Latest Article :
Home » , , , , , » नारायण भाई:मोर जिसके कंधो पर अठखेलियां करते हैं /नटवर त्रिपाठी

नारायण भाई:मोर जिसके कंधो पर अठखेलियां करते हैं /नटवर त्रिपाठी

Written By Manik Chittorgarh on मंगलवार, सितंबर 25, 2012 | मंगलवार, सितंबर 25, 2012


0 नटवर त्रिपाठी
(समस्त चित्र स्वतंत्र पत्रकार श्री नटवर त्रिपाठी के द्वारा ही लिए गए हैं-सम्पादक )

आये दिन समाचार पत्रों में जहां-तहां मयूरों की हत्या, अवैद्य पंख व्यापार के लिए झुण्ड के झुण्ड मयूरों को मौत की नींद सुला देने व रासायन युक्त बीजों के खा जाने से इनकी मौतों के समाचार मीडिया में छाये रहते हैं। हर किसी को इस पर टीस जरूर होती है, पर सब बेबस। इससे उलट गुजरात में जामनगर के कल्याणपुर पंचायत के ग्राम कैनेडी के साधारण किसान नारायण मेरावण करंगिया मोरों के संरक्षण और पोषण का असाध्य काम गत 40 वर्ष से कर रहे हैं। सौराष्ट्र अंचल की सात पंचायतों के कई ग्रामों में 70 केन्द्रों पर इनके अथक प्रयत्नों ने भूमि में विशेष प्रकार से समायोजित मटकियों में मयूरों को दाना परोसा जाता है। जब जंगल और खेतों में इनके लिए खाना-पीना कम हो जाता है तो इन केन्द्रों पर हर रोज दाना डालते समय मयूरों का वहां मेला लगा रहता है। मयूर केन्द्रों के इन ग्रामों में मयूरों की भांति-भांति की केकावली, बड़ी संख्या में एक साथ मौजूदगी और ग्रामीण छतों पर इनके साम्राज्य के दृश्य किसी को भी पुलकित करने के लिए पर्याप्त हैं। 

सैंकड़ों मोर-मोरनियां का एक साथ एक जगह दाना चुगने, कई मयूरों के एक साथ छत्र करने, उसके ईर्द-गिर्द मोरनियों का रास रंग करने का दृश्य अलौकिक और अकल्पनीय लगता है। प्रकृति का समूचा सौन्दर्य वहां पसरा पड़ा रोमांचपूर्ण होता है। दर्शकों की आंखे चुन्धिया जाती है और बिना हिले-डुले दुबके हुए लोग उस अप्रतिम नज़ारे को अपनी आंखों में समेट लेना चाहते हैं। इन पंक्तियों के लेखक को मयूर सेवी नारायण भाई ने अपनी मोटर साइकिल पर 150 किलोमीटर में फैले ऐसे डेढ़ दर्जन केन्द्रों का अवलोकन कराया। हर केन्द्र पर 150-200 मटके भूमि में टेढ़े जमाये हुए रहते हैं, और उन केन्द्रों के स्थापित किसान रोज सबेरे उन मटकों में मोरों के लिए दाना डालते हैं।


गांव-गंवई के ये लोग मूक पक्षियों की अद्वितीय सेवा का मनोरथ मनाते हैं। सुबह-सुबह भोर में जगह-जगह इन गांवों की खपरैलों की छतों पर बैठे, मटकते, कूदते, उछलते, फरफर पंख फैलाते-सिकोड़ते मयूरों की दृश्यावली देखते बनती है। सौराष्ट्र के इस अंचल में क्या मयूरों और क्या अन्य पक्षियों के लिए आम किसानों का और तमाम लोगों का अपरिमित स्नेह भाव है। मजाल है उनके गांवों में कोई व्यक्ति किसी मोर को आहत करदे या मारदे। जंगली जानवरों के खतरे से तो इनकार नहीं किया जा सकता है परन्तु आम जन की ओर से मोरों और अन्य पक्षियों को भी संरक्षण प्राप्त है। 

अंचल में कहीं से मयूर के जख्मी होने, घायल होने की सूचना आते ही नारायण भाई अपनी मोटरसाईकिल पर दौड़ पड़ते हैं, और घायल चार-चार, पांच-पांच मयूरों को अपनी मोटरसाईकिल पर लाते हैं तथा  अपने घर में बने एक विशेष कमरे में उपचार करते हैं। इसके लिए जड़ी बूंटियां और ऐसी ही स्थानीय औषधियां इस्तेमाल होती है। मुझे बस से गांव तक लिवा लाते समय  5-6 किलो सब्जियां और मटर आदि बाजार से खरीद रहे थे तो सोचा घर के लिए ये सब्जियां हैं, परन्तु जब इन सब्जियों को काट-छाट-छील कर मुझे वे ऐसे कमरे में ले गये जहां 15-16 मयूर ताकों और डंडो पर बैठे थे और वे उन छीली हुई सब्जियों को उन्हें खिला-पिला रहे थे। मैं अवाक् रह गया। यह कैसा संकल्पी और समर्पित सेवी है कि जो लोग अपने घर के लिए ये काम नहीं कर पाते नारायण भाई बाजार से सब्जियां ला कर इन मूक पक्षियों को खिला रहा है। मैं यह सब देख कर ही उपकृत हो गया। नारायण भाई में सच में नारायण के ही दर्शन किए जा सकते हैं। मैं अवाक् देखता रह गया जब वे अपने हाथ से बेहद बीमार मोरों की चोंच में अपने हाथ से चुग्गा दे रहे थे। ज्यों-ज्यों बीमार मोर ठीक होता जाता है उसे जंगल खेतों के हवाले कर कर दिया जाता है। लोग नारायण भाई को मोर पुरूष और मोरों के लिए अवतार तक कहते हैं। 

वर्ष 1988 में ग्राम कैनेडी में एक ‘मोर उछेर केन्द्र’ स्थापित किया। इसके बाद तो हर साल यह संख्या बढ़ती गई। उनके इस काम में उनकी पत्नी ने अपरिमित सहयोग किया। असामयिक पत्नी वियोग ने भी इन्हें अपने मार्ग से विचलित नहीं किया बल्कि और अधिक संकल्प और शक्ति से वे इस कार्य में जुट गए। इस साधारण किसान का सम्मान करने और पुरुष्कृत करने अनेक संस्थाएं आगे आई, अनेक अन्न और धन दान करने वाले आगे आए। परन्तु इस माटी के लाल को कोई सम्मान नहीं चाहिए। यहां तक कि अमेरिका की बायोग्राफिकल इन्स्टीट्यूट द्वारा 2006 में सम्मानित किए जाने के प्रस्ताव से भी ये विचलित नहीं हुए और अपने अंचल के मोरों की सेवा का मोह नहीं छोड़ा। नारायण भाई की एक आवाज़ पर मोर उनके पास चले आते हैं। कंधे और हाथों पर बैठ जाते हैं। इनके बच्चे सोते हैं और मयूर उनके पास नाचते हैं। भोजन के समय कोई न कोई मयूर इनके पास उनका साथ दे रहा होता है। 

वर्ष 2003 में वर्षा ऋतु में सिन्धणी बांध में यकायक इतना पानी आगया कि बांध में खड़े वृक्षों पर कई मोर और पक्षी फंस गए। नारायण भाई ने एक नाव का प्रबन्ध कर 40 मयूरों में से आधे मयूरों को सुरक्षित निकाल लिया। मजेदार बात यह है कि उन दो-एक वृक्षों पर मयूरों के अतिरिक्त बिल्ली, चूहे, सांप और कई जानवर व पक्षी भी थे, परन्तु इस संकटावस्था में कोई किसी अन्य पशु-पक्षी को हानि नहीं पहुंचा रहा था। 

द्वारका और सोमनाथ के आसपास समन्दर और दरिया के किनाने-किनारे इस इलाके के ग्राम पीण्डारा, आम्बलिया, टूपणी, सांगळ, कोटड़ा, जय रणछोड़ आश्रम, हड़मतिया, मेवासा, राण, लीम्बड़ी, महादेविया, गागाबे, रणजीतपुर, बतड़िया, मालेता, पटेलका, पाणेली, जैपुर और राजपुरा आदि केन्द्रों पर मयूर सेवा का वहां के ग्रामवासियों का अपूर्व समपर्ण देखने को मिला। 

नारायण भाई की सविनय इस अप्रतिम सेवा का आकलन रिडर्स डायजेस्ट, आउटलुक, पंजाब केसरी, मुंबई समाचार, चित्र लेखा, जी-न्यूज और गुजरात सहित अन्य राज्यों के अनेक समाचार पत्रों और मीडिया जगत ने किया। पक्षी प्रेमी मेनका गांधी भी इनके यहां आ चुकी हैं। हां अब कुछ वर्षों से मयूरों के लिए अनाज की कमी नहीं आती है। नारायण भाई की बेमिसाल सेवा के आगे अनेक प्रतिष्ठित, धनीमानी और अधिकारी और जननेता नतमस्तक हैं और इस काम में अपना हाथ बटाने के लिए तत्पर हैं। पर यह माई का लाल मयूरों के लिए किसी के सामने हाथ नहीं पसारता है। पक्षियों की मूक सेवा कर मनोरथ मनाता है। लोग नारायण भाई की अप्रतिम सेवा से सबक लें और पशु-पक्षियों के लिए संवेदनशील बनें। 
---------------------------------------------------------------------------------------------


नटवर त्रिपाठी
सी-79,प्रताप नगर,
चित्तौड़गढ़ 
म़ो: 09460364940
ई-मेल:-natwar.tripathi@gmail.com 
नटवर त्रिपाठी

(समाज,मीडिया और राष्ट्र के हालातों पर विशिष्ट समझ और राय रखते हैं। मूल रूप से चित्तौड़,राजस्थान के वासी हैं। राजस्थान सरकार में जीवनभर सूचना और जनसंपर्क विभाग में विभिन्न पदों पर सेवा की और आखिर में 1997 में उप-निदेशक पद से सेवानिवृति। वर्तमान में स्वतंत्र लेखन कर रहे हैं।

कुछ सालों से फीचर लेखन में व्यस्त। वेस्ट ज़ोन कल्चरल सेंटर,उदयपुर से 'मोर', 'थेवा कला', 'अग्नि नृत्य' आदि सांस्कृतिक अध्ययनों पर लघु शोधपरक डोक्युमेंटेशन छप चुके हैं। पूरा परिचय 
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template