Latest Article :
Home » , , , » हेमंत शेष की लघु कथा :याददाश्त

हेमंत शेष की लघु कथा :याददाश्त

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on रविवार, फ़रवरी 19, 2012 | रविवार, फ़रवरी 19, 2012


खोल कर, आज की तारीख खोज कर लिखने के इरादे से बैठा ही था कि डायरी बंद कर देनी पड़ी. घंटी बजी, जाना पड़ा. डर लगा कोईलंबी-बैठकवाला पुराना दोस्त हो. महरी को देख कर याद आया कि फिर आज भजिये खाने की बात सुबह से सोची हुई थी. मैंने कहा – “आज भाजी नहीं, बाई...सिर्फ भजिया बनाओ. अपने अनुप्रास पर मुग्ध था कि बाई जिसका नाम कॉलोनी की हर बंगाली बाई की तरह मालती ही था ने, बिना भीतर आये हर दिन की तरह कह दिया- “शाब! फ्रिज में शब्जी है ही नहीं...! मैं कित्ती दफा आपको बोला...कुछ ला कर नईं रखा....” मैं अचानक निराश हो गया. सात दिन से भजिये खाने की तबीयत है, और कोई बना ही नहीं रहा- क्या ज़माना गया है, बाई तक भी नहीं, जो सब्जी होने के कारण मेरा भजिये खाना स्थगित करवाती जा रही है

मैंने कहा- देखोक्या अंदर मिर्च हैं ? प्याज़ ? आलू ? बेंगन ? अरबी ? गोभी ? या पालक ?... भजिये तो किसी के भी बन सकते हैं ...!”

वह कुछ बनाने के मूड में नहीं दिख रही थी- कहने लगी- “शाब! फ्रिज में शब्जी है ही नहीं...मैं कित्ती दफा आपको बोला...आप परसों कहता बी ता लाने को!”

मेरा दिमाग भन्नाया और मैंने उसे नाराज़ सा होते हुए वापस लौट जाने को कह दिया! वह जैसे मेरी इसी बात के इंतज़ार में थी...उलटे पाँव फ़ौरन सीढियां उतर गयी.

अपनी याददाश्त पर भयंकर कुपित होते मैं फ्रिज की तरफ बढ़ा. कितने दिन से, जब से मेरी बीवी, अपने भाई के यहाँ गयी है, बाई लगातार मुझ से सब्जियां लाने को कह रही है- और ये जो मैं हूँ अहमक कि कविता छोड़ कर कहानी लिखने के नए चक्कर में सब कुछ भूल जाता हूँ ! हे भजियो! तुम्हारे अष्टम भाव में गोचर में ज़रूर उच्च का शनि है, जो मैं तुम्हें खा नहीं पा रहा हूँ- झल्ला कर मैंने सोचा और फ्रिज खोला...पूरा फ्रिज सब्जियों से भरा था! मुझे एकदम याद गया- कल ही शाम मैं बड़ी मंडी से केवल मिर्च प्याज़, आलू, बेंगन, अरबी, गोभी, पालक लाया था- जिनके भजिये मुझे बनवा कर खाने थे, पर दूसरी हर सब्जी भी, जो बाजार में मिल रही थी, ताकि बार-बार बाज़ार जाना पड़े!

फिर मुझे याद आया कि मंडी से लौटते समय फ्लैट की सीढ़ियों पर ही तो मालती मिल गयी थी, जिसने सब्जियों के तीनों में से, दो भारी थैले शायद दयावश, मुझ बुड्ढे आदमी से ले लिए थे...

फिर मुझे यह भी याद आया कि मालती ने ही फ्रिज में वे सारी सब्जियां करीने से जमाई भी थी, तब जब मैं हकू शाह की नई किताब में डूबा था! बहरहाल, ये सोच कर मुझे बड़ा धक्का लगा कि फ्रिज में सब्जी होने की गलत बात सुन कर आज शाम एक बार फिर मैं अपने पसंदीदा भजिये खाने से वंचित रहा!

अब, जब इसदुर्घटनाको मैं अपनी डायरी में दर्ज करना चाह रहा हूँ, सोच में पड़ गया हूँ कि क्या मालती ने मुझ से झूठ बोला था ? वह कामचोर है, या ठीक मेरी ही तरह बुरी याददाश्त की शिकार, मैं बिलकुल नहीं जान पा रहा !  


योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-


हेमंत शेष
(राजस्थान में प्रशासनिक अधिकारी होने के साथ ही साहित्य जगत का एक बड़ा नाम है.लेखक,कवि और कला समीक्षक के नाते एक बड़ी पहचान.इनके कविता संग्रह  'जगह जैसी जगह' को बिहारी सम्मान भी मिल चुका है.अब तक लगभग तेरह पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है.हाल के दस सालों में सात किताबें संपादित की है.साथ ही 'राजस्थान में आधुनिक कला' नामक एक किताब जल्द आने वाली है.)
hemantshesh@gmail.com
SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template