राजस्थान साहित्य अकादमी द्वारा 16 पुस्तकों पर 1.38 लाख रु. का सहयोग - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

राजस्थान साहित्य अकादमी द्वारा 16 पुस्तकों पर 1.38 लाख रु. का सहयोग

उदयपुर/3 जनवरी, 2013: 

राजस्थान साहित्य अकादमी की ‘‘प्रकाशित ग्रंथों पर सहयोग’’ योजना अन्तर्गत इस वर्ष 16 ग्रंथों  पर लेखकों को 1.38 लाख रु. का आर्थिक सहयोग स्वीकृत किया गया है। अकादमी अध्यक्ष  वेद व्यास ने अवगत कराया कि इस योजना में अकादमी निम्न को सहयोग देगी।

  • 10-10 हजार रु. का सहयोग 
  • ‘पत्थर होते हुए’ (काव्य) श्री सत्यदीप (श्रीडूंगरगढ़),
  • ‘दस्तक’ (काव्य) श्री विकास चतुर्वेदी (जयपुर), 
  • ‘भीगी पलकों में उजास’ (कहानी) श्रीमती रेखा पंचोली (कोटा),
  • ‘क्षमादान’ (कहानी) श्रीमती बीना चौहान (जयपुर),
  • ‘आधा सुख आधा चाँद’ (कहानी) श्री राजेश कुमार भटनागर (अजमेर)
  •  08-08 हजार रु. का सहयोग 
  • ‘स्पंदन’ (काव्य) श्री कैलाश पण्डा (नोहर),
  • ‘दर्द में डूबी सदा’ (काव्य) श्री हरीश पाथेय (झालावाड़),
  • ‘कितनी अकेली है धूप’ (काव्य) डॉ. सुधीर सोनी (जयपुर),
  • ‘सबके साथ मिल जाएगा’ (काव्य) श्री राजेश जोशी (बीकानेर),
  • ‘प्रतीक से पहचान मुझे’ (काव्य) श्री लक्ष्मीनारायण आचार्य (बीकानेर),
  • ‘खिल गया जो शब्द’ (काव्य) श्री विशन मतवाला (बीकानेर),
  • ‘सच्चे दोस्त’ (कहानी) श्री गोविन्द भारद्वाज (अजमेर),
  • ‘नई रोशनी’ (कहानी) श्री संजय जगनाल (बीकानेर),
  • ‘कोई तो है और अन्य कहानियां’ (कहानी) श्री हनुमान दीक्षित (नोहर),
  •  ‘वैदेही’ (उपन्यास) श्रीमती शारदा शर्मा (संगरिया),
  • ‘प्रकृति चिन्तन’ (चिन्तन) श्री अशोक गुप्ता (कोटा) 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here