महात्मा गांधी को समर्पित अशोक जमनानी की ये सम्पादकीय - अपनी माटी

नवीनतम रचना

मंगलवार, अक्तूबर 02, 2012

महात्मा गांधी को समर्पित अशोक जमनानी की ये सम्पादकीय


श्रद्धांजलि

चलो चिल्लाते हुए बात करें
शांति की
खंज़र पर लगा हुआ
रक्त लेकर लिखें
अहिंसा
किसी बेबस दलित कन्या को
माध्यम बनाकर दूर करें
अस्पृश्यता
सीना ठोककर स्वीकार करें घोटालों को
ताकि स्थापित हो
सत्य
और हाँ !
बोतल लेकर जरूर रख लेना आज ही 
कल बंद रहेगी दुकान
किसी गाँधी के कारण .....


2 टिप्‍पणियां:

  1. वर्तमान का एक सच ..
    बापू को नमन

    जवाब देंहटाएं

  2. सामाजिक जीवन के यतार्थ को रख दिया हैं खोलकर । अब सच तो सुबक रहा हैं । गांधी की रोज हत्‍या होती है और शहादत के नाम पर सन्‍द लोग चांदी कमाते हैं ।

    जवाब देंहटाएं

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here