'समकालीन सरोकार' का दिसंबर अंक :एक रूपरेखा - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

'समकालीन सरोकार' का दिसंबर अंक :एक रूपरेखा

























रूपरेखा 


  • पुरस्कारों की बाढ़ में फेंके गये लेखक की 

  • मजबूरी....रमेश उपाध्याय 3 

  • दलित और अल्पसंख्यक लेखकों की उपेक्षा का सच 

  • अब्दुल बिस्मिल्लाह 6 

  • हिंदी को लालीपाप, अंग्रेजी को मलाई वैभव सिंह 9

  • बोलेगा लेखन, पुरस्कार नहीं नीला प्रसाद 12

  • कौन पूछेगा सवाल मुद्राराक्षस 13

  • अब तो इस तालाब का पानी बदल दो... पल्लव 14

  • पुरस्कृत नैपाल पर बवाल और सवाल विष्णु खरे 15

.......................................
समकाल 
..................................................

  • अनेकरूपा वेश्या जैसी ही तो है राजनीति विभांशु दिव्याल 21

  • कहीं डूबें न सनम, कांग्रेस-भाजपा दोनों का बड़ा डर वीरेंद्र सेंगर 23

  • कांग्रेस का बदला कलेवर कितना काम आयेगा अवधेश कुमार 27

  • आगत की चिंता उमेश चतुर्वेदी 30

  • राजनीति में सिद्धांत की बात करते हो, बेवकूफ हो राजनाथ सिंह सूर्य 33

  • पाकिस्तानी दलों को चरमपंथ की कृपा चाहिए रहीस सिंह 36

  • आपरेशन एक्स या मजाक बिहारी यादव 38

  • चीन और अमेरिका के चेहरे बदलेंगे क्या प्रभात कुमार रॉय 39
..................................
साहित्य 
........................................


  • दुखिया दास कबीर अभिषेक कश्यप 43

  • कविताएं निलय उपाध्याय 47

  • गज़लें चंद्रभाल सुकुमार और कमलेश भट्ट ‘कमल’ की 49

  • सम्मान संहारक सीडी संजीव जायसवाल ‘संजय’ 50

  • कोई वैचारिक विस्फोट नहीं 51

  • सारी व्यथा जीकर विनोद तिवारी 58 
...................................
अंचल 
..................................

  • रायबरेली: बात ही कुछ और है आनंद श्रीवास्तव 61

  • फैज़ाबाद के उपद्रवों के पीछे कौन रघुवंशमणि 66

  • अस्तित्व का संकट झेलती झारखंडी भाषाएं देवेंद्र गौतम 68

..............................

विवाद...............................
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में अनुराधा नाट्य पुंज प्रकाश 18


अंक हेतू 

प्रधान संपादक 

सुभाष राय से संपर्क किया जा सकता है 

नंबर है-09455081894

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here