स्वीकृत रचनाएँ / Accepted Articles




अनुक्रमणिका


सम्पादकीय   
  •                      
धरोहर
  •  
बतकही
  • थियेटर का मकसद है कि दर्शक के मन में सवाल उठना चाहिए : रणवीर सिंह ( बलदेवा राम की बातचीत )
  • जिजीविषा को निरंतर बनाए रखना साहित्य की एक बड़ी उपादेयता : कमलेश भट्ट कमल’ ( डॉ. दीपक कुमार की बातचीत ) 
वैचारिकी
  • हिंदी के अस्मितावादी साहित्य के इतिहास लेखन में परंपरा, अनुभूति और चेतना का प्रश्न : स्त्री साहित्येतिहास के विशेष संदर्भ में / प्रदीप कुमार
  • बाला बोधनी : स्त्री प्रश्न के दायरे में / डॉ. अवन्तिका शुक्ला
  • समावेशी लोकतंत्र के आईने में आधी आबादी के विकास का सच / आसीन खाँ
  • हिंदी साहित्य की गुणवत्ता का आंकलन : तकनीकी विकास के परिप्रेक्ष्य में / अभिषेक सिंह 
सिनेमा की दुनिया
  • अखरा : दस्तावेजी फिल्मों के ज़रिए आदिवासी आंदोलनों को व्यक्त करते बीजू टोप्पो और मेघनाथ / प्रीति
  • हिन्दी सिनेमा के गीत और पारसी रंगमंच / अभिषेक कुमार पाण्डेय 
पत्रकारिता के पहाड़े
  • भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में बनारस की पत्रकारिता की भूमिका / डॉ. उज्ज्वल चन्द्र दास 
संघर्ष के दस्तावेज
  • पुरुष भक्त कवियों का स्त्रीस्वर: जेंडर और सेक्सुअलिटी के विविध आयाम / अजय कुमार यादव
  • दलित साहित्य और ओमप्रकाश वाल्मीकि की कविता / डॉ. दिनेश कुमार यादव
हूल-जोहार
  • आदिवासी महिला कथाकार और उनका सामाजिक सरोकार / शैलेश यादव 
समानांतर दुनिया
  • भारतीय समाज और साहित्य में आधुनिक युगीन स्त्री-चेतना और संघर्ष / तहसीन मजहर
  • भारत में महिलाओं पर वैश्वीकरण का प्रभाव: एक महत्वपूर्ण समीक्षा / डॉ. जगदीप सिंह एवं डॉ. ममता कुमारी
  • मनीषा कुलश्रेष्ठ की कहानियों में चित्रित स्त्री जीवन / वंदना पाण्डेय एवं डॉ. विश्वजीत कुमार मिश्र
  • डिजिटल मीडिया माध्यम और पूर्वाग्रहों को तोड़ती सफल महिला उद्यमी / डॉ. अमिता एवं अदिति खरे 
  • महिलाओं के समक्ष युद्धकालीन चुनौतीः हिंसा व संस्कृति के मध्य सम्बन्ध / रिंकल त्यागी एवं डॉ. सुभाष कुमार बैठा
विरासत
  • अपभ्रंश काव्य में लौकिक मुक्तक काव्य परम्परा / रामानन्द यादव
  • महात्मा गाँधी के चिंतन का राष्ट्रीय आंदोलन के दौर में कलात्मक सृजन पर प्रभाव : एक मूल्यांकन / डॉ. पवन कुमार जांगिड
  • मानवता के सजग प्रहरी कवि रहीम / आशीष कुमार मौर्य
  • भारत में नवजागरण का स्वरूप / डॉ. नीतू बंसल 
लोक का आलोक
  • 21वीं सदी के हिंदी उपन्यासों में 'रामायण' के उपेक्षित स्त्री पात्र : अस्तित्व एवं अस्मिता का प्रश्न / रिचा नागर
  • हिंदी साहित्य के विकास में छत्तीसगढ़ के साहित्यकारों का योगदान / राकेश कुमार 
अनकहे-किस्से
  • उदारीकरण के बाद हिन्दी कहानी में संरचनात्मक परिवर्तन / कुमकुम यादव एवं डॉ. दीनानाथ मौर्य
  • शांता कुमार के उपन्यासों में सामाजिक सरोकार / धर्म चन्द 
दीवार के उस पार
  • भारत-विभाजन विषयक उपन्यासों में शकुन-अपशकुन के बिम्बचित्र / सौरभ सराफ़ एवं डॉ. अर्चना झा 
देशांतर
  • जोशीमठ ब्लॉक में पर्यटकों का कालिक व स्थानिक विश्लेषण / डॉ. दीपशिखा शर्मा एवं दीपांक्षी सिंह
  • समकालीन हिन्दी कहानी में पर्यावरण विमर्श / रहीम मियाँ 
कवितायन
  • हिंदी कविता में आधुनिकता का प्रवेश-द्वार : द्विवेदी युग / प्रीति राय
  • जीवन संघर्ष के कवि निराला’ / विनोद कुमार
  • प्रवीणराय का काव्य / डॉ. आरती रानी प्रजापति
  • कविता में कथा कहने वाला कवि-केदारनाथ सिंह / सुमित कुमार चौधरी 
नीति-अनीति
  • सोशल मीडिया एवं राजनीतिक सहभागिता / मौर्य दिनेश नरसिंह एवं डॉ. नागेन्द्र कुमार सिंह
  • निःशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम-2009के क्रियान्वयन में विद्यालय प्रबंधन समितिकी भूमिका का अध्ययन / श्याम सुन्दर पटैरिया एवं डॉ. नेहा निरंजन
  • खिलाड़ियों के शारीरिक व मानसिक विकास में योग की प्रासंगिकता / देवेश कुमार एवं डॉ. ऊधम सिंह
  • स्वतंत्र भारत में दिल्ली राज्यक्षेत्र की राजनीतिक-प्रशासनिक संरचना में लोकतांत्रिक मूल्यों का विश्लेषणात्मक अवलोकन / सुशील कुमार एवं प्रो. हिमांशु बौड़ाई 
बींद-खोतली
  • वैश्विक महामारी कोविड-19 की चिकित्सा में पातालकोट (मध्यप्रदेश) की जनजातीय औषधियों के चिकित्सकीय महत्व का विश्लेषण - डॉ. राहुल पटेल
  • मनुष्य के रक्त में प्लास्टिक वनाम प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियम / अंजली दीक्षित 
अध्यापकी के अनुभव
  • डॉ. मोहम्मद हुसैन डायर 
समीक्षायन
  • आम औरत जिन्दा सवाल / विष्णु कुमार शर्मा
  • बृजेश यादव
  • बीस बरस : बुझते गाँव का महाआख्यान / प्रदीप कुमार सिंह
 
कथेतर का कौना
  • वह सफर जो याद रहा / डॉ. विजया दीक्षित 
यवनिका पतन
  • जन नाट्य मंच के नुक्कड़ नाटकों में स्त्री जीवन का संघर्ष / अभिषेक कुमार 
रंगायन
  • समसामयिक अर्मूत कला में सम्प्रेषण: एक विवेचना / प्रो. अजय कुमार जैतली एवं मंजू यादव
  • भारत में जनजातीय समाज एवं उनकी प्रमुख कलाएँ / प्रो. अजय कुमार जैतली एवं पूजा कुशवाहा

30 सितम्बर 2022 तिथि में प्रकाश्य सामान्य अंक 5 अक्टूबर 2022 को पोर्टल पर लाइव होगा
स्वीकृत रचनाओं की पूरी सूची 30 सितम्बर 2022 को जारी होगी
------------------------------------------------------------------