बाल कविताएँ / शिव प्रताप पाल - अपनी माटी

नवीनतम रचना

शनिवार, फ़रवरी 15, 2014

बाल कविताएँ / शिव प्रताप पाल

साहित्य और संस्कृति की मासिक ई-पत्रिका            'अपनी माटी' (ISSN 2322-0724 Apni Maati )                 फरवरी-2014 

चित्रांकन:इरा टाक,जयपुर 

अपनी जूती अपने सिर

बिल्ली मौसी बड़ी सयानी
वह तो नानी की भी नानी
पर चूहों का सरदार निराला
बड़े बड़ों को धूल चटाता

बिल्ली जब भी प्लान बनाती
सफल नहीं वह हो पाती
फिर उसने एक प्लान बनाया
हाँ एक अच्छा प्लान बनाया

सुबह सवेरे बिल्ली मौसी ने
झट अपना दरबार लगाया
चूहों के सरदार को उसने
फ़ौरन अपने यहाँ बुलाया

बोल पड़ी थी बिल्ली रानी
आओ आओ चूहे राजा
मैं अपनी कुछ बात सुनाऊं
अपने दिल का हाल सुनाऊं

बहुत साल से चूहे खाकर
मैंने ढेरों पाप कमाए
नौ सौ चूहे पूरे खाकर
अब है मेरी आँख खुली

अब मैंने हज करने का
सुन्दर सा है प्लान बनाया
अब मै करुँगी शाकाहार
तुम हो चूहों के सरदार

तुम कुछ शाकाहार ले आओ
तुम ही पहला कौर खिलाओ
मुझको अपना दोस्त बनाओ
मुझसे बिल्कुल मत घबराओ

चूहों का सरदार था भोला
पर था थोड़ा सीधा टेढ़ा
भाँप गया बिल्ली की चाल
जान गया वह दिल का हाल
जैसे ही वह कौर खिलाता
बिल्ली का आहार बन जाता
बोल पड़ा वह – ‘बिल्ली मौसी
तुम हो पूरी धुन की पक्की’

प्लान तुम्हारा अच्छा है
हज जाना भी पक्का है
हज जाना है, बिल्कुल जाओ
पर पहले तीरथ कर आओ

कल रात को शुभ मुहूर्त है
पर साथ में चंद्र ग्रहण है
चंद्र दर्शन नहीं है करना
आँख में पट्टी बाँध कर रखना

मैं जब तुमको आवाज़ लगाऊं
दौड़कर मेरे पीछे आना
गंगासागर ले जाऊँगा
तुमको स्नान करवाउंगा

अगले दिन थी बिल्ली तैयार
कर रही थी इन्तज़ार
इतने में आवाज़ थी आयी
बिल्ली रानी दौड़ के आओ

देर हुई अब जल्दी आओ
शुभ मुहूर्त है जाने को अब
तुमको शीघ्र पहुंचना होगा
चंद्रग्रहण न तकना होगा

बिल्ली की आँख पर पट्टी थी
देख नहीं वह सकती थी
चूहे ने आँख खुली रखी
दौड़ दौड़ कर चलता जाता

रास्ता भी समझाता जाता
चूहा बढ़ा कुएं की ओर
पीछे पीछे थी बिल्ली रानी
आगे चूहों का सरदार
चूहा पहुँचा कुएं के पास
धीरे से उसने रास्ता बदला
बिल्ली ने जैसे कदम बढ़ाया
खुद को कुएं के अन्दर पाया

कुआं बहुत ही गहरा था
पानी भी उसका ठंडा था
काँप रही थी बिल्ली रानी
अब आयी थी अक्ल ठिकाने

गुर्रा कर गुस्से से बोली
यह तो धोखा है सरदार
मुझे मारने की है चाल
अब मैं कैसे बाहर आऊँ

बोला चूहों का सरदार
माना मैंने धोखा है यह
पर जैसे को तैसा है यह
मैं तुमको एक बात बताऊँ

तुम्हारी दादी ने भी मेरे दादा से 
कुछ ऐसी ही बात कही थी
मेरे दादा थे भोले – भाले
वे उनकी बातों में आये

व्यर्थ ही अपनी जान गँवाए
मैं यदि वह गलती दुहराता
मैं भी अपनी जान गँवाता
महामूर्ख भी कहा ही जाता

तो ऐसा है बिल्लो रानी
थी तो तुम भी बड़ी सयानी
पर धोखेबाज़ी सदा न चलती
अपनी जूती अपने सिर पड़ती
-----------------------------


अंडे का पेड़ 

बबलू था एक भोला बच्चा
वह तो था सीधा व अच्छा
पर थोड़ा था अक्ल का कच्चा
फिर भी था वह धुन का पक्का

एक सुबह टीचर ने उसकी
उसको था विज्ञान पढ़ाया
बीज से पौधा पैदा है होता

बीज यदि मिट्टी में बो दो
खाद पानी और हवा उसे दो
तो वह पौधा है बन जाता

अगले दिन उसकी टीचर ने
एक नया था पाठ पढ़ाया
अंडे से मुर्गी पैदा है होती

बबलू ने जब बात सुनी तो
आइडिया एक दिमाग में आया
जैसे तैसे जब घर पहुंचा

फ़ौरन फ्रिज की ओर था लपका
थोड़ा ताका, थोड़ा झाँका
एक अंडा था लिया निकाल

दौड़ पड़ा वह हो बेहाल
जल्दी से वह बाग में पहुंचा
एक छोटा सा गड्ढा था खोदा

अंडे को उसमे था खोंसा
और ऊपर से मिट्टी भर दी
फिर उसको था जल से सींचा


ऐसा करके घर को लौटा
अब रोज़ सुबह वह बाग में जाता
गड्ढे पर वह नज़र गड़ाता

ऐसे बीत गया दो हफ्ता
पर अंडे का पेड़ न निकला
न ही उससे मुर्गी निकली
सोच रहा था प्यारा बबलू
अंडा शायद था बेकार

या फिर टीचर करते बकवास
------------------------------
महँगाई की मार

महँगाई की मार पड़ी तो
सेठ करोड़ी मुस्काता है
उसको अब तो लाभ दोगुना
होता नज़र साफ़ आता है

पर बेचारे रामदीन का
कलेजा मुँह को आता है
क़र्ज़ लिया था खेती हेतु
मौसम ने मुँह चिढ़ाया था

थोड़ा बहुत जो फसल हुई थी
सेठ ने सस्ते में उठाया था
सब कृषकों का अन्न क्रय कर
पूरा गोदाम भर डाला था

रामदीन पथराई आँखों से
सोचता ही रह जाता है
पर कोई भी साफ़ रास्ता
उसे नज़र नहीं आता है

कैसे अदा करे वह कर्जा
कैसे उसका ब्याज भरे
कैसे अपने दो छोटे बच्चों
के पेट में कुछ दाने डाले

कैसे अपनी करे दवाई
दमा दिनों दिन बढ़ता है
पत्नी के आँसू उसको
रोज़ रुलाते जाते हैं

अम्मा की आँखों का मोतिया
फटने को आ जाता है
हर बार उसका आपरेशन
होते होते रह जाता है

नहीं सूझता अब तो कुछ भी
रामदीन खिसियाता है
पर व्यवस्था का कसा शिकंजा
उसे जकड़ता जाता है
आत्महत्या करने का
उसका मन हो आता है
पर समस्या का हल

फिर भी नज़र नहीं आता है
------------------------------

शिव प्रताप पाल 
वीणाकथाबिंबहिमप्रस्थ
वर्तमान साहित्य
हिमाचल दस्तकगिरिराज
गांव की नई आवाज़
अवसरकश्मीर टाइम्ससुमन सागर
शब्द मंच आदि पत्र-पत्रिकाओं 
में रचनाएं प्रकाशित

सम्प्रति:
संगणक विज्ञान विषय का अध्यापन
सम्पर्क:
द्वारारणवीर इलेक्ट्रिकल्स
बीएसएनएल टेलीफ़ोन एक्सचेंज 
के सामने
अखनूर (जम्मू)-181 201
(जम्मू-कश्मीर) 
ई-मेल: shivppal@gmail.com
मो-+91 9469682504

Print Friendly and PDF

1 टिप्पणी:

  1. सुंदर भावों को संजोए शिक्षाप्रद कविताएँ।
    भोली और मासूम।
    - पाण्डेय अनिक

    जवाब देंहटाएं

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here