Latest Article :
Home » , , , , , » आप 'आपातकाल' को कितना 'मिस' करते हैं?

आप 'आपातकाल' को कितना 'मिस' करते हैं?

Written By Manik Chittorgarh on सोमवार, जून 25, 2012 | सोमवार, जून 25, 2012


26 जून - इमरजेंसी दिवस पर@कौशल किशोर
जसम की लखनऊ शाखा के जाने माने संयोजक जो बतौर कवि,
लेखक लोकप्रिय है.उनका सम्पर्क पता एफ - 3144,
राजाजीपुरम,
लखनऊ - 226017 है.
मो-8400208031


26 जून 1975 को देश में आंतरिक आपातकाल लागू किया गया था। उसके 37 साल बीत गये । तब से गंगा व गोमती में बहुत पानी बह चुका है। देश और दुनिया में बड़े बदलाव आये हैं। पर आज जब भी भारतीय लोकतंत्र की चर्चा होती है इमरजेंसी के दौर को लोकतंत्र के काले अध्याय के रूप में याद किया जाता है। डॉ0 अम्बेडकर ने 25 नवंबर 1949 को संविधान सभा के समक्ष कहा था कि भारतीय गणतंत्र के रूप में 26 जनवरी 1950 को हम अंतरविरोधों से भरपूर जिन्दगी में प्रवेश कर रहे हैं जहां हमारे पास राजनीतिक  समानता व स्वतंत्रता होगी, वहीं आर्थिक जीवन में यह हमारे लिए दुर्लभ रहेगा। डॉ0 अम्बेडकर की ये शंकाएं निर्मूल नहीं थीं। आर्थिक जीवन की कौन कहे, राजनीतिक समानता व स्वतंत्रता भी आजाद भारत में क्षतिग्रस्त होती रही है। वैसे तो पंडित नेहरू के शासन काल में ही इसके संकेत मिलने शुरू हो गये थे लेकिन इसका रौद्र रूप हमें इंदिरा युग में देखने को मिला। 

1971 के चुनाव में इंदिरा गांधी प्रचण्ड बहुमत के साथ सत्ता में आईं। आते ही मीसा जैसा कानून बनाया जिसका उद्देश्य ही राजनीतिक विरोध का दमन करना था। इंदिरा गांधी कंग्रेस का पर्याय बनकर ही नहीं उभरी बल्कि  ‘इंडिया इज इंदिरा, इंदिरा इज इंडिया’ के नारे के तहत वे देश का पर्याय बना दी गई। इसकी परिणति 26 जून 1975 को देश के ऊपर इमरजेंसी लगाने की घोषणा के रूप में हुई। इसके दौरान अनेक राजनीतिक संगठनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया। संगठन बनाने के अधिकार को छीन लिया गया। प्रेस की आजादी समाप्त कर दी गई। सरकार विरोधी विचारधारा रखने वाले असंख्य लोगों को बिना मुकदमा चलाए जेलों में डाल दिया गया। संविधान द्वारा नागरिकों को प्रदत सभी मौलिक अधिकारों को रद्द कर दिया गया। मीसा और डी आई आर का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल हुआ। करीब 34,630 लोगों को मीसा के अन्तर्गत गिरफ्तार किया गया। मीसा के आपातकालीन प्रवधानों के तहत सरकार को यह विशेषाधिकार प्राप्त था कि वह बिना कारण बताए अपने राजनीतिक विरोधियों को हिरासत में रख सकती थीं। इमरजेंसी के दौरान हजारों लोगों को डी आई आर में नजरबंद किया गया। 

इमरजेंसी कोई अकेली घटना नहीं है जिसने हमारे लोकतंत्र को लहुलूहान किया है। ऐसी बहुत सी घटनाएं इस आजाद भारत में हुई हैं जिनमें हम इमरजेंसी की छवियां देख सकते हैं। आज भी हमारी सरकार के पास ऐसे दमनकारी कानूनों का पूरा तोपखाना है जहां से जनता की स्वतंत्रता और उनके लोकतांत्रिक अधिकारों पर गोलाबारी की जाती है, विरोध की आवाज को दबा दिया जाता है। यह देश के अन्दर अघोषित तौर पर इमरजेंसी की हालत है। इन्हें काले कानूनों के रूप में जाना जाता है। ये कानून अंग्रेजों के द्वारा बनाये गये रोलट एक्ट जैसे कानून की याद दिलाते हैं। आज भी देश के बड़े हिस्से में विशेष सशस्त्र बल कानून ;आफ्सपाद्ध लागू है। यह कानून हमें न सिर्फ इमरजेंसी के दौर की याद को ताजा करता हैं बल्कि भारतीय संविधान और लोकतंत्र के खण्डित चेहरे से भीं रू ब रू कराता है।

‘आफ्सपा’ के प्रावधानों के तहत सेना व अर्द्धसैनिक बलों को ऐसा विशेषाधिकार प्राप्त है जिसके अन्तर्गत वह सन्देह के आधार पर बगैर वारण्ट कहीं भी घुसकर तलाशी ले सकता है, किसी को गिरफ्तार कर सकता है तथा लोगों के समूह पर गोली चला सकता है। यही नहीं, यह कानून सशस्त्र बलों को किसी भी दण्डात्मक कार्रवाई से बचाता है जब तक कि केन्द्र सरकार उसके लिए मंजूरी न दे। देखा गया है कि जिन राज्यों में ‘आफ्सपा’ लागू है, वहाँ नागरिक प्रशासन दूसरे पायदान पर पहुँच गया है तथा सरकारों का सेना व अर्द्धसैनिक बलों पर निर्भरता बढ़ी है। इन राज्यों में लोकतंत्र सीमित हुआ है, जन आन्दोलनों को दमन का सामना करना पड़ा है तथा सामान्य विरोध को भी विद्रोह के रूप में देखा गया है।

गौरतलब है कि जिन समस्याओं से निबटने के लिए सरकार द्वारा ‘आफ्सपा’ लागू किया गया, देखने मे यही आया है कि उन राज्यों में इससे समस्याएँ तो हल नहीं हुई, बेशक उनका विस्तार जरूर हुआ है। पूर्वोतर राज्यों से लेकर कश्मीर, जहाँ यह कानून पिछले कई दशकों से लागू है, की कहानी यही सच्चाई बयान कर रही है। 1956 में नगा विद्रोहियों से निबटने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा पहली बार सेना भेजी गई थी। तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित नेहरू ने संसद में बयान दिया था कि सेना का इस्तेमाल अस्थाई है तथा छ महीने के अन्दर सेना वहाँ से वापस बुला ली जायेगी। पर वास्तविकता इसके ठीक उलट है। सेना समूचे पूर्वोŸार भारत के चप्पे.चप्पे में पहुँच गई। 1958 में ‘आफ्सपा’ लागू हुआ और 1972 में पूरे पूर्वोŸार राज्यों में इसका विस्तार कर दिया गया। 1990 में जम्मू और कश्मीर भी इस कानून के दायरे में आ गया। आज हालत यह है कि देश के छठे या 16 प्रतिशत हिस्से में यह कानून लागू है। 

लोकतांत्रिक और मानवाधिकार संगठनों ने जो तथ्य पेश किये हैं, उनके अनुसार जिन प्रदेशों में ‘आफ्सपा’ लागू है, वहाँ लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन हुआ है, राज्य का चरित्र ज्यादा दमनकारी होता गया है, जनता का सरकार और व्यवस्था से अलगाव बढ़ा है तथा लोगों में विरोध व स्वतंत्रता की चेतना ने आकार लिया है। इरोम शर्मिला इसी चेतना की मुखर अभिव्यक्ति हैं जो ‘आफ्सपा’ को मणिपुर से हटाये जाने की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर हैं। इस साल 4 नवम्बर को उनकी भूख हड़ताल के बारह साल पूरे हो जायेंगे। जनरोष व आक्रोश की इससे बड़ी अभिव्यक्ति क्या हो सकती है कि असम राइफल्स के जवानों द्वारा  थंगजम मनोरमा के साथ किये बलात्कार और हत्या के विरोध में मणिपुर की महिलाओं ने कांगला फोर्ट के सामने नग्न होकर प्रदर्शन किया। उन्होंने जो बैनर ले रखा था, उसमें लिखा था ‘भारतीय सेना आओ, हमारा बलात्कार करो’। 

हमारा देश कश्मीर से कन्याकुमार तथा कच्छ से कोहिमा तक एक है। देश संविधान से चलता है। हमारी राजनीतिक प्रणाली लोकतांत्रिक है। सवाल है कि इस सम्पूर्ण भूभाग में क्या हमारे लोकतंत्र का एक ही रूप मौजूद है ? जिन राज्यों या क्षेत्रों में ‘आफ्सपा’ लागू है क्या हमारा वही संविधान लागू होता है जो देश के अन्य हिस्सों में लागू है ? डॉ0 अम्बेडकर ने संविधान को लेकर कुछ आशंकाएं जरूर जाहिर की थीं लेकिन कभी नहीं सोचा होगा कि गणतंत्र के बासठ साल में हमारा संविधान व लोकतंत्र इतना खण्डित होगा। हमारे लोकतंत्र व संविधान का चेहरा इतना दरक जाएगा।
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template