Latest Article :
Home » , , » साहित्यिक त्रैमासिक 'संवदिया ' का युवा कविता विशेषांक

साहित्यिक त्रैमासिक 'संवदिया ' का युवा कविता विशेषांक

Written By Manik Chittorgarh on बुधवार, दिसंबर 26, 2012 | बुधवार, दिसंबर 26, 2012


‎'संवदिया' का बहुप्रतीक्षित

 'युवा हिंदी कविता अंक'

 अतिथि संपादक 

( ‘गीतांजलि के हिन्दी अनुवाद’ 
शीर्षक से एक आलोचना पुस्तक के लेखक हैं ,साथ ही हिन्दी के युवा कवि, संपादक एवं आलोचक हैं)

साहित्‍य अकादेमी,नई दिल्‍ली
मो -9868456153
ई-मेल:-devendradevesh@yahoo.co.in

इसमें 91 युवा कवियों की कविताऍं शामिल हैं। 

साथ ही वर्तमान समय में हिंदी कविता की चुनौतियों पर  जितेन्द्र श्रीवास्तव 

का आलेख तथा कुछ वरिष्‍ठ कवियों की टिप्‍पणियॉं शामिल हैं।


मूल्य :-40/-

पता:-

संपादक 'संवदिया'

संवदिया प्रकाशन, 

जयप्रकाश नगर, वार्ड नं. 7

अररिया 854311 (बिहार), मो. 0993223187

Share this article :

4 टिप्‍पणियां:

  1. ''जब सौ मासूम मरते होंगे, तब एक कवि पैदा होता होगा।'' उक्‍त अंक में वरिष्‍ठ हिंदी कवि चंद्रकांत देवताले ने हिंदी कविता की चुनौतियों पर टिप्‍पणी करते हुए यह बात लिखी है। विमर्श में शामिल अन्‍य कवि हैं : विश्‍वनाथ प्रसाद तिवारी, अशोक वाजपेयी, लीलाधर जगूड़ी, नंदकिशोर आचार्य, राजेश जोशी, उदय प्रकाश, अरुण कमल, मदन कश्‍यप, अनामिका, निरंजन श्रोत्रिय, अरविंद श्रीवास्‍तव और नीलेश रघुवंशी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अग्रिम शुभकामनाएं ..बंधुवर देवेश जी को, अंक की प्रतीक्षा रहेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये अंक कब तक मिलेगा, और मैं बंगलौर में इसे किस प्रकार खरीद सकता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. युवाओं के चिंतन के प्रति सजग है संवदिया।

    उत्तर देंहटाएं

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template