लोक गीतों पर चन्द्रकान्ता व्यास का काम बरसों याद किया जाएगा - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

लोक गीतों पर चन्द्रकान्ता व्यास का काम बरसों याद किया जाएगा

चंद्रकांता व्यास
29 .नीलकंठ,
शहीद भगत सिंह कॉलोनी,
छतरीवाली खान के पास,
चित्तौड़गढ़,राजस्थान-312001
फोन-01472-241532
मेल renuvyas00@gmail.com
अपनी माटी वेबपत्रिका के प्रोजेक्ट के तहत लोक गीतों के इस संकलन का दस्तावेज़ीकरण किया जा रहा है.डॉ. सत्यनारायण व्यास की माताजी लक्ष्मणा देवी की याद में संधारित इन गीतों में तमाम लोक गीत चन्द्रकान्ता व्यास के निर्देशन में संकलन और सम्पादन में तैयार हुए हैं.जिन्हें बाद के समय में चित्तौड़गढ़,राजस्थान में कमला देवी,दुर्गा देवी,उषा भट्ट,रामकृष्णा श्रोत्रिय आवाजों में उनके सहयोग से रिकोर्ड किया गया.जिनका अव्यावसायिक उपयोग किया जा सकता है.उपयोग की जानकारी हमें भी देंगे तो अच्छा लगेगा.इन गीतों के इस स्वरुप की परिकल्पना,संयोजन और सहगायन चन्द्रकान्ता व्यास का रहा है.

प्रस्तुत है वे राजस्थानी लोक गीत जो हम अपनी दादी-नानी से सुना करते थे 





















दस्तावेज़ीकरण-माणिक का है 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here