''दुष्यंत कुमार लोकतंत्र के बड़े एवं उम्मीदों के कवि थे।''-प्रो. नंद चतुर्वेदी - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

''दुष्यंत कुमार लोकतंत्र के बड़े एवं उम्मीदों के कवि थे।''-प्रो. नंद चतुर्वेदी


उदयपुर
कवि-शायर दुष्यंत कुमार की पुण्यतिथि पर आयोजित
 स्मराणांजलि कार्यक्रम में मंचासीन अतिथि।
30 दिसम्बर। दुष्यंत कुमार लोकतंत्र के बड़े एवं उम्मीदों के कवि थे। लोकतंत्र में उम्मीद एवं ना उम्मीद दोनों भाव होते हैं पर दुष्यंत कुमार नाउम्मीदी के बीच उम्मीद के कवि-शायर थे। दुष्यंत की शायरी बर्फानी झील में रोशनी और उष्मा देने वाली रही है। ये विचार प्रो. नंद चतुर्वेदी ने  कवि-शायर दुष्यंत कुमार की पुण्यतिथि पर आयोजित स्मराणांजलि कार्यक्रम में व्यक्त किए। कार्यक्रम का आयोजन  प्रसंग संस्थान एवं वर्धमान महावीर कोटा खुला विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में किया गया।वर्धमान महावीर कोटा खुला विवि सभागार में आयोजित कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि लोककलाविज्ञ डॉ. महेन्द्र भानावत ने कहा कि दुष्यंत कुमार भाषाई सौहार्द के कवि थे। उन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में विश्वास जगाया एवं नवोदित कवि-शायरों को गजलों की परंपरा दी। 

प्रारंभ में विश्वविद्यालय के निदेशक डॉ. अरूण चतुर्वेदी ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम का संयोजन करते हुए प्रसंग संस्थान के संस्थापक-अध्यक्ष डॉ. इन्द्र प्रकाश श्रीमाली ने दुष्यंत कुमार के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में खलील तनवीर, इकबाल सागर, मुश्ताक चंचल, शिवरतन तिवारी, हाजी मोहम्मद आदिल आदि ने भी शायर दुष्यंत कुमार की सृजन-यात्रा पर विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर दुष्यंत कुमार की चर्चित गजलों को डॉ. रजनी चतुर्वेदी, डॉ. देवेन्द्रसिंह हिरण एवं डॉ. प्रेमसिंह भंडारी ने सस्वर प्रस्तुत किया। प्रसंग संस्थान की महासचिव डॉ. मंजु चतुर्वेदी ने दुष्यंत कुमार के साहित्यिक अवदान को रेखांकित करते हुए सभी सुधि श्रोताओं का आभार प्रकट किया। कार्यक्रम में ए.एल. दमामी, डॉ. विश्वंभर व्यास, कौस्तुभ प्रकाश सहित कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।  

योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

डॉ. मंजु चतुर्वेदी
महासचिव
प्रसंग संस्थान,
49,खारोल कोलोनी,फतहपुरा,उदयपुर 
SocialTwist Tell-a-Friend

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here