Latest Article :
Home » , , , , , » कविता समय-2:छायाचित्र जो पच्चीस साल बाद और भी फबेंगे

कविता समय-2:छायाचित्र जो पच्चीस साल बाद और भी फबेंगे

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on मंगलवार, जनवरी 10, 2012 | मंगलवार, जनवरी 10, 2012


तिकड़ी:
बोधिसत्व, अनामिका, मंगलेश डबराल

हिमांशु पांड्या और प्रभात भैया 

कविता समय सम्मान 2012 इब्बार रब्बी साहब को

प्रांजल धर 

प्रभात सम्मान पाते हुए 

अंदाज़ ए अनामिका जी 

अशोक कुमार पाण्डेय 




आदित्य 


सभी छायाचित्र युवा फिल्म समीक्षक मिहिर पांड्या के हाथों क्लिक हुए जिन्हें यहाँ क्लिक कर ज्यादा जाना जा सकता है 

योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-



अशोक कुमार पाण्डेय 
  • जन्म:-चौबीस जनवरी,उन्नीस सौ पिचहत्तर 
  • लेखक,कवि और अनुवादक
  • भाषा में पकड़:-हिंदी,भोजपुरी,गुजराती और अंग्रेज़ी 
  • वर्तमान में ग्वालियर,मध्य प्रदेश में निवास 
  • उनके ब्लॉग:http://naidakhal.blogspot.com/
  • http://asuvidha.blogspot.com
सदस्य संयोजन समिति,कविता समय
SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template