Latest Article :
Home » , , » ग़ज़ल:लता चंद्रा

ग़ज़ल:लता चंद्रा

Written By Manik Chittorgarh on बुधवार, अक्तूबर 16, 2013 | बुधवार, अक्तूबर 16, 2013

साहित्य और संस्कृति की मासिक ई-पत्रिका 
अपनी माटी
अक्टूबर अंक,2013 
छायांकन हेमंत शेष का है

    
 एक

ज़िंदगी,ज़िंदगी को खबर करती है
जिन हालातों पर वो बसर करती है
जिंदगी रूठ कर जब खफा होती है
भटकता है इंसान वह दर बदर करती है
मोहब्बत वो हस्ती है के ज़माने में
ज़र्रे ज़र्रे पर अपना असर करती है
सर झुकाती है कभी मंदिर मस्जिद में
कभी पीकर खुद को बेखबर करती है
जिसका काम है चलना उसे क्या डर
जिंदगी हर मौसम में सफर करती है

-------------------------------------------------
                 
दो  

ज़िंदगी को इस तरह भी जिया हमने
जहर ज़िंदगी का हँस कर पिया हमने
मेरे वजूद का जो सर काट कर गया
उसका सदा दिल से भला किया हमने
छल कपट झूठ से मुक्त होकर ही अब
सफर कठिन राहों का ते किया हमने
खुशी दे या गम ये उसकी मरजी थी
जो भी दिया उसने वो ले लिया हमने
कभी हँस हँसके और कभी रो-रो के
ज़िंदगी को हर हाल में जिया हमने
हमको उसी ने लूटा है हमेशा 'लता'
भरोसा जिस पर जब भी किया हमने
-------------------------------------------------
                 
तीन 

जब से दुभर घर को अपने घर बनाना हो गया
कितना मुश्किल घर के अंदर सर छुपना हो गया
पाहुन आए तो मनाते थे खुशी कुछ इस तरह
मिलके सबके रात में गाना बजाना हो गया
अब तक दिल से गई न माटी की गंध
हमको रहते शहर में इक जमाना हो गया
बगुलो ने किनारों से जबसे कर ली है दोस्ती
भ्रम ये दरिया ताल को इक सुहाना हो गया
स्वार्थ ईर्ष्या देश की परवरिश क्या खूब है
अब जरूरी घर में दीवारें बनाना हो गया
समझ सके ना रोशनी में अंधेरा क्या चीज़ हैं
इसलिए जरूरी ठोकरों का आज आना हो गया
अब तो हरेक बात पर बजने लगी हैं तालियाँ
सही गलत को
जान पाना 'लता' मुश्किल हो गया
-------------------------------------------------
                
लता चन्द्रा
एम ए,समाज शास्त्र 
हिन्दी,शिक्षा शास्त्र
जन्म -2 मार्च 1966 
कविता,गीत ,गज़ल लेखन 
देश के विभिन्न पत्र -पत्रिकाओं 
में प्रकाशित 
सम्मान -विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं 
द्वारा सम्मानित 
सम्प्रति-शिक्षिका 

सम्पर्क
डी 3/406 दानिश नगर ,
होशंगाबाद रोड
भोपाल,मध्यप्रदेश-241902 

मो-08305899942
Share this article :

2 टिप्‍पणियां:

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template