Latest Article :
Home » , , , » 'बनास जन' विशेषांक (वर्तमान समय में मार्क्सवाद)

'बनास जन' विशेषांक (वर्तमान समय में मार्क्सवाद)

Written By Manik Chittorgarh on बुधवार, दिसंबर 19, 2012 | बुधवार, दिसंबर 19, 2012


सम्पादक 
बनास जन 
फ्लेट न. 393 डी.डी.ए.
ब्लाक सी एंड डी
कनिष्क अपार्टमेन्ट 
शालीमार बाग़
नई दिल्ली-110088
मो-08130072004
ई मेल -banaasjan@gmail.com

बनास जन का नया अंक आ गया है। 
यह एक विशेषांक है जिसमें 
विख्यात युवा आलोचक गोपाल प्रधान ने वर्तमान समय में मार्क्सवाद विषय पर सुचिंतित विवेचन किया है। 
विचारधारा का  संकट कहे जाने पर भी हमारे समय में विचारधारा का कोई विकल्प फिलहाल नहीं है 
और ऐसी ही तमाम बहसों को समेटता यह अंक आपको अवश्य पठनीय लगेगा। 
अंक दिल्ली के जे एन यू, यू स्पेशल, एन एस डी के स्टाल्स पर उपलब्ध है।  

आप डाक से इस अंक को मंगवाने के लिए पचास रुपये का मनी आर्डर नीचे दिए पते पर भिजवा दें,
अंक आपको रजिस्टर्ड डाक/कोरियर से भिजवा दिया जाएगा। 
आप चाहें तो 
चार अंकों की सदस्यता के लिए 200 रुपये अथवा 
2000 रुपये आजीवन सदस्यता के भिजवा सकते हैं। 




गोपाल प्रधान
Dr. Gopalji Pradhan
Associate Professor 
School of Liberal Studies 
Ambedkar University, Delhi
Lothian Road
Kashmere Gate
Delhi-110006

  • जन्म : बंगाल के बर्दवान जिले के रूपनारायणपुर में
  • निवास : उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के सुल्तानपुर गांव  
  • शिक्षा और अध्यापन के क्रम में भारत के तकरीबन सभी महत्वपूर्ण शिक्षा संस्थान देख सुन लिए ।
  • किताबें :
  • रवींद्रनाथ ठाकुर का शिक्षा दर्शन,
  • आर्नल्ड हाउजर की कला का इतिहास दर्शन,
  • वर्जीनिया वुल्फ़ की अपना कमरा,
  • हाब्सबाम की इतिहासकार की चिंता,
  • बाटमोर की समाजशास्त्र एंथनी ब्रेवेर की साम्राज्यवाद की मार्क्सवादी व्याख्याएं का अनुवाद;
  • छायावादयुगीन साहित्यिक वाद विवाद
  • हिंदी नवरत्न तथा चेखव की जीवनी प्रकाशित हैं
  •  इक्कीसवीं सदी में मार्क्सवाद के विकास, पूर्वोत्तर के यात्रा संस्मरणों और
  • एक बेतरतीब डायरी को तरतीब देने की कोशिश जारी है
  •  हिंदी की तकरीबन सभी प्रमुख पत्रिकाओं में हिंदी क्षेत्र की
  •  साहित्यिक सांस्कृतिक समस्याओं के बारे में निरंतर लेखन
  •  फ़िलहाल अंबेडकर विश्वविद्यालय, दिल्ली में स्कूल आफ़ लिबरल स्टडीज में हिंदी अध्यापन कर रहे हैं
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template