Latest Article :
Home » , , » दिव्या जैन के स्लोगन :-दारू तो दरिद्रता लाती, गुटका लाता बिमारी

दिव्या जैन के स्लोगन :-दारू तो दरिद्रता लाती, गुटका लाता बिमारी

Written By Manik Chittorgarh on शनिवार, अगस्त 04, 2012 | शनिवार, अगस्त 04, 2012

पर्यावरण संरक्षण के क्षैत्र में पॉलिथीन की थैलियों की जगह कपड़े के थेले के उपयोग का अभियान चलाने वाली सुश्री दिव्या जैन के दोहे प्रस्तुत कर उसे प्रोत्साहित कर रहे है-सम्पादक 

अभी हाल में राजस्थान सरकार ने गुटका पर प्रतिबन्ध लगाया है, कई राज्यों में पहले से ही प्रतिबन्ध है। कुछ तैयारी में है। मानव स्वास्थ्य व पर्यावरण को बचाना है तो पूरे देष में गुटके पर प्रतिबन्ध लगाया जाना आवष्यक है। जनता को भी जागरूक होना चाहिए क्योंकि यह उसके स्वास्थ का मामला है। मैने गुटके के नुकसान को दोहो के रुप में लिखने का प्रयास किया है। 
  
गुटके पर बनाए गए 29 दोहे ( गुटका उन्तीसा )

(1)  गुटके ने गटक ली कही लोगों की जान
    अब तो तुम संभल जाओ बचालो अपने प्राण

(2)  गुटके को गटकने से नहीं बढे़गी शान
     यह तुम्हे गटक लेगा और ले लेगा प्राण।

(3)  अशोक  गहलोत जी ने देखो लगाई गुटके पर रोक
    अब तो भाइयों सम्भलो और करो इसमें सहयोग

(4)  गुटके पान-मसाले को करें अन्तिम प्रणाम
     प्राण तो बचेगें ही और बचेगी शान

(5)  मानव स्वास्थ्य की खातीर गुटके पर रोक लगाई है
     पर्यावरण की भी रक्षा होगी सबकी इसमें भलाई है।

(6)  गुटके को गटकने से नहीं बढ़ेगी शान
     दान धर्म और ज्ञान से रहे हमेशा मान

(7)  राज्य सरकार ने पॉलिथीन व गुटके पर रोक लगाई है
    अब बिड़ी-सीगरेट व शराब बन्दी के लिए शेष लड़ाई है।

(8)  गुटका खाकर पान चबाकर बढ़ाना चाहते मान
     केंसर होगा बीमारी बढे़गी चली जाएगी जान

(9)  गुटका लॉबी के आगे नहीं झुकी सरकार
    लगाकर इस पर पाबन्दी कर दिया चमत्कार

(10) जो तुमने खाया गुटका और पी बीड़ी
     तो तैयार कर रहे तुम केंसर की सीढ़ी

(11) कुबेर, श्री, विमल, अम्बर है कितने ही नाम
    यह सब गुटके मिलकर हमको कर देगें बेनाम

(12)  गुटका खाने पान चबाने में कैसा आनन्द
      हरि नाम जपो णमोंकार भजो मिलेगा परमानन्द

(13) बीना (जी) काक के मंत्री रहते लगी गुटके पर रोक
    अब शराब की बारी है रखो भरोसा नेक

(14)  पॉलीथीन, डिस्पोजल, बिड़ी, गुटका और शराब
     इन पर रोक लगा कर मानवता की रक्षा करो जनाब

(15) गुटका, पान, तम्बाकु इनसे है नुकसान
    मुँह का कैंसर होता और जा सकती है जान।

(16)  आप खाओगे गुटका और पिओगे शराब
     कैसे पालोगे परिवार और करोगे विकास

(17) गुटका पान मसाला खाकर लोग दिखाते शान
    कैंसर को निमन्त्रण देते और गंवाते जान

(18)  गुटके को खाने हेतु मन को मत ललचाना
     केंसर होगा मोत मिलेगी परिवार होगा बेसहारा

(19) गुटका पान, मसाला खाकर यहाँ-वहाँ करते पीक
     घर के बड़े बुजूर्ग, गुरूओं से क्या यह ही सीखी सीख

(20) गुटके पर रोक लगाकर काम किया हे नेक
     मनवता की रक्षा होगी आषीष मिले अनेक

(21)मूंह में दबाकर पान मसाला दिखाते हैं शान
    जगह-जगह थुंककर क्यों गिरा रहें हैं मान।

(22)  ऋषभ कहता, दिव्या कहती अब मत खाना गुटका
     दाँत टूटेगें मूँह सड़ेगा इलाज पड़ेगा महंगा।

(23) गुटका है गड़बड़ झाला जो तुमने इसको है पाला
    कर देगा यह काम निराला जेब का निकल जाएगा दिवाला

(24)  दारू तो दरिद्रता लाती गुटका लाता बिमारी
      इनसे भाईयों दूर रहो मत दिखलाओ यारी

(25) पहले पॉलिथीन और अब गुटके पर रोक लगाई
     शराब को क्यों छोड़ दिया क्या इसमें नहीं बुराई

(26)  बेबी दिव्या अरज करे अब मत खाना गुटका
     कानून के उल्लघंन पर जुर्माना पड़ेगा महगा।

(27)  गुटके के पाऊच पर होता बिच्छु का चित्र
     मरने पर प्यारे तुम्हारा यह बनेगा मित्र

(28)  नशा चाहे जैसा हो होता यह बेकार
      शरीर तोड़ता बिमारी लाता कर देता लाचार

(29)  दारू से दरियादिली और गुटके से शान
     इनसे अंकल दूर रहो नहीं होगा कल्याण


सुश्री दिव्या जैन
59/4, गाँधीनगर,
चित्तौड़गढ़- 312001
मो. 92149 63491
http://divya.apnimaati.com/                                                         
Share this article :

1 टिप्पणी:

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template