सदस्यता-सहयोग / Membership

सदस्यता-सहयोग / Membership
============================================================
महत्वपूर्ण सूचना : 'अपनी माटी' ई-पत्रिका की समस्त प्रकार की सूचना आपको वाट्स एप द्वारा या ब्रोडकास्ट लिस्ट द्वारा भेजी जाती है इसलिए यह नंबर 9460711896 आप 'माणिक, सम्पादक,अपनी माटी' के नाम से सेव करके रखें तभी आपको ज़रूरी सूचना समय पर मिल सकेगी.शुक्रिया
============================================================

नमस्कार,  हम प्रकाशन और आयोजन संबंधी सभी कार्य मित्रों और लेखकों के सहयोग से ही करते रहे हैं। आप के बूते ही आगे भी काम करने का इरादा रखते हैं। यह एक सामान्य अपील है जो हम अपने सम्पर्क में आए सभी रुचिशील साथियों को भेजते हैं। 'अपनी माटी संस्थान' की समस्त गतिविधियों के अबाध संचालन करने हेतु वार्षिक सदस्यता सहयोग इस तरह रखा है। यह एकदम स्वैच्छिक हैआपसे अपेक्षा है कि आप भी संबल देकर पत्रिका को मजबूत बनाएं। आपको सदस्यता अपने आप सीधे नहीं लेनी है। इसके लिए हम खुद आपका चयन करके आपको यह अपील भेजेंगे तभी सदस्य बनिएगा। सामान्यता यह देखा गया है कि कई लेखक सदस्य बनकर अपना कच्चा-पक्का लेखन हमारे यहाँ प्रकाशित करवाने के लिए आग्रह करते हैं यह परम्परा एकदम अच्छी नहीं है। हम इस तरह के किसी भी दबाव से मुक्त होकर काम करना पसंद करते हैं

2000/- प्रति व्यक्ति वार्षिक

बैंक खाते की विस्तृत जानकारी निम्न है 

Bank : State Bank of India
Branch : Chittorgarh (Rajasthan)
Account Name Apni Maati Sansthan (अपनी माटी संस्थान )
Account Number 33444603964
IFSC Code SBIN0006097


( शुल्क जमा करवाने के बाद डिटेल्स https://forms.gle/KgbLTcuXCecqXwb98 यहाँ सबमिट कर दीजिएगा इसके अभाव में आपको विधिवत रसीद और सर्टिफिकेट भेजना संभव नहीं होगा)

'अपनी माटी' 
 ( साहित्य और समाज का दस्तावेज़ीकरण )
 'UGC Care List Approved'  'समकक्ष व्यक्ति समीक्षित जर्नल'
                    (PEER REVIEWED/REFEREED JOURNAL) ( ISSN 2322-0724 Apni Maati )

माणिक व जितेन्द्र यादव
सम्पादक-द्वय
कंचन-मोहन हाऊस,1, उदय विहार, महेशपुरम रोड़, चित्तौड़गढ़-312001,राजस्थान
Only Watts App @ 9460711896 (Manik)
Only Watts App @ 9001092806 (Jitendra)

( Note : हमारे बिना आमंत्रण के सीधे बैंक खाते में सहयोग राशि डालकर आलेख छपवाने का दबाव बनाने की गलती नहीं करें ऐसे रचनाकारों को हम एकदम नहीं छापते हैं। )