'संवेद' का राधा मोहन गोकुल पर केन्द्रित अंक - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

'संवेद' का राधा मोहन गोकुल पर केन्द्रित अंक

अंक पढ़ने  हेतु यहाँ क्लिक करें।
 'संवेद' (सम्पादक - Kishan Kaljayee)
का बहु प्रशंसित अंक 'एक थे राधमोहन गोकुल' 
अब ऑनलाइन भी पढा जा सकता है।
 इसमें प्रेमचन्द, शिवपूजन सहाय, 
रामविलास शर्मा, राजेन्द्र माथुर, 
राधामोहन गोकुल रचनावली के 
सम्पादक Karmendu Shishir
जयसिंह 'नीरद' और रूपा गुप्काता के 
आलेखों के साथ-साथ राधामोहन गोकुल पर 
'क्रान्तिकारियों के मास्टर जी' 
शीर्षक से प्रकाश अग्रवाल से 
जयसिंह 'नीरद' की 
बातचीत भी शामिल है। 
भारतीय नवजारण के कीर्ति स्तम्भ 
राधामोहन गोकुल पर 
केन्द्रित संवेद का 44वाँ अंक 
है
 उम्मीद है अंक आपको भी पसन्द आएगा
सम्पादक: किशन कालजयी

सहसम्पादक: राजीव रंजन गिरि
सम्पादकीय सहयोग: नीरू अग्रवाल
                                    पुखराज जाँगिड़


प्रबंध सम्पादक: कुमकुम कुमारी


सम्पादकीय सम्पर्क
एफ-3/78-79
सेक्टर-16, रोहिणी, दिल्ली-110089
फोन: 011-27891526

स्वामी, प्रकाशक व मुद्रक  कुमकुम कुमारी  द्वारा
बी-3/44, सेक्टर-16, रोहिणी, दिल्ली-110089
से प्रकाशित और लक्ष्मी प्रिंटर्स, 556, जीटी रोड,
शाहदरा, दिल्ली-110032 से मुद्रित।

मूल्य: पचास रुपये

वार्षिक सदस्यता: तीन सौ रुपये

आजीवन: पाँच हजार रुपये

1 टिप्पणी:

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here