Latest Article :
Home » , , » ग़ज़ल: कौटिल्य भट्ट ‘सिफ़र

ग़ज़ल: कौटिल्य भट्ट ‘सिफ़र

Written By Manik Chittorgarh on मंगलवार, अप्रैल 15, 2014 | मंगलवार, अप्रैल 15, 2014

           साहित्य और संस्कृति की मासिक ई-पत्रिका            
'अपनी माटी' 
(ISSN 2322-0724 Apni Maati
इस अप्रैल-2014 अंक से दूसरे वर्ष में प्रवेश
चित्रांकन:रोहित रूसिया,छिन्दवाड़ा



(1) 

मुझे फिर वही ख़्वाब आने को है
सिले ज़ख्म दिल के खुल जाने को है 

दोस्ती,प्यार और अपनापन 
ये रिश्ते फख्त जी बहलाने को है 

रोशनी खुलकर  नहीं आती यहाँ  
लगता है छाँव धूप को सताने को है 

दर्द बढ़ रहा है आज मुसलसल 
खुशी कोई इस तरफ आने को है 

बाज़ार में खरीददार नहीं कोई 
जज़्बात दिल के बिक जाने को है 

कुछ यूँ करो आफताब दिखे अंधेरों में 
जागे परिंदे शाखों पर चहचहाने को है

घुटता रहता हूँ मैं घर की चार दीवारों में
और लोग यहाँ रोशनी में नहाने को है 

सजा ज़िंदगी और मौत इंसाफ है 
मुफ़लिसो ज़माना यही बताने को है 

गालिब की जुबां समझते हैं जो लोग 
'सिफ़र' इन्हीं को ये ग़ज़ल सुनाने को है 














                 कौटिल्य भट्ट ‘सिफ़र’
मूल रूप से राजगढ़,मध्य प्रदेश के हैं.
चित्तौड़गढ़,राजस्थान से ताल्लुक रखते हैं 
पठन-लेखन में रूचि मगर
छपने-छपाने में अरूचि संपन्न युवा साथी हैं 
गुजरात,मध्यप्रदेश और राजस्थान में 
बहुत घुमक्कड़ी की है।
राजस्थान सरकार के रजिस्ट्रार विभाग 
में निरीक्षक के पद 
पर सेवारत हैं 
मोबाइल-09414735627
ई-मेल:kautilya1576@gmail.com
Print Friendly and PDF














Share this article :

2 टिप्‍पणियां:

  1. महोदय,

    अपनी माटी से एक सोंधी सी सुगंध बहर के जाती तो है
    वे हैं कहीं मशगूल, पर पूरी फसलें यहां लहलहाती तो हैं ।

    जिन्हें नहीं है भरोसा अपनी जमीन का वे जाएं घर छोड़ यह देश, विदेश
    देखों वहां दूर आम्र-कुंञ्जों में आज भी वह प्रेम का संगीत गुनगुनाती तो है ।

    जिंदगी कहीं भी ले जाए हमें, हम जाने को हरदम तैयार बैठें हैं यारों
    पर इस छप्पर तले चिड़िया अपने बच्चों के संग फुदक चह-चहाती तो है ।

    लाख चाहेंगे वे कि इस जमीन पर हज़ारों लकीरें खींच कर अलग करें
    एक समंदर की लहर किनारे आ के पल में उसे मिटा के चली जाएगी ।

    कुछ समझ आ जाती रहबरदारों को तो इस माटी को माटी कहने पर
    एक बार में ही उनके अक्ल के परदे खुलते, रौशनी उनके घरों में जाती ।

    किन्तु जिन्हें नहीं अपनी माटी की परख सोने की सड़कें बनाके क्या होगा
    आखिर मीठा पानी तो इस माटी के हृदय में है, वहीं से हमें लाना होगा ।

    फकीर बनना जरुरी है ताकि माटी की जान से जान मिला सको तुम
    वर्ना पल में सोना, पल में चांदी बन जाओगे, पर माटी को तरसोगे ।

    आओ इस माटी का हक अदा करें और माटी के शब्द को ले कर चलें
    रास्ते में होथेलियों पे क्यारियां सज जाएंगी और फूल वहीं मुस्कुराएंगे ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया पंक्तिया है बधाई

    उत्तर देंहटाएं

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template