कविता:सिद्धार्थ कुमार की कविता - अपनी माटी

साहित्य और समाज का दस्तावेज़ीकरण / UGC CARE Listed / PEER REVIEWED / REFEREED JOURNAL ( ISSN 2322-0724 Apni Maati ) apnimaati.com@gmail.com

नवीनतम रचना

रविवार, फ़रवरी 25, 2018

कविता:सिद्धार्थ कुमार की कविता

सिद्धार्थ कुमार की कविता

किसको  क्या  मिलेगा ?

हम  हिन्दू   मुस्लिम  करते हैं

इससे  क्या  किसको  मिल  जाएगा

कहाँ   से  आये  हैं  ये  दोनों

कोई  मुझको  ये  बतलायेगा

लड़ते  हैं  आपस  में  दोनों  क्यों

ये  कोई  समझायेगा

लाखों  में  से  10  होंगे  सिर्फ

पर  बदनाम  सभी  हो  जाएगा

होता  कितना  नुकसान  देश  का

ये  कौन  इनको  बतलाएगा

जाकर  पूछो  उस  माँ  से

जिसने  खोई  अपनी  संतान

क्या  कोई  हिन्दू  या  फिर  मुस्लिम

उसके  जख्मों  पर  मरहम  लगाएगा

आगे  क्या  होगा  क्या  जानें

लगता  है  मुश्किल  बढ़  जाएगी

खाते  थे  दोनों एक  थाल  में 

क्या  वो  अब  बँट  जाएगी

जन्म  होता  है  एक  समान

क्या  हिंदू  और  क्या  मुसलमान

पर    जाने किस  बात  की  चिंता

इन  दोनों  को  खाये  जाएगी

लड़ते  हैं  दोनों  आपस  में

अपनी  अपनी  शान  के  लिए

झूठी  है  ये  शान  उनकी

उनको  ये  कौन  बताएगा

लड़कर  मरेंगे  आपस  में  दोनों

फिर  बाहर  से  कोई  आएगा

तब    होंगे गाँधी -जिन्ना

फिर  आजादी  कौन  दिलाएगा

कहते  थे  सोने  की  चिड़ियाँ  जिसको

मिटटी  का  बस  रह  जाएगा।


                                                    
                          सिद्धार्थ कुमार
                          रूसी–अंग्रेजी–हिंदी भाषा अनुवादक
                          टेक महिंद्रा, हैदराबाद.
                          सम्पर्क 
                          8744845454
                          sidhu8066@gmail.com
                       


अपनी माटी(ISSN 2322-0724 Apni Maati)         वर्ष-4,अंक-26 (अक्टूबर 2017-मार्च,2018)          चित्रांकन: दिलीप डामोर 

शीघ्र प्रकाश्य मीडिया विशेषांक

अगर आप कुछ कहना चाहें?

नाम

ईमेल *

संदेश *