पर्वत राग का लीलाधर जगूड़ी विशेषांक जारी - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

पर्वत राग का लीलाधर जगूड़ी विशेषांक जारी


ऊना,हिमाचल प्रदेश 
कला, संस्कृति व साहित्य को समर्पित पत्रिका पर्वत राग का बहुप्रतीक्षित लीलाधर जगूड़ी विशेषांक प्रकाशित हो गया है। इस अंक में लीलाधर जगूड़ी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर उनके समकालीन लेखकों व अन्य शब्द- शिल्पियों ने बहुमूल्य सामग्री दी है। साथ ही लीलाधर जगूड़ी से विभिन्न लेखकों द्वारा लिए गए बेबाक साक्षात्कार भी हैं । इस अंक में लीलाधर जगूड़ी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर जिन प्रमुख लेखकों की रचनाएं पर्वत राग में शामिल हैं, उनमें कुंवर नारायण, मुद्रा राक्षस, गिरधर राठी, मंगलेश डबराल,राजेश जोशी,  अरुण कमल, विजय कुमार, विष्णु नागर, नरेन्द्र मोहन सत्यपाल सहगल, मदन कश्यप, ओम निश्चल, अनूप सेठी, रेवती रमण ,अग्निशेखर,  अवधेश प्रीत, शिरीष कुमार मौर्य, मधुकर भारती, महेश चंद्र पुनेठा, नवनीत शर्मा, प्रेम साहिल, अमित तरव, सुरेश उनियाल, नवीन चंद्र लोहनी, सुधीर महाजन, ओम नागर, शशिभूषण बडोनी, विपिन कुमार शर्मा ,मोनू सिंह व नीलम प्रभा वर्मा शामिल हैं।

 इसके अलावा इस अंक में गीताश्री, भरत प्रसाद, लाल्टू, कुलदीप शर्मा, के.आर.भारती, प्रतिभा कटियार, लीना मल्होत्रा, भूपिन्द्र कौर प्रीत, शरवाणी बैनर्जी व गुरमीत बेदी की कविताएं, संतोष शैलजा की लघु उपन्यासिका, डा. तारिक कमर, गौतम राजरिशी व अखिलेश तिवारी की गजलें हैं। पर्वत राग के इस विशेषांक का मूल्य नब्बे रूपए है। पंजीकृत डाक से मंगवाने के लिए 36 रूपए अलग से जोड़ने होंगे।  रचनाकारों के अलावा पर्वत राग के आजीवन व वार्षिक सदस्यों को अंक की मुद्रित प्रति डाक से भेजी जा रही है। आपकी बहुमूल्य राय का इंतजार रहेगा। इंटरनेट पर पर्वत राग का लीलाधर जगूड़ी विशेषांक पढ़ने के लिए www.parvatraag.com 

योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

संपादक, 

पर्वत राग,

सैट नंबर- 8, टाईप- 4,
डीसी कालोनी, ऊना- 174303
हिमाचल प्रदेश                                                                            09418033344


SocialTwist Tell-a-Friend

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here