महादेवी जी की यादगार कविता ''उत्तर '' - अपनी माटी

साहित्य और समाज का दस्तावेज़ीकरण / UGC CARE Listed / PEER REVIEWED / REFEREED JOURNAL ( ISSN 2322-0724 Apni Maati ) apnimaati.com@gmail.com

नवीनतम रचना

मंगलवार, जून 22, 2010

महादेवी जी की यादगार कविता ''उत्तर ''

झरोखा:यहाँ हमारे साहित्य जगत के पुरोधाओं का कॉपीराइट फ्री मटेरियल पोस्ट करने का मन है

ब्लॉग्गिंग के ज़रिये सभी अपनी तरह से साहित्य की सेवा कर रहे हैं. ये बात भी सच है कि बहुत सारे साहित्य को बहुत गहरे से समय रहते नहीं पढ़ पाए हैं, मगर लिखने को बहुत आतुर रहे हैं. खैर हम कोशिश करेंगे कि समय-समय पर कुछ प्राचीन साहित्यिक रचनाएँ आपको पढ़वाते रहें. आज महादेवी जी एक कविता सोचा समझ कर पोस्ट कर रहें हैं.
 
महादेवी जी की  यादगार कविता ''उत्तर ''

इस एक बूँद आँसू में

चाहे साम्राज्य बहा दो
वरदानों की वर्षा से
यह सूनापन बिखरा दो

इच्छा‌ओं की कम्पन से

सोता एकान्त जगा दो,
आशा की मुस्कराहट पर
मेरा नैराश्य लुटा दो ।

चाहे जर्जर तारों में

अपना मानस उलझा दो,
इन पलकों के प्यालो में
सुख का आसव छलका दो

मेरे बिखरे प्राणों में

सारी करुणा ढुलका दो,
मेरी छोटी सीमा में
अपना अस्तित्व मिटा दो !

पर शेष नहीं होगी यह

मेरे प्राणों की क्रीड़ा,
तुमको पीड़ा में ढूँढा
तुम में ढूँढूँगी पीड़ा !
 

शीघ्र प्रकाश्य मीडिया विशेषांक

अगर आप कुछ कहना चाहें?

नाम

ईमेल *

संदेश *