Latest Article :
Home » , » ‘क्रांति गाथा’ का लोकार्पण

‘क्रांति गाथा’ का लोकार्पण

Written By Manik Chittorgarh on गुरुवार, जनवरी 24, 2013 | गुरुवार, जनवरी 24, 2013



23 जनवरी,2013 को सहरसा विधि महाविधालय में डा. जी. पी. शर्मा रचित काव्य ग्रंथ ’क्रांति गाथा’ का लोकार्पण करते हुए भू.ना.मं. विश्ववि. मधेपुरा के  संस्थापक कुलपति  डा. रमेन्द्र कु. यादव ’रवि’ने कहा कि विगत चालीस वर्षों में ‘क्रांति गाथा’ जैसी पुस्तक पढ़ने का पहली बार मौका मिला, 1857 से 1947 तक के भारतीय मुक्ति  संघर्ष के इतिहास को काव्यात्मक शैली में पिरोकर कवि डा. जी. पी. शर्मा ने भारतीय जनमानस का बड़ा उपकार किया है। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा धर्म साहित्य का सृजन है, जिसमें सृजन की चेतना है वही साहित्यकार है। हम युग को बदलते हैं युगधर्म बदलते हैं। हम क्रान्ति को पालते हैं क्रांति का प्रचार प्रसार करते हैं। 

इतिहासकार एवं,वरिष्ठ कवि हरिशंकर श्रीवास्तव ’शलभ’ ने कहा कि भारतीय राष्ट्रवाद के इतिहास के प्रमाणिक वृतांतों को बड़ी निष्ठा और परिश्रम से सुंदर, सरल, सुबोध एवं सार्थक काव्यमयी वाणी देकर कवि ने गाथा काव्य परंपरा को आगे बढ़ाने का सारस्वत प्रयास किया है।  प्रो. आचार्य धीरज ने कहा कि बदलाव हुआ है क्रांति नहीं! विचार का भावात्मक रूप ही साहित्य है.. वस्तुतः विचार का अंत नहीं हुआ है जैसा कि सोवियत संघ के विघटन पर फ्रेंसिस फुकियामा ने कहा था। 

साहित्यिक पत्रिका ‘क्षणदा’ के संपादक सुबोध कुमार सुधाकर ने कहा कि देश और काल के अनुरूप परिभाषाएँ तथा मान्यताएँ बदलती रहती है। वत्र्तमान साहित्य में जब गद्यमय साहित्य सरस कविता हो सकती है, हाइकु विधा साहित्य की कोटि में आ सकती है तो डा0 शर्मा का यह काव्य ग्रन्थ ‘क्रांति गाथा’ शास्त्रीय मतान्यताओं से  किंचित हट कर भी महाकाव्यत्व को क्यो नहीं प्राप्त कर सकता ! निःसंकोच ‘क्रांति गाथा’ की गणना महाकाव्यों की कोटि में की जा सकती है। कार्यक्रम की अध्यक्षता साहित्यकार डा. रमेश चंद्र वर्मा एवं संचालन प्रो. अरविन्द ‘नीरज’ ने किया। समारोह के अन्य वक्ता प्रो. सी पी सिंह , कथाकार ध्रुव तांती, डा. भूपेन्द्र ना. यादव ‘मधेपुरी,’ प्रो. विनय चैधरी, प्रो. रतनदीप, अरविन्द श्रीवास्तव, मुख्तार आलम एवं मुर्तजा नरियारवी आदि थे।
Share this article :

1 टिप्पणी:

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template