दिल्ली रेप केस: एक ठेगरा वहाँ भी लगा देना जहां से तुमने मानसिकता के स्तर पर रिसना और गिरना शुरू किया था। - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

दिल्ली रेप केस: एक ठेगरा वहाँ भी लगा देना जहां से तुमने मानसिकता के स्तर पर रिसना और गिरना शुरू किया था।

                          यह सामग्री पहली बार 'अपनी माटी डॉट कॉम' पर प्रकाशित हो रही है।

अफसोस
हर तरफ से
फटा है
टेंट हमारा

साथियों

मगर जहां तक भी जाकर
लगाओगे ठेगरे
अकेले नहीं हो तुम
समझ लेना

इस सड़क पर
तुम्हारी हथेलियों में शामिल रहेंगी
हमारी भी हथेलियाँ
एक अतिरक्त आग के साथ
थोड़ी सी गरम

हाथ लिए हाथों में
जमा कर रखा है हमने भी
सुई,धागे और कपड़ों की कारियों
वाली शक्लों में
विरोध,गुस्सा,औए हकीक़त
सब कुछ सिल देंगे
इस बारी

साथ हमें भी ले लो
कुछ नारे हम भी गढ़ेंगे
बनेंगे
कुछ रैलियों के हिस्से
हम भी
आखिर कब तक रहेंगे मौन

एक मांग हमारी भी
रख लो

तुम वहीं के वहीं रहना
डटकर
नारों और
अपनी फुफकारों सहित

दिल्ली रेप केस में से
'दिल्ली' हटा दो यारों
ये आम बीमारी है
फ़ैली है कितनी-कितनी
दूर तक
तनिक विचारों

जब रैली
दिल्ली से चलकर गुज़रे
खैरलांजी से छत्तीसगढ़ की सोनी सोरी के घर तक
हाँ कुछ और जगह नहीं जायेंगे तो
न मानवता माफ़ करेगी हमें
इस बारी
फिर 'अवसरवादी' करार दे दिए जायेंगे
हमारे कदम

भाई
आखिर में एक ठेगरा
वहाँ भी लगा देना
जहां से तुमने
मानसिकता के स्तर पर
रिसना और गिरना शुरू किया था।

शुरू किया था जहां से
चिंतन बंद
जहां से अपनी राय देना
बंद कर दिया था तुमने

(दिल्ली रेप केस में घर घुसे एक इंसान का टी वी देखते हुए
और अरुंधती रॉय के बयान पढ़ने के बाद)


माणिक 
अध्यापक

5 टिप्‍पणियां:

  1. Its a very touching & awakening poetry ! Good ! Keep it up Manik Bhai.. !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (24-12-2012) के चर्चा मंच-११०३ (अगले बलात्कार की प्रतीक्षा) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वन्दना के इन स्वरों में एक स्वर मेरा मिला लो ,

    हो जहां बलि शीश अगणित एक सिर मेरा मिला लो ....

    हिन्दुस्तान के साझा ज़ज्बातों को स्वर दिया है आपकी रचना ने यह मामला भारत रेप का ,आधी आबादी की सुरक्षा का .

    मान्यवर ,यह एक राष्ट्रीय समस्या है इसका हल भी राष्ट्रीय स्तर पर मानक अंशांकित सज़ा निर्धारण से ,मामलों के द्रुत निपटान से ही होगा .एक सन्देश तो चले कहीं से भी .इसे सुषमा शीला के खानों में बांटके न देखा जाए .
    सोमवार, 24 दिसम्बर 2012
    बे -खौफ बलात्कारी परिंदे

    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  4. सोमवार, 24 दिसम्बर 2012
    बे -खौफ बलात्कारी परिंदे

    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here