Latest Article :
Home » , , , , » आज भी जो महिलाएं नृत्य करती हैं उन्हें कालबेलिया समाज सम्मान नहीं देता

आज भी जो महिलाएं नृत्य करती हैं उन्हें कालबेलिया समाज सम्मान नहीं देता

Written By Manik Chittorgarh on सोमवार, अगस्त 20, 2012 | सोमवार, अगस्त 20, 2012


राजस्थान से बाहर पूरे देश में कालबेलिया का अर्थ होता है खूबसूरत काले परिधान में सजी हुई एक ऐसी लोक नर्तकी जिसके नृत्य ने देश-विदेश में भारतीय लोक नृत्य को एक नयी पहचान दी है. बीन की धुन पर थिरकते पाँव जब गति पकड़ते है और नर्तकी गोल चक्कर लगाना आरम्भ करती है तो परिधान का वैशिष्ट्य और नृत्य की गति दर्शकों की सुध-बुध हर लेते हैं।

लेकिन कालबेलिया की यह पहचान तो केवल मंचों पर है . इस घुमंतू जाति का सारा आकर्षण एक दूसरी ही दास्ताँ सुनाता है जब हम इनके डेरों से रूबरू होते हैं. कभी सांप का खेल दिखाकर अपना जीवन यापन करने वाली यह जाति अपने जीवन के नए संकट के सामने जाकर तब खड़ी हुई जब सरकार ने सांप पकड़ने पर रोक लगा दी . संकट वैसे भी इनके जीवन में कम नहीं थे लेकिन अचानक आये रोज़ी रोटी के संकट ने इनके सामने कुछ नए समाधान रखे . बहुत छोटे वर्ग ने स्वीकार किया की अब सांप के स्थान पर उनकी महिलाएं नृत्य करें .बहुसंख्य लोगों ने तो इसका पुरजोर विरोध किया और आज भी जो महिलाएं नृत्य करती हैं उन्हें कालबेलिया समाज सम्मान नहीं देता . इस घुमंतू जाति के पास संस्कृति के कई सूत्र हैं उन्हें समझने के लिए ही मैं उनके डेरे पर गया . गाँव से लगभग बाहर उनके डेरे पर विपन्नता का ऐसा डेरा था जिसे देखकर देश के सारे विकास पर शर्म आती है.

एक छोटा सा बच्चा बाजरे की रोटी का एक टुकड़ा थामे चुपचाप बैठा था उस कड़क टुकड़े को चबाने में किसी आभिजात्य की तो बत्तीसी ही बाहर सकती थी लेकिन वो बच्चा कोशिश कर रहा था उसी टुकड़े में सब स्वाद पाने की. डेरे की बुजुर्ग महिला उसी समय गाँव के कई घरों से कुछ मांगकर लौटी थी और उसके बड़े से कटोरे में जो था शायद वही उनके परिवार का दोपहर का भोजन बनने वाला था . मैंने उनसे बात करना शुरू की तो वो मेरे बैठने के लिए खाट ले आये मेरे बहुत कहने पर भी वो मेरे साथ नहीं बैठे बल्कि नीचे ज़मीन पर बैठ गए . जाने कितनी सदियों से हमने उन्हें यकीन जो दिला दिया है कि वो हमसे बहुत छोटे हैं शायद इसीलिए वो आज भी अपने ही घर में हमारे साथ बैठने का साहस नहीं जुटा पाते.

वो मेरे सवालों का जवाब देते रहे फिर मेरे कहने पर बीन पर कुछ धुनें भी सुनाईं . मैंने परिवार के मुखिया से पूछा 'अब तुम्हारे पास कितने सांप हैं ?' उसने कहा ' एक भी नहीं ' चलते वक़्त उसने कहा ' साहब सरकार जानवरों की इतनी चिंता करती है लेकिन इंसानों की चिंता क्यों नहीं करती ?' मैंने कोई जवाब नहीं दिया मेरे पास जवाब था भी नहीं . जवाब तो सरकार को देना है। रही बात कालबेलिया के सवाल की तो उसका जवाब कोई नहीं देगा वो तो आम आदमी से भी ज्यादा गिरी हुई हालत में हैं .सच तो ये है कि कालबेलिया औरत अपने समाज से बहिष्कृत होने का भय त्याग कर , अपने बच्चे के हाथ में रोटी का एक नर्म टुकड़ा रखने के लिए किसी मंच या मरूभूमि पर पूरी शिद्दत के साथ नाचते हुए घूम रही होगी .. गोल-गोल .... गोल-गोल .... गोल-गोल ....हम चुपचाप देखेंगे।

Share this article :

2 टिप्‍पणियां:

  1. काफी मौलिक व मार्मिक कृति है अशोक जी,,,,,धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. परिवार के मुखिया के सवाल का जवाब सूबे के मुखिया के पास भी नहीं होगा, GDP उदारीकरण जैसी बातें बोल देंगे, हो गई जय हिंद|

    उत्तर देंहटाएं

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template