किशोर चौधरी का कविता संग्रह 'बातें बेवज़ह' - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

किशोर चौधरी का कविता संग्रह 'बातें बेवज़ह'

"तुम देखोगे हज़ार नयी पत्तियां
उनकी आत्‍मा छूकर चटक जाओगे
किसी अधखिली कोंपल की तरह

जि़न्‍दगी जब उतरेगी तुम पर
रख जाएगी कई काम तुम्‍हारे हिस्‍से में
बस एक मुहब्‍बत खु़द चुननी पड़ेगी........"

बातें बेवज़ह/
कविताएं/
किशोर चौधरी/
पेपरबैक/
पृष्‍ठ 168/
मूल्‍य : 80.00 रुपये/
प्रकाशक : बोधि प्रकाशन, जयपुर/
प्राप्ति के लिए
संपर्क : 082900 34632 

किशोर चौधरी 
किसी ज़माने में जोधपुर में एक अखबार से पत्रकारिता की हुरुआत करने वाले किशोर,आकाशवाणी जैसे नामचीन विभाग में उदघोषक हैं.पहले सूरतगढ़ स्टेशन के बाद अब फिलहाल बाड़मेर केंद्र पर पदस्त हैं. हथकढ़ नामक ब्लॉग के ज़रिये डायरी लेखन करते हैं. जीवन के सभी पड़ाव पर अपने आस-पास को देखने की नई दृष्ठि रखते हैं.महर्षि दयानन्द विश्वविद्यालय,अजमेर से कला स्नातक और कोटा ओपन से जर्नलिस्म में मास्टर डिग्रीधारी हैं.उनका फेसबुक खाता ये रहा 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here