Latest Article :
Home » , , , , » मित्रों के नाम 'पहल' बाबत ज्ञानरंजन जी के दो ख़त

मित्रों के नाम 'पहल' बाबत ज्ञानरंजन जी के दो ख़त

Written By Manik Chittorgarh on सोमवार, जुलाई 30, 2012 | सोमवार, जुलाई 30, 2012

पहला 


मित्रों,
  ‘पहल’ को स्थगित हुए लगभग तीन वर्ष हो रहे हैं. पैंतीस वर्ष की यात्रा के बाद बहुतेरी कठिनाइयों के कारण ‘पहल’ का प्रकाशन अकस्मात बंद हो गया था. इसकी प्रतिक्रिया विविध थी. कुछ स्तब्ध थे और कुछ निर्णय से सहमत थे. कुछ लोग ख़ुश भी थे और कुछ ने इसे विवादास्पद बनाने का प्रयास भी किया.
‘पहल’ के साथ पूरे देश में, विभिन भाषाओं के रचनाकारों का एक बड़ा समूह भी तैयार हुआ था और उन्होने हर प्रकार से इस पत्रिका को अपनाया. इसके बावजूद ‘पहल’ को निरंतर, उसके प्रकाशित रूप में जारी करते रहने का औचित्य कम हो रहा था. उसको बदलना, उसमे नयी सांस्कृतिक, साहित्यिक बहसों को शामिल करना और नयी रचनावली की खोज करना ज़रूरी हो गया था. उसकी वैचारिक रीढ़ को भी मज़बूत करना आवश्यक था और नयी स्वीकृतियों के साथ हमे गहरी मुठभेड़ भी करनी थी.
कुछ लोगों की इछा थी कि ‘पहल’ निकले पर यह इतना सरल नहीं था और न है. अनगिनत पत्रिकाएं निकल रही हैं  और उनमे से कुछ ही हैं जो अपनी सृजनात्मक भूमिका का निर्वाह कर रही हैं. अधिकांश उस बेचैनी पर निगाह नहीं रखतीं जो घनघोर सांस्कृतिक विभिन्नता और पतनशीलता के कारण हमारी नई दुनिया में बढ़ती जा रही है. फलस्वरूप, हमारी राह कठिन है.
हम ‘पहल’ को फिर से प्रकाश में लाने के लिये एक नया ढांचा बना रहे हैं, कार्य विभाजन कर रहे हैं, सामूहिकता को प्रोत्साहित कर रहे हैं और साहित्य के अलावा कलाओं के दूसरे संसार में भी प्रवेश करने का प्रयास कर रहे हैं. यह चुनौतीपूर्ण है और अकेले दम का नहीं है. इसमे स्वप्न और विचार की ठोस पहल और और एक बड़े साथी-संसार की ज़रूरत है.
‘पहल’ के बारे में हम अपने इस ब्लाग पर संवाद करते रहेंगे और सुझावों का स्वागत करेंगे. ‘पहल’ को नये सिरे प्रकाशित होने में अभी समय लगेगा. ‘पहल; की इस पारी में मेरे साथ संपादन सहयोग के लिये कवि, कथाकार, विख्यात पत्रकार, और स्तंभ लेखक राजकुमार केसवानी जुड़ रहे हैं. हम मिलकर ‘पहल’ की एक ताज़ादम और सृजनात्मक दुनिया बनाने का प्रयास करेंगे.
आगामी बातें भी होती रहेंगी.
ज्ञानरंजन
दूसरा 



पहल :  संवाद -2

मित्रों,
आप लोगों की निरंतर आती हुई शुभकामनाओं, अपूर्व उत्साह और सहकारी बनने की अभिव्यक्तियों ने हमें हैरानी की हद तक ख़ुश और तैयार किया है. कई बार यह होता है कि जहां हम नहीं हैं वहां भी हमारी सोच और कर्म की छाया पहंच चुकी होती है.
‘पहल’ के प्रसंग में भी यही हुआ. हम पहली बार इस माध्यम का उपयोग कर रहे हैं. जिन्हें उम्मीद थी या प्रतीक्षा में थे, हमारे पुराने और बिल्कुल नये साथी, वे अपनी प्रतिक्रियाओं से ‘पहल’ के भविष्य का एक स्पष्ट संकेत तो दे ही रहे हैं. वस्तुत: प्रेरणाएं सो नहीं गई थीं, हमीं निद्रा में चले गए थे. हमे जगाने के लिए धन्यवाद.
मित्रों, जब हम आपसे प्रत्यक्षत: मुखातिब नहीं हों तब भी, यकीन जानिये, हम दिन-रात प्रारंभिक तैयारियों में लगे हैं. क्रमश: उदबोधन की भाषा की ज़रूरत कमतर होगी और हम ठोस सूचनाओं और कामकाजी अभियान की तरफ बढ़ेंगे. आपसे आग्रह है कि बधाई की जगह अब हमें अपने आवासीय पत्ते, टेलीफोन नम्बर जैसी जानकारियां, हमारे ईमेल – gyanranjanpahal@gmail.com  औरrkpahal2@gmail.com  पर हमें भेज दें.
आप ‘पहल’ की बिक्री, प्रसार, उसकी रचनात्मकता और उसके आर्थिक उपायों के बारे में जो भी बता सकें, हमे अवश्य बतायें. अपने भौगोलिक क्षेत्रों में, ‘पहल’ की प्रतियां किस संख्या में और कैसे पहुंचायेंगे, यह ख़बर दें. आपकी निजी सदस्यता तो ज़रूरी है ही. पहल की एक प्रति का मूल्य 50 रुपये और सालाना 200 रुपये होगा.
इस बाज़ार मूल्य से ऊपर हम ‘पहल’ को कीमती बनाने के लिये प्रतिबद्ध हैं. हमारा प्रयास होगा कि आपके साथ मिलकर हम अपने समय की नाड़ी, तापमान और मुहावरे की तरफ बढ़ते हुए ज़रूरी भाषा की खोज कर सकें.
शेष अगली बार.
आपके
ज्ञानरंजन,

राजकुमार केसवानी

Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template