श्रीमती मृदुला गर्ग को वर्ष 2012 का दुष्यन्त कुमार अलंकरण - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

श्रीमती मृदुला गर्ग को वर्ष 2012 का दुष्यन्त कुमार अलंकरण

भोपाल। 

श्रीमती मृदुला गर्ग
सुप्रसिद्ध कथाकार श्रीमती मृदुला गर्ग को वर्ष 2012 का दुष्यन्त कुमार अलंकरण प्रदान किया जायेगा, जबकि बहुचर्चित सिने-अभिनेता टाम आल्टर को विशिष्ट सेवा सम्मान से अलंकृत किया जायेगा। इसके साथ ही दरभंगा (बिहार) के मैथिली कवि श्री विभूति आनन्द को आंचलिक रचनाकार सम्मान से सम्मानित किया जायेगा। यह घोषणा आज दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय में संग्रहालय संरक्षक श्री सुशील अग्रवाल ने की। इस अवसर पर संग्रहालय की ओर से संयोजक श्री राजेन्द्र जोशी, प्रवर परिषद की संयोजक श्रीमती ममता तिवारी, उपाध्यक्ष श्री महेन्द्र गोगिया एवं निदेशक राजुरकर राज विशेष रूप से उपस्थित थे। श्री सुशील अग्रवाल ने बताया कि दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय द्वारा 1998 से ही दुष्यन्त कुमार अलंकरण प्रदान किया जाता है।

1998 में यह अलंकरण ग़ज़ल के चर्चित हस्ताक्षर श्री अदम गोंडवी को दिया गया था, जबकि गत वर्ष इस अलंकरण से सुप्रसिद्ध कथाकार पद्मश्री श्रीमती मृणाल पाण्डेय को अलंकृत किया गया। उन्होंने बताया कि संग्रहालय द्वारा सक्रिय सर्जनात्मक गतिविधि और राजभाषा में उल्लेखनीय कार्य के लिए पत्र-पत्रिकाओं को भी पुरस्कृत किया जाता है। 

इस वर्ष धर्मवीर भारती पुरस्कार दिल्ली की पत्रिका ‘शुक्रवार’ (सम्पादक श्री विष्णु नागर) को,कमलेश्वर पुरस्कार गोरखपुर की पत्रिका दस्तावेज़ (सम्पादक डा. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी) को,माखनलाल चतुर्वेदी पुरस्कार रायपुर की पत्रिका ‘सद्भावना दर्पण (सम्पादक श्री गिरीश पंकज) को,भारतेन्दु हरिश्चन्द्र पुरस्कार आईडीबीआई बैंक मुम्बई की पत्रिका ‘विकासप्रभा’ (सम्पादक डा. सुनील कुमार लाहोटी),विद्यानिवास मिश्र पुरस्कार वनमाली सृजनपीठ,भोपाल की पत्रिका रंग संवाद (सम्पादक विनय उपाध्याय) को एवं प्रभाष जोशी पुरस्कार कोलकाता की पत्रिका ‘रूपाम्बरा’ (सम्पादक श्री स्वदेश भारती) को प्रदान किया जायेगा। इसके साथ ही राजभाषा उत्कृष्टता पुरस्कार एनएचडीसी लिमिटेड, भोपाल को राजभाषा सेवा पुरस्कार दिल्ली के ओएनजीसी की वरिष्ठ प्रबन्धक डा. इला शर्मा को दिये जाने की घोषणा की गई है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here