जहां पाश रात भर लालटेन जला कर कविताएँ लिखते थे ! - अपनी माटी Apni Maati

India's Leading Hindi E-Magazine भारत की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

जहां पाश रात भर लालटेन जला कर कविताएँ लिखते थे !


अवतार सिंह “पाश” क्रांतिकारी शायर थे ! उन्हें 23 मार्च 1988 को धर्मान्ध आतंकवादियों ने गोली मार कर शहीद कर दिया था ! पाश जालन्धर जिले के तलवंडी सलेम नाम के गाँव में रहते थे ! मुझे उनकी शहादत दिवस के समागम में पंजाब के दोस्तों ने बुलाया था ! लोक मोर्चा पंजाब और आपरेशन ग्रीन हंट विरोधी मोर्चा ने बुलाया  मैं पत्नी वीणा और बच्चों अलीशा और हरिप्रिया के साथ इस कार्यक्रम में गया ! मैं पाश के एक छात्र बख्शीश सिंह के घर पर ठहरा ! बख्शीश ने मुझे वो जगह दिखाई पाश जहां गाँव के बच्चों के लिये एक छोटा सा स्कूल चलाते थे ! बख्शीश ने बताया की पाश ने स्कूल की दीवारों पर कुछ वाक्य लिखे थे ! जिसमे से एक वाक्य बख्शीश को आज भी याद है वो था “ मज़हब ही है सिखाता आपस में बैर रखना “ ! अब इस स्कूल वाली जगह पर एक हार्डवेयर वाला अपना सामान रखता है !

बख्शीश ने हमें वो जगह दिखाई  जहां आतंकवादियों से बच कर पाश रात भर लालटेन जला कर कविताएँ लिखते थे ! ये एक दीवार के ऊपर एक तीन फीट का गड्ढा सा था ! पाश बांस की सीढ़ी लगा कर वहाँ चढ़ जाते थे और फिर सीढ़ी गिरा देते थे ! सुबह रस्सा पकड़ कर नीचे उतर आते थे ! अब इस जगह को भर दिया गया है और इसे भी उसी हार्डवेयर वाले ने अपना गोदाम बना दिया है !

पाश ने खालिस्तान आन्दोलन के साम्प्रदायिक और गैर जनवादी होने के खिलाफ लिखा और बोला ! इसलिये खालिस्तानियों ने पाश की मौत का फरमान जारी कर दिया ! पाश को उनके परिवार जन 1986 में अमेरिका ले गये ! पाश 1988 में अपने गाँव आये हुए थे गांव में मौजूद मुखबिरों ने पाश के बारे में आतंकवादियों को खबर दे दी ! पाश अपने दोस्त हंसराज के साथ नहाने के लिये खेत पर ट्यूब वेल पर गये ! अचानक आतंकवादियों ने घेर कर 23 मार्च1988 को पाश और हंसराज को गोलियों से भून दिया !

गाँव वालों ने पाश की याद में एक खुले रंग मंच का निर्माण किया है ! पाश को याद करने और उनके सन्देश को फिर से याद करने के लिये हज़ारों लोग इस साल 23 मार्च को उनके गाँव में इकट्ठा हुए थे ! नौजवानों ने पाश की कविताये , गीत और नाटक खेले ! इसके पिछली रात भर भगत सिंह के पुश्तैनी गाँव खटकड़ कलां  में  एक कार्यक्रम हुआ जिसमे क्रांतिकारी गीत नाटक और चर्चा हुई !  बच्चों ने भगत सिंह , पाश , जाति पांति,  अमीरी गरीबी, अन्याय और बदलाव की ज़रूरत के बारे में खूब सवाल किये ! पाश और भगत सिंह की किताबें खरीदीं ! दिल्ली लौटते समय बच्चे  खूब जोश में थे और सारे रास्ते भगत सिंह और पाश के बारे में बातें करते हुए घर पहुंचे !


 योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-
हिमांशु कुमार
(देश के चर्चित इलाके दंतेवाडा के के चर्चित कार्यकर्ता हिमांशु कुमार ने दंतेवाडा घटनाओं के बाद उन्हें लेकर पूरे देश में भ्रमण किया था.कभी इसी इलाके में इनका एक गैर सरकारी संगठन काम करता था.दंतेवाडा वाणी के नाम से ब्लॉग लिखते हैं.इनका ई-मेल पता और फेसबुक खाता)




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here