Latest Article :
Home » , , , » रपट:''शमशेर वो नदी है जिस पर पुल नहीं बनता।''-प्रो0 निर्मला

रपट:''शमशेर वो नदी है जिस पर पुल नहीं बनता।''-प्रो0 निर्मला

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on शनिवार, जनवरी 07, 2012 | शनिवार, जनवरी 07, 2012


मेरठ:-
शमशेर की कविता को जरा गौर से पढ़ना होगा। उनकी कविता अन्तःकरण में सीधे नहीं उतरेगी उससे सम्वाद करने के लिए विशेष तरह की तैयारी की जरूरत है। यह विचार आज हिन्दी विभाग द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठीशमशेर बहादुर सिंह व्यक्तित्व एवं उनकी रचनाधर्मितामें  उदघाटन सत्र में दिल्ली विश्वविद्यालय की पूर्व विभागाध्यक्ष एवं जानी-मानी आलोचक प्रो0 निर्मला जैन ने कहा कि यह गौरव की बात है कि इतना बड़ा कवि स्थानीय स्तर पर हुआ। शमशेर की स्थिति दो मेडों पर खड़े हुए कवि की स्थिति है। उन्होंने वामपन्थी और प्रेम दोनों ही तरह की कविताएं लिखी। उन्हें रूप का कवि, एन्द्रियता का कवि तथा बिम्बों का कवि कहा गया। शमशेर उनमें से एक हैं जिन्होंने ऊँचाई ग्रहण की। उन्होंने कहा कि हम सभाओं, संगोष्ठियों में वहीं कह रहें है जो अब से पहले शमशेर के संदर्भ में कहा गया है। आज जरूरत इस बात की है कि शमशेर की कुछ ऐसी कविताएं खोजी जाए जो सीधे-सीधे पर्यावरण नष्ट होने की समस्या से, बाजारवाद से, भूमण्डलीकरण से संबंध रखती हों। जिन्होंने उसे आज का कवि बना दिया है। कुछ शोधार्थी उनके अनदेखे पक्षो पर शोध करें। प्रो0 निर्मला ने कहा कि मैं आज तक यह समझ नहीं पाई कि शमशेर कोकवियों का कविक्यों कहा गया है। शमशेर जनता के कवि है, पाठक मात्र के कवि हैं। ’’हम बोलेंगे-बात बोलेगी।’’ जैसी उनकी पंक्ति से पता चलता है कि यहां व्यक्ति का महत्व नहीं बल्कि रचना का महत्व है। 

शमशेर की कविता हिन्दी कविता में स्वाभिमान   निर्भयता की आवाज हैइसलिए वे कवियों के कवि हैं। शमशेर की कविता में बड़े धीमे-धीमे गाड़ी चलती है जो हिंदी कविता की निर्भयता की अदम्य आवाज है। शमशेर के यहाँ कविता मनुष्य की सबसे अदम्य आवाज है, वह समयबद्ध होते हुए भी समयातीत है। शमशेर ने कहा भी है कि ऐतिहासिक राजनीति को परास्त करती हुई कविता भाषा की कालातीत राजनीति है। कुछ कवि शमशेर को अपना मॉडल बनाकर उनके जैसी कविता करना चाहेंगे। यदि यह कवि किसी का आदर्श है तो उसका आदर्श कौन है ? वह हैं निराला। निरला और शमशेर में समानता यह है कि दोनों समतल नहीं है। हर बड़ा कवि अनुकरणीय नहीं होता। निराला और शमशेर का कोई अनुकरण नहीं। उनको कवियों का कवि कहने वाले कवि भी उनका अनुकरण नहीं कर सके। 

प्रो0 निर्मला ने कहा कि शमशेर वो नदी है जिस पर पुल नहीं बनता। शमशेर ऐसे कवि है जो सोहबत से समझ में आते है, धीरे-धीरे आपको गिरत में लेंगे, धीरे-धीरे प्रभाव डालेंगे। पचास साल तक शमशेर ने निरन्तर कविता लिखी।एक पीली शाम’, ’बेठौस’, ’एक आदमी’, ’उषा’, ’कत्थई गुलाब’, ’एक निला दरिया बरस रहातथाबैलउनकी प्रसिद्ध कविताएं हैं।बैलकविता कवि की आत्मस्वीकृती है। शमशेर गहन संवेदनशीलता के कवि हैं, उनके अनुभवों पर विचार हावी नहीं होता। शमशेर की कविता गढी हुई नहीं- विचार उनपर हावी नहीं होता। प्रेम की पीडा, अकेलेपन का अवसाद ये जीवन निरपेक्ष नहीं है। शमशेर बाहर तक पीडा का विस्तार करते हैं। जितने शोकगीत शमशेर ने लिखें शायद ही बाद के किसी कवि ने लिखे हों। एक मित्र के दिवंगत शिशु की याद में भी उन्होंने शोकगीत लिखा। उनकी एक भी ऐसी कविता नहीं जहां किसी के प्रति कोई काँटा हो, किसी का अपमान हो। प्रो0 निर्मला ने कहा कि उनकी भाषा सीमित काव्य भाषा नहीं बल्कि स्थापत्य, चित्र और संगीत उनकी भाषा में हैं। उन्होंने ग्रीक भाषा पर कविता लिखी, मणिपुरी भाषा की ध्वनियों पर कविता लिखी। उनकी लय शब्दों की नहीं, अर्थ की लय हुआ करती थी। उन्होंने खड़ीबोली को बोली की तरह इस्तेमाल किया – ’निंदिया सतावै मौहे।अंत में प्रो0 निर्मला ने कहा कि शमशेर को पूरा नहीं बल्कि चयन करके पढ़ना चाहिए, उनके पोजेटिव को ही ग्रहण करना चाहिए।

कुलपति डॉ. विपिन गर्ग ने कहा कि ऐसे कार्यक्रम विभाग में लगातार आयोजित हो ऐसी मेरी अपेक्षा है। आज हम जिस व्यक्तित्व के विशलेषण के लिए इकट्ठा हुए है जहां तक मेरी सोच है तो – ’’जब कोई रचना करता है तो बस वो करता है, उसके बारे मे विष्लेषण करना, हमारी समझ है तथा परिवेश है, ऐसी मेरी समझ है।’’ कहकर उनके व्यक्तित्व एवं रचनाधर्मिता की सराहना की।

दिल्ली से आए डॉ. रामेश्वर राय ने व्यक्त करते हुए कहा कि शमशेर की कविता विशेष तैयारी की मांग करती है। शमशेर की कविता के कथ्य ज्यादा परिचित नहीं। कथ्य का अपरिचयपन ही जटिलता है। विजय देव नारायण साही ने कहा है कि शमशेर बुनियादी रूप से दुरूहता के कवि हैं। प्रो0 राय ने मलयज की पंक्तियां व्यक्त करते हुए कहा कि शमशेर की कविता की कुछ निजी मांगे हैं। शमशेर की कविता का संसार आपा-धापी वाले संसार से बिलकुल अलग है। सामान्यतः शमशेर की चर्चा प्रगतिवादी कवि के रूप में होती है। वे अज्ञेय मुक्तिबोध शमशेर-नागार्जन मुक्तिबोध शमशेर- दोनों तरफ की त्रयी में आते हैं। शमशेर सौंदर्य के कवि है तथा साथ ही माक्र्सवादी रचनाकार भी। उन्होंने कहा कि हमें यह देखना है कि शमशेर माक्र्स के बारे मे क्या कहते है ? माक्र्स के साथ उनकी कविता का क्या संबंध है ? इन प्रश्नों के संकेत देते हुए शमशेर ने कहा है – ’’मैं उस अर्थ में कभी माक्र्सवादी नहीं रहा जिस अर्थ में मेरे प्रगतिशील कवि रहे हैं। माक्र्सवाद मेरी जरूरत थी, माक्र्स ने मुझे उबारा।’’ माक्र्सवाद उनकी पूरी अन्तश्चेतना पर छाया हुआ था और वह कहते थे कि मुझे हर वह चीज आकर्षित करती है जो मेरी प्रकृति से भिन्न है। माक्र्स के प्रति उनका रूझान प्रकृति की भिन्नता के कारण है। उन्होंने दर्जनों कविता माक्र्सवाद पर लिखी इसलिए माक्र्सवादी सिद्ध हो सकते हैं उनकी ऐसी ही कविताओं को नामवर सिंह ने प्रमाणवाद की कविता कहा है। कविताओं के आधार पर यह कहना कठिन नहीं कि उन्होंने मजदूरों पर, आन्दोलनों पर, प्रभातफेरियो पर कविताएं लिखी। 

शमशेर की कविता वैयक्तिकता की कविता है या निजता की कविता है। यह देख कर ही 1956 0 में नामवर सिंह ने उनकी कविताओं को एकालाप की कविता कहा है। प्रो0 राय ने कहा कि शमशेर ने जिन विषयों पर कविता लिखी कविता प्रतिरोध का निर्माण करती है। यह देखकर ही उदय प्रकाश ने कहा था कि शमशेर प्रेम के अद्वितीय रचनाकार है। उनकी सामाजिक राजनैतिक कविता में अपने साथियों पर लिखा, राजनीति पर लिखा। यह सोचने का विषय है कि प्रेम का इतना बड़ा कवि प्रेम या प्रकृति पर लिखते हुए कोई प्रतिरोध पैदा करता है या नहीं। प्रेम के वो बहुत वाचाल कवि है। उनकी पंक्तियां है – ’’तुम मुझसे प्रेम करो, जैसे मछलियाँ पानी से करती हैं। तुम मुझसे प्रेम करो, जैसे मैं तुमसे करता हूँ.।’’ यह साफगोई शमशेर में बच्चन से भी कई अधिक दिखाई देती है। एक खास तरह की सघन एन्द्रियता उनके काव्य में दिखाई देती है। शमशेर ने कई जगह अपने अकेलेपन की चर्चा की है – ’’कोई पास नहीं, वजूज एक सुराही के, वजूज एक चटाई के, वजूज एक आकाश के।’’  प्रो0 राय ने कहा कि शमशेर सिर्फ एक सुराही, सिर्फ एक चटाई, सिर्फ खुले आकाश के साथ अकेले रह सकते हैं। खुश रहने की जो यह स्वीकृति है, साहस है, वह बाजार की पूरी संग्रहकारी बाजारवादी संस्कृति के विरोध में है। शमशेर की कविता अकादमिक विचारधारा की कविता नहीं बल्कि ऐसी कविता है जो मनुष्य की विडम्बनाओं को देखती है।

डीन कला संकाय प्रो0 आर0एस0 अग्रवाल ने कहा कि शमशेर हमारे विश्वविद्यालय परिक्षेत्र के अंग रहे है, ऐलम और देहरादून दूर नहीं। हमारे विश्वविद्यालय क्षेत्र के ऐसे व्यक्ति के विविध आयामों की चर्चा हिंदी विभाग ने की, ये गौरव का विषय है। शमशेर ने अनुभव विचार को आख्यान में बदल दिया, इस तथ्यात्मक प्रस्तुति को हम आख्यान कहते हैं, यह कहानी नहीं। शमशेर अपने आप में एक संस्था थे, संस्था वहीं होता है जिसके इर्द-गिर्द बहुत सी प्रतिभाएं घुमती है। हम उन्हें संस्था के रूप में देखकर विचार करें। उनके व्यक्तित्व, रचनाशीलता का मूल्यांकन यदि निष्पक्ष रूप से किया जाएं तो शमशेर एक संस्था के रूप में दिखाई देंगे। आज की संगोष्ठी निश्चित रूप से फलदायी होगी, विश्वविद्यालय के लिए यह गौरव का विषय है। उद्घाटन सत्र का संचालन ललित कुमार सारस्वत, परियोजना अध्येता, उत्कृष्ट अध्ययन केन्द्र, हिन्दी विभाग ने किया।

संगोष्ठी के दूसरे सत्र ’’शमशेर की कविता के विविध आयाम’’ में इस सत्र की अध्यक्षता करते हुए कवि पद्मश्री लीलाधर जगूडी ने कहा कि शमशेर को समझने के लिए खास तैयारी की जरूरत है। शमशेर से टक्कर लेनी चाहिए वे शब्दों को गायब कर देते है, जैसे – ’एक नीला आइना बेठोस।’ – इससे वह केवल आकाश कहना चाहते है और आकाश जिस दिन ठोस हो जाएगा तो मैं हाथ पैर भी नहीं हिला पाऊगां। ऐसा बिम्ब पूरे साहित्य में नहीं मिलता। उन्हें समझने के लिए उनकी भाषा को, बिम्बों को जानना होगा। शमशेर ने निराला के बाद एक नई काव्य भाषा का निर्माण किया। निराला की भाषा को ढकेलते हुए शमशेर ने उस भाषा में सुन्दर और शानदार कविता रची। वे प्रतिरोध के कवि हैं उन्होंने माक्र्सवाद को भी कविता से अलग किया। शमशेर ने कहीं कहीं प्रगतिशीलता को माक्र्सवादी दृष्टिकोण से अलग किया। ’’अब गिरा, अब गिरा वह अटका हुआ, सान्ध्यतारक सा।’’ इन पंक्तियों में जीवन की, प्रेम की, बहुत बड़ी व्यंजना मिलती है।

इस सत्र में डॉ.जितेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि एक नये कवि के रूप में जब मैं उन्हें देखता हूँ, कविता की कला सीखने के लिए मैं जिन लोगों के पास जाता हूँ उनमें पहला नाम शमशेर का है। उनकी कविता अपने आप को पहचाने का सलीका सीखाती है, आप सीखते जायेंगे कि एक अच्छी कविता के क्या-क्या गुण हों ? आप सौन्दर्यवादी हो या माक्र्सवादी हो, आप को बस कविता की बेसिक समझ होनी चाहिए। कविता की फॉर्म में लिखी हुई हर कविता कविता ही हो यह जरूरी नहीं, कविता की पहचान है कि यह सिखाती है। क्या कविता है और क्या कविता नहीं यह शमशेर की कविता के साथ जुड़ने पर साफ हो जाता है। डॉ.जितेन्द्र ने कहा कि शमशेर विशिष्ट है, पर विशिष्टबोध के कवि है, यह ठीक नहीं, आम आदमी के कवि है। शमशेर की कविता ऊँचाईयों के लिए दम भरती है, ये क्रान्तिकारी कविताएं है या सौन्दर्यवादी कविताएं, इस पर विचार किया जाना चाहिए।

प्रो0 दुर्गाप्रसाद गुप्त ने कहा कि शमशेर की पूरी कविता पर पश्चिमी आंदोलनों का प्रभाव है। उस पर प्रतीकवाद, प्रभाववाद, रूपवाद, दादावाद, व्यंजनावाद का प्रभाव है। इसलिए पश्चिमी आंदोलनों के संदर्भ में शमशेर की कविताओं को देखा जाए। औपनिवेशिक दौर में दौ सौ वर्षों में हिंदी में जो मध्य वर्ग तैयार हुआ था, उससे भी शमशेर की कविता जुड़ती है। प्रो0 गुप्त ने कहा कि शमशेर को मैं इस रूप में देखता हूँ कि वो बोलियों के मर्मज्ञ विद्वान थे साथ ही उनका उर्दू अंग्रेजी पर पूरा अधिकार था। उर्दू शायरी की परम्परा का प्रभाव शमशेर पर है तथा अंग्रेजी साहित्य का प्रभाव भी उनकी कविता पर देखा जाना चाहिए। इनकी कविताओं पर यथार्थवाद बिम्बवाद का प्रभाव भी है जो खुद शमशेर ने स्वीकार किया है। वे अतियथार्थवाद के निकट है। पश्चिम के आंदोलन आधुनिकतावादी आंदोलन है, उनकी कुछ कविताओं पर, उनके शिल्प पर, भाषा पर पश्चिम का प्रभाव है। उनकी कविता पूरा रंगों का महोत्सव है। उनकी कविता में संगीत है, संगीत का साथ है जो इससे पहले हिन्दी कविता में नहीं मिलेगा। शमशेर की कविताओं में रूमानी तत्व उर्दू से आते है और वे उसे एक नया रूप देते हैं। शमशेर इस नाते भी बड़े है कि जो कविता में है, वहीं उनके जीवन में है। साहित्य की पूरी नैतिकता, पवित्रता को शमशेर जैसा कवि बहुत सहेज कर आगे बढ़ाता है। आज शमशेर की कविता आदर्श हो सकती है। उनके साहित्य के नैतिक स्वरों को अगर देखे तो उनके जैसा उनका समकालीन कोई नहीं। पूरी पाश्चात्य परम्परा को सजोते हुए शमशेर कहाँ स्थापित होते हैं, यह सोचने का विषय है।

तृतीय सत्रशमशेर का गद्य और अन्य पक्षविषय पर केन्द्रित रहा। सत्र में मुख्य अतिथि प्रो0 प्रेमचन्द पातंजलि, दिल्ली ने कहा कि जब व्यक्ति जीवित रहता है तो उसे कोई याद नहीं करता, यही विडम्बना शमशेर के साथ भी रही। ईष्र्या जन्य पीढ़ी ने शमशेर को पनपने नहीं दिया। साहित्य के मठाधीशों ने उन्हें दूर रखा। वे किसी मठ से बंधने वाले कवि नहीं थे शमशेर निराला का कौरवी एडीसन है। मेरी इच्छा है कि उनके नाम पर पुस्तकालय अथवा स्मारक बनना चाहिए।

डॉ.गजेन्द्र सिंह ने कहा कि शमशेर आधुनिक सन्र्दभों में ऐसे साहित्यकार है जिन्हें पढ़ा जाना जरूरी है। शमशेर को साहित्यिक गुटबदियों के कारण उस तरह से नहीं पढ़ा गया जैसे पढ़ा जाना चाहिए। परिवेश से व्यक्ति अपने गद्य का निर्माण करता है। हर व्यक्ति संघर्ष से आगे बढ़ता है। जिस तरह निराला संघर्ष कर आगे बढ़े उसी प्रकार शमशेर भी। चाहे अज्ञेय हो, मुक्तिबोध हो या कीर्ती चैधरी, उनके बीच शमशेर ने अपना स्थान बनाया। शमशेर ने अपने गद्य में गाँव की समस्या, बेरोजगारी की समस्या को उठाया। अन्तरराष्ट्रीय संबंधों पर जैसा शमशेर ने लिखा, वैसा कोई नहीं लिख सका। प्रो0 मीरा गौतम ने शमशेर के गद्य से जुड़े कुछ ज्वलन्त मुद्दों की ओर संकेत किया। तृतीय सत्र का संचालन शोध छात्र मोनू सिंह ने किया।


योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-
प्रो.नवीन चन्द्र लोहनी
चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय,मेरठ 
SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template