस्था के निदेशक मोहन डांगी ने कहा कि ओरगेनिक कृषि ही भारतीय कृषि को दिशा दे सकती है। संवाद में वरिष्ठ नागरिक मंच के एस.एल. तम्बोली, जागरण के गुडहरी वर्मा, खजूरी विकास संस्था के बंशीलाल गर्ग, आस्था के राघवदत्त व्यास, एस.पी. डब्लू, डी.के. डा. जगदीश ने भाग लिया।  स्वागत एवं धन्यवाद नीतेश सिंह ने ज्ञापित किया। 

योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

नंद किशोर शर्मा

मोहन सिंह मेहता मेमोरियल ट्रस्ट सचिव
संपर्क सूत्र :-0294&3294658, 2410110 ,
msmmtrust@gmail.com,
SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

1 टिप्पणी:

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template