Latest Article :
Home » , , , » अशोक जमनानी की कहानी 'परकम्मावासिनी'

अशोक जमनानी की कहानी 'परकम्मावासिनी'

Written By Manik Chittorgarh on शनिवार, अगस्त 25, 2012 | शनिवार, अगस्त 25, 2012


इस कहानी का प्रसारण आकाशवाणी भोपाल से मई,2012 में हुआ था।अब यहाँ साभार श्रोताओं के हित में पोस्ट कर रहे हैं।कहानी कनेर नामक किरदार की है।जो नर्मदा जी के किनारे उसके जीवन के बदलते स्वरुप पर अपनी बात कहती हुयी आगे बढ़ती हुयी चलती है।-सम्पादक
Share this article :

1 टिप्पणी:

  1. बेहद ममस्पर्शी एवं रोचक कहानी मानों सभी घटनाए चलचित्र की भाँती आँखों के सामने चल रहे हो .....................

    उत्तर देंहटाएं

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template