Latest Article :
Home » , , , » रपट:कौन कहता है कि युवा पीढ़ी दिशाभ्रमित है ?

रपट:कौन कहता है कि युवा पीढ़ी दिशाभ्रमित है ?

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on मंगलवार, जनवरी 10, 2012 | मंगलवार, जनवरी 10, 2012


बून्दी
राजकीय महाविद्यालय में 3 जनवरी 2012 
 साहित्यिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘कजली महोत्सव

उद्घाटन, समारोह के मुख्य अतिथि दौसा सांसद डॉ.किरोड़ी लाल मीणा, विशिष्ठ अतिथि खीवसर विधायक हनुमान बेनीवाल तथा अध्यक्ष श्रीमान प्रहलाद गुंजल - पूर्व विधायक,रामगंज मण्डी ने की। मां सरस्वती के चित्र पर माल्यापर्ण, दीप प्रज्ज्वलन व सरस्वती वन्दना के पश्चात प्राचार्य, संकाय सदस्यों तथा छात्रसंघ पदाधिकारियों द्वारा अतिथियों का माल्यापर्ण किया गया। कार्यवाहक प्राचार्य डॉ.डी.के.जैन ने महाविद्यालय की उपलब्धियों को अतिथियों के सामने रखा।

मुख्य अतिथि डॉ.किरोड़ी लाल मीणा ने राजनीति भाषणबाजी से दूर रह कर छात्रों को प्रेरित करते हुए कहा कि देश को होनहार नौजवानों की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हम राजस्थान की धरती पर सिद्धान्त, नीति, भ्रष्टाचार मुक्त, सांस्कृतिक मूल्यों तथा मानवीय मूल्यों पर आधारित राजनीति के निर्माण के संकल्प के साथ काम करना चाहते है। हनुमान बेनीवाल ने कहा कि आज देश का नौजवान जाग चुका है। उसे ही आगे आना होगा। प्रहलाद गुंजल ने युवाओं को कहा कि छात्रसंघ चुनाव लोकतंत्र की पहली पाठशाला है। आज नौजवानों की राजनीति में रूची कम होती जा रही है जो देश और समाज के हित में नही हे। छात्रसंघ अध्यक्ष राजेन्द्र कुमार मीणा, उपाध्यक्ष  राजेन्द्र बैरवा, महासचिव रवीन्द्र राठौर, संयुक्त सचिव चन्द्रमणि धावरी ने अतिथियों का स्वागत एवं संबोधन किया तथा कॉलेज की समस्याओं से अवगत कराते हुए विकास में सहयोग की अपील की। छात्र/छात्राओं द्वारा ‘आओ जी आओ म्हारे हिवडे रा पावणा, है वतन की पहचान मेरे देश का झण्डा, और कालबेलिया नृत्य प्रस्तुत कर कार्यक्रम को रोचक बना दिया। कार्यक्रम का संचालन एवं संयोजन डॉ.ललित भारतीय ने किया तथा अतिथियों का परिचय डॉ.सीमा कश्यप ने दिया.

3 जनवरी 2012 को दो प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गयीं। रंगोली प्रतियोगिता में प्रथम रिजवाना बानो, द्वितीय शिल्पा सेन, तृतीय स्थान पर हरिओम बैरागी तथा शाबाद अंसारी ने संयुक्त रूप से प्राप्त किया। रंगोली प्रतियोगिता में डॉ.अर्चना जोशी, डॉ.मीनाक्षी भारती प्रतिभा किरण ने निर्णायकों की भूमिका निभाई। सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में मुकेश कुमार शर्मा, अर्पिता शर्मा, मनोज हाडा तथा देविका व्यास का ग्रुप विजेता रहा तथा मुकेश नागर, भगवान मीणा, विकास पांचाल और राजेन्द्र कुमार शर्मा का ग्रप उपविजेता रहा। सामान्य ज्ञान प्रश्नात्तरी प्रतियोगिता का संचालन डॉ.लालचन्द कहार, डॉ.ललित भारमीय, डॉ.पद्मचन्द भाटी, डॉ.सुरेन्द्र चन्देल व डॉ.दिलीप कुमार राठौर ने किया।

04 जनवरी 2012 को गीत, कविता, श्लोक, भजन, फिल्मी गीत आदि की उम्दा प्रस्तुतियों के साथ कजली महोत्सव जारी रहा। डॉ. आर.सी.मीणा एवं श्री गुरमीत सिंह द्वारा हिन्दी कविता पाठ प्रतियोगिता का आयोजन किया, जिसमें बनवारी लाल मीणा प्रथम, प्रवीणा टेलर द्वितीय एवं विकास पांचाल तृतीय स्थान पर रहे। अंग्रेजी कविता पाठ प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्रवीणा टेलर, द्वितीय स्थान अनीता कहार, तृतीय स्थान मोनिका वैष्णव ने प्राप्त किया। प्रतियोगिता के प्रभारी डॉ. राजीव शर्मा थे। संस्कृत श्लोक पाठ प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्रीति चित्तौड़ा एवं मुरलीधर शर्मा ने संयुक्त रूप से प्रथम स्थान, प्रवीणा टेलर द्वितीय स्थान, प्रियंका दाधीच तृतीय स्थान पर रही। इस प्रतियोगिता का संचालन डॉ. प्रतिभा किरण ने किया। स्थानीय व्याख्याताओं ने निर्णायकों की भूमिका अदा की। 

समूहगान प्रतियोगिता डॉ. विभा माथुर व डॉ. सीमा सांखला ने आयोजित की, जिसमें छात्र-छात्राओं ने सुरीले संगीत की समा बांधकर श्रोताओं को झूमने के लिए मजबूर कर दिया। कुरजां म्हारी हालो नी, धोरां वालो देश, मोला मेरे मोला, छाप तिलक सब छीना, ऐ मेरे प्यारे वतन जैसे गानों पर सुरीले संगीत के साथ रस बरसा दिया। इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान विभा श्रृंगी एण्ड समूह ने प्राप्त किया, द्वितीय स्थान विष्णु बारेठ एण्ड पार्टी ने, तथा तृतीय स्थान प्रिया भट्नागर एण्ड पार्टी ने प्राप्त किया। एकल गायन के प्रभारी श्री कैलाश पहाड़िया व वाद्य वादन के प्रभारी डॉ. ललित भारतीय थे। एकल गायन प्रतियोगिता में कुल 42 प्रतियोगियों में से प्रथम स्थान चांदनी वेष्णव,द्वितीय स्थान प्रियंका ठाकोर तथा तृतीय स्थान टीना भारती व मुरलीधर बारेठ ने संयुक्त रूप से प्राप्त किया। डॉ. राजेन्द्र माहेश्वरी ने प्रतियोगिता का संचालन किया। वाद्य-वादन प्रतियोगिता में प्रथम स्थान महावीर प्रसाद रावल, द्वितीय स्थान हरिशंकर भारती तथा तृतीय स्थान रोहित रावल ने प्राप्त किया। इस प्रतियोगिता में निर्णायकों के रूप में डॉ.विभा माथुर, डॉ.मीनाक्षी भारती व डॉ.अर्चना जोशी ने निभाई। संगीत पर आधारित सभी प्रतियोगिताओं में महेश जोशी ने आर्गन, एज़मिन ने गिटार, रोशन ने आक्टोपेड महेन्द्र ने ढ़ोलक पर तथा संजय बारेठ ने कांगो पर संगत दी। आज की प्रतियोगिताओं में निर्णायकों के रूप में डॉ. विजयलक्ष्मी शर्मा, डॉ. हिमा गुप्ता, श्री सूर्यप्रकाश पाठक, मंजूर अहमद, तथा तृप्ति जोशी बाहर के रहे। 

साहित्यिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘कजली महोत्सव-2012’ के तीसरे दिन हिन्दी वाद-विवाद प्रतियोगिता एकाभिनय, मुकाभिनय, विचित्र वेशभूषा, एकल नृत्य व समूह नृत्य प्रतियोगिताओं में छात्र-छात्राओं ने बेहतर प्रस्तुतियां देकर ’कजली महोत्सव’ को रंग और रस भरा बना दिया। ‘‘इस सदन की सम्मति में लोकपाल बिल ही भ्रष्टाचार मिटाने का एकमात्र साधन है।’’ विषय पर वाद-विवाद आयोजित हूआ, जिसमें प्रतिभागियों ने पक्ष और विपक्ष में अपने-अपने मत प्रस्तुत कर जनजागृति को भ्रष्टाचार के लिए अनिवार्य बताया। केवल कानून ही सब कुछ नहीं कर सकता। इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान नेमीचन्द मावरी, द्वितीय स्थान अमित शर्मा, तृतीय स्थान प्रवीणा टेलर व प्रतिभा यादव ने संयुक्त रूप से प्राप्त किया। इसके बाद एकाभिनय प्रतियोगिता में 11 प्रतियोगियों ने भाग लेकर रिश्वत, भ्रष्टाचार, अंधविश्वास, सामाजिक रूढ़ी व मोबाइल प्रस्तगी पर हास्य व्यंग्य युक्त अपनी प्रस्तुतियां दी। इसमें प्रथम स्थान लोकेश कुमार राठौर, द्वितीय स्थान हरिशंकर भारती, तृतीय स्थान नेमीचन्द मावरी ने प्राप्त किया। इसके बाद मूकाभिनय प्रतियोगिता आयोजित की जिसमें दर्शकों को लुभाती हुई मनमोहक विविध विषयों पर आधारित प्रस्तुतियां दी।

 इसमें प्रथम स्थान बनवारी लाल मीणा और समूह ने द्वितीय स्थान नेमीचन्द मावरी व तृतीय स्थान प्रवीणा टेलर और समूह ने प्राप्त किया। इसके बाद विचित्र वेशभूषा प्रतियोगिता का आयोजन किया, जिसमें छात्र-छात्राओं ने अपनी वेशभूषा को विषय के अनुरूप प्रतीकात्मक बनाकर चेतना का संदेश दिया। नेमीचन्द मावरी ने भिखारी की भूमिका प्रस्तुत कर प्रथम स्थान प्राप्त किया। बनवारी लाल मीणा ने अन्ना हजारे की भ्रष्टाचार विरोधी व जनचेतना से संबंधित भूमिका अदा कर द्वितीय स्थान प्राप्त किया। हरिशंकर भारती ने दूध बेचने वाले की भूमिका प्रस्तुत कर तृतीय स्थान प्राप्त किया। ‘एकल नृत्य’ प्रतियोगिता में 25 विद्यार्थियों ने भारतीय एवं पाश्चात्य संगीत, लोक गीत व पंजाबी व फिल्मी गानों के साथ अपनी बेहतर प्रस्तुतियां दी। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान मोना शर्मा व प्रियंका ठाकुर, द्वितीय स्थान तृप्ति सोनी व अनिता सैनी एवं तृतीय स्थान सुधीर सारस्वत व शालू गौतम ने संयुक्त रूप से प्राप्त किये। समूह नृत्य की तीन प्रविष्ठि न होने के कारण प्रतियोगिताओं में शामिल नहीं किया गया। प्रतियोगिताओं के प्रभारी डॉ. विजयलक्ष्मी सालोदिया, डॉ. पूर्णिमा दीक्षित, डॉ. मोनिका चौधरी, डॉ. मणि भारतीय, डॉ. वी.बी.श्रीवास्तव व बैला माथुर थे। 

कार्यक्रम के अंत में प्राचार्य डॉ. डी.के.जैन ने प्रतियोगिताओं के परिणामों की घोषणा की तथा सभी विजेता व प्रतियोगियों को बधाई दी। मंचीय प्रतियोगिताओं के समापन अवसर पर उन्होंने कहा कि महाविद्यालय में प्रतिभाओं की कमी नहीं है, उन्हें यदि अवसर प्रदान किया जाये तो वे बहुत आगे बढ़ सकते हैं तथा देश और समाज का नाम रोशन कर सकते हैं। आयोजन समिति प्रभारी डॉ. महेश दाधीच ने आयोजन से जुड़े सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को धन्यवाद ज्ञापित किया। राष्ट्रगान के साथ मंचीय प्रतियोगिताओं का समापन हुआ। दिनांक 06 एवं 07 जनवरी को कजली महोत्सव की कक्षीय प्रतियोगिताओं का आयोजन हुआ।


योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-


डॉ. ललित भारतीय
वर्तमान में बूंदी,राजस्थान राजकीय कोलेज में चित्रकला के असोसिएट प्रोफ़ेसर 
और स्पिक मैके के वरिष्ठ कार्यकर्ता,गीतकार के रूप में भी जाने जाते हैं.
lalitbhartiya@gmail.com
SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template