Latest Article :
Home » , , , , » 'समकालीन सरोकार' का मार्च-2013 अंक:आखिर क्यों लिखती हैं स्त्रियाँ

'समकालीन सरोकार' का मार्च-2013 अंक:आखिर क्यों लिखती हैं स्त्रियाँ

Written By Manik Chittorgarh on शुक्रवार, मार्च 08, 2013 | शुक्रवार, मार्च 08, 2013


शब्दों में धड़कती समय की नब्ज़ 
                                                   समकालीन सरोकार
                                     विचार, साहित्य और अनुसंधान का जनपक्षधर मासिक पत्र 
बीते छ: माह में ही अपनी सशक्त शुरुआत, सम्पादकीय और प्रबंधकीय कुशलता के साथ चयनित लेखकों को छापती हुई मासिक पत्रिका 'समकालीन सरोकार' का पाठकों ने बहुत स्वागत किया है।यथाशक्ति अपनी जनपक्षधरता के लिए  पर्याप्त रूप से प्रयासरत पत्रिका बहुत आगे तक का रास्ता तय करेगी ऐसी आशा है।भयंकर किस्म के बाजारवाद के बीच बहुत कम विज्ञापनों के बाद भी अपने सार्थक कंटेंट के साथ बनी हुई इस पत्रिका की पूरी मंडली को बधाई।

मार्च-2013 अंक इसकी यात्रा में एक बड़े पड़ाव के रूप में अंकित किया जाना चाहिए जहां विश्व महिला दिवस के आसपास इस अंक में सम्पूर्ण सामग्री महिलाओं पर केन्द्रित हैं। 'आखिर क्यों लिखती हैं स्त्रियाँ ' शीर्षक से देश की चयनित महिला रचनाकारों से एकत्र सामग्री छापी गयी है।इस विशेष अंक का सम्पादन रजनी गुप्ता ने किया है। अंक में मैत्रेयी पुष्पा, नमिता सिंह, वन्दना राग, अर्चना वर्मा, मनीषा कुलश्रेष्ठ, गीताश्री अनामिका अनिता भारती, पूनम सिंह, विपिन चौधरी, वीभा रानी, राजी सेठ, दीपक शर्मा जैसे लेखिकाएं शामिल हैं।

इसी अंक में सम्पादकीय 'दूसरा पहलू' और 'दो बातें' के अलावा सिनेमा और रंगमंच वाले कॉलम में राहुल सिंह, पुंज प्रकाश को पढ़ा जा सकता है। अंक में विनोद तिवारी, विमल कुमार, कृष्ण प्रताप सिंह का लेखन भी शामिल किया गया है।


पत्रिका संबंधी दूजी ज़रूरी जानकारियाँ

पंजीकरण 
UPHIN 2012/46217
ISSN 2319-5185

प्रबंध सम्पादक -रमेश चन्द्र मिश्र 
प्रधान सम्पादक-सुभाष राय
सम्पादक-हरे प्रकाश उपाध्याय
सम्पादन सहयोग-चंद्रेश्वर

सम्पादकीय संपर्क 

विनीत प्लाज़ा,फ्लेट नंबर-1 
विनीत खंड-6 
गोमतीनगर,लखनऊ (उत्तर प्रदेश)
मो-09455081894,08756219902
ईमेल-samaysarokar@gmail.com

मूल्य 

25/-एक अंक 
300/-वार्षिक 
500/- संस्थाओं के वार्षिक
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template