Latest Article :
Home » , , , » कविताएँ:किरण आचार्य

कविताएँ:किरण आचार्य

Written By Manik Chittorgarh on रविवार, सितंबर 15, 2013 | रविवार, सितंबर 15, 2013

साहित्य और संस्कृति की मासिक ई-पत्रिका 
अपनी माटी
 सितम्बर अंक,2013

कविताएँ:किरण आचार्य,चित्तौड़गढ़

(1 )अनगढ़

रोटी का आकार 
गोल होना चाहिए 

पापड़ सेको  
एक भी काला दाग 
न हो तिल जितना भी नहीं 

बुहारी को 
अर्द्धचन्द्राकार घुमाओ 
देखो कचरा ना छूटे 

फटी रजाई के 
कोने पर करीने से 
सिलो पैबंद कि 
दिखे भी नहीं 

बरतन माँजते समय 
खड़खड़ाहट  न हो 

बडे हो या छोटे 
सब की बात सुन लो 
कहे सो करती रहो 
बस 
पलट कर जवाब नही देना 
अच्छे खानदान की बेटी जो हो 

दादी अम्मां बुआ मौसी ....
सब ने यही सिखाया 
कैसे बनें सुघड़ 

सिखाया वही  मुझे भी 
उन्होनें जो सीखा था

बेटी को गढ़ो ऐसा कि
घर को बनाए स्वर्ग 
पर यह धरती है एकतरफा 
ये काम है कठिन है

वे तो चुप रहीं 
करती रही अथक प्रयास 
पर मेरा मन अंदर से 
कुलबुलाता कहता रहा 

कुछ तो रहने 
दो मेरे भीतर 
जो मेरा है सिर्फ मेरा 

बना रहने दो अनगढ़ कुछ तो 
जिसे गढूं मैं अपने मन का

एक आजाद कोना तो हो 
जो हो सिर्फ मेरे लिए 
सभी नियमो बंदिशों से मुक्त 
एकदम अनगढ़ 


(2 )प्रायश्चित

मै खंजर हूँ 
खून से लथपथ
शर्मिन्दा हूँ
अपने अस्तित्व पर
कि 
मैं किसी की 
पीठ पर घोंपा गया हूँ

गहरे गाड़ दो मुझको  
कहीं पाताल में  
बरसों तक 
तिल तिल गलूँगा
यही मेरी सजा होगी

ओ खंजर नहीं 
यूँ नहीं
प्रायश्चित का एक तरिका यह भी कि 
पिघलो ऐसे कि एक
पतरा बन ढक दो 
किसी टपकती झोंपडी के पानी को 
बरसतीबरसात को 
झेलते धो लो अपनी आत्मा 
बरसो बरस धीरे-धीरे  
खजते-खजते( जंग लगना) मिल जाओ 
मिट्टी में 
होगा वही सच्चा प्रायश्चित

किरण आचार्य 
प्रोफेशनल एंकर और समाजशास्त्र विषय से शोधरत हैं. आकाशवाणी  से लगातार प्रसारित है. चित्तौड़गढ़, निम्बाहेड़ा और उदयपुर की कई सामाजिक-सांस्कृतिक संस्थाओं से अनौपचारिक जुडाव रखती हैं.सोच में मौलिकता कोशिश रखती है. कविता-कहानी लिखने के साथ ही अभिनय में रूचि है.लोक संस्कृति के प्रति विशेष रुझान रहता है.

संपर्क: मोबाइल-09414420124,
ई-मेल:kien.acharya@gmail.com
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template