Latest Article :
Home » , , » साहित्य की चौपाल का गठन

साहित्य की चौपाल का गठन

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on बुधवार, फ़रवरी 22, 2012 | बुधवार, फ़रवरी 22, 2012




Lkekt vkSj lkfgR; ds chp c<+rh gqbZ nwfj;ksa dks de djus ,oa laLFkkuksa] vkS|ksfxd ?kjkuksa ,oa lRrkeq[kh lkfgR; dh fpUrktud ijkoyacrk dks de ls de djus rFkk lkfgR;&Lora=rk dh vfHkj{kk dh n`f“V ls bLikruxjh fHkykbZ esa ^lkfgR; dh pkSiky] dk xBu fla?kbZ foyk] fHkykbZ esa 20 Qjojh] 2012 dks fd;k x;kA bl volj ij fcgkj ds lqfo[;kr tuoknh xhrdkj ufpdsrk eq[; vfrfFk] FksA izeksn oekZ Le`fr laLFkku ds v/;{k o iqfyl egkfuns'kd] gksexkMZl~ lqdfo Jh fo'ojatu dh v/;{krk esa lEiUu bl vk;kstu esa NRrhlx<+h jktHkk“kk vk;ksx ds v/;{k ia- nkus’oj izlkn ‘kekZ] lqizfl) lekykspd Jh vksejkt] nsgjknwu ,oa ofj“B dfo v’kksd ‘kekZ fo'ks"k vfrfFk ds :i esa mifLFkr FksA

vius Lokxr oDrO; esa ^lkfgR; dh pkSiky* ds la;kstd v'kksd fla?kbZ us dgk fd lekt dks lkfgR; ds izfr xEHkhj cukuk bl uoxfBr laLFkk dk ewy mn~ns‘; gSA Le`fr’ks“k izeksn oekZ izns’k dh ,dek= ihB] c['kh l`tu ihB ds laLFkkid v/;{k Fks vkSj izeksn oekZ dkO; lEeku dh LFkkiuk iqjks/kk lkfgR;dkj ds izfr vapy dh ,d fouez lkfgfR;d J)katfy gSA fyV~jjh Dyc] fHkykbZ bLikr la;a= }kjk izFke izeksn oekZ dkO; lEeku ls pkSFks lIrd ds dfo ,oa jk"Vªh; fganh vdkneh ds v/;{k MkW0 Lons'k Hkkjrh dks ebZ] 2009 esa lEekfur fd;k x;k FkkA izeksn oekZ dkO; lEeku dh fujUrjrk dks dk;e j[kuk lkfgfR;d lekt dh uSfrd ftEesnkjh gSA Jh fla?kbZ us tkudkjh nh fd 2011 ,oa 2012 ds izeksn oekZ dkO; lEeku ds vk;ktu ebZ] 2012 esa lEiUu gksaxs rFkk lkfgR; dh pkSiky dk foLrkj izns’k ds vU; uxjksa esa fd;k tk;sxk rFkk lkfgR; ds l`tuihBksa dh LFkkiuk dh tkosxh tks vf/kd fo’oluh; ,oa ekU; gksaxhA ekpZ] 2012 esa dkO; dqEHk ,oa vxLr]  2012 esa xksiky flag usikyh tUe 'krkCnh lekjkasg ds vk;kstu yksd≶ksx o Lohd`fr ls lEiUu fd;s tkosaxsA

^lkfgR; dh pkSiky] fHkykbZ&nqxZ* ds laj{kd MkW- izHkkr f=ikBh] jk;x<+] MkW- jekdkUr JhokLro] jk;iqj ,oa Jh fo’ojatu] jk;iqj gSa tcfd Jh v'kksd fla?kbZ la;kstd ,oa fHkykbZ ds loZJh jfo JhokLro] 'kk;j eqerkt+] jk/ks‘;ke flUnqfj;k] jkecju dksjh ^df’k’k* ,oa Jh ’kjn dksdkl] nqxZ ekuuh; lnL; gSa A

bl volj ij ^cgqer* ds lEiknd o dFkkdkj Jh fouksn feJ] rsyqxq lkfgR; ds tkus&ekus leh{kd loZJh th- Jhjkeqyq] jk;iqj ls t;izdk'k ekul] ^fHkykbZ ok.kh* ds lEiknd #nzewfrZ] xzSaM pSuy ds jk?kosUnz] fp=dkj lqJh lquhrk oekZ] lkaxhfrd laLFkk ^xq¡tu* ds v/;{k ‘kSysUnz JhokLro] ujs’k fo’odekZ] jktk jke jfld] ^NRrhlx<+ vklikl* ds lEiknd iznhi HkV~Vkpk;Z] dof;=h larks"k >kath] izks- ufyuh c['kh] izks- 'khyk 'kekZ] iz’kkUr dkuLdj] t+ukc 'ks[k futkeh] jkecju dksjh ^df'k'k*] 'kk;jk izhryrk ^l#* ,oa uhrk dkEckst] i=dkj ,l- vgyqokfy;k lfgr Hkkjh l¡[;k esa lkfgR;dkj o lkfgR; izseh mifLFkr FksA
SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

कृपया कन्वेंशन फोटो एल्बम के लिए इस फोटो पर करें.

यूजीसी की मान्यता पत्रिकाओं में 'अपनी माटी' शामिल

नमस्कार

अपार खुशी के साथ सूचित कर रहा हूँ कि यूजीसी के द्वारा जारी की गयी मान्यता प्राप्त पत्रिकाओं की सूची में 'अपनी माटी' www.apnimaati.com - त्रैमासिक हिंदी वेब पत्रिका को शामिल किया गया है। यूजीसी के उपरोक्त सूची के वेबसाईट – ugc.ac.in/journalist/ - में 'अपनी माटी' को क्र.सं./S.No. 6009 में कला और मानविकी (Arts & Humanities) कोटि के अंतर्गत सम्मिलत किया गया है। साहित्य, समय और समाज के दस्तावेजीकरण के उद्देश्यों के साथ यह पत्रिका 'अपनी माटी संस्थान' नामक पंजीकृत संस्था, चित्तौड़गढ द्वारा प्राकशित की जाती है.राजस्थान से प्रकाशित होने वाली संभवतया यह एकमात्र ई-पत्रिका है.


इस पत्रिका का एक बड़ा ध्येय वेब दुनिया के बढ़ रहे पाठकों को बेहतर सामग्री उपलब्ध कराना है। नवम्बर, 2009 के पहले अंक से अपनी माटी देश और दुनिया के युवाओं के साथ कदमताल मिलाते हुए आगे बढ़ रही है। इसी कदमताल मिलाने के जद्दोजह़द में वर्ष 2013 के अप्रैल माह में अपनी माटी को आईएसएसएन सं./ ISSN No. 2322-0724 प्रदान किया गया। पदानुक्रम मुक्त / Hierarchies Less, निष्पक्ष और तटस्थ दृष्टि से लैस अपनी माटी इन सात-आठ वर्षों के के सफर में ऐसे रचनाकारों को सामने लाया है, जिनमें अपार संभावनाएँ भरी हैं। इसके अब तक चौबीस अंक आ चुके हैं.आगामी अंक 'किसान विशेषांक' होगा.अपनी माटी का भविष्य यही संभावनाएँ हैं।


इसकी शुरुआत से लेकर इसे सींचने वाले कई साथी हैं.अपनी माटी संस्थान की पहली कमिटी के सभी कार्यकारिणी सदस्यों सहित साधारण सदस्यों को बधाई.इस मुकाम में सम्पादक रहे भाई अशोक जमनानी सहित डॉ. राजेश चौधरी,डॉ. राजेंद्र सिंघवी का भी बड़ा योगदान रहा है.वर्तमान सम्पादक जितेन्द्र यादव और अब सह सम्पादक सौरभ कुमार,पुखराज जांगिड़,कालूलाल कुलमी और तकनीकी प्रबंधक शेखर कुमावत सहित कई का हाथ है.सभी को बधाई और शुभकामनाएं.अब जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ गयी है.


आदर सहित

माणिक

संस्थापक,अपनी माटी

यहाँ आपका स्वागत है



ई-पत्रिका 'अपनी माटी' का 24वाँ अंक प्रकाशित


ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template