Latest Article :
Home » , , , » टिप्पणी:शब्दों का बावरा अहेरी 'अज्ञेय' /डॉ. विमलेश शर्मा(अजमेर)

टिप्पणी:शब्दों का बावरा अहेरी 'अज्ञेय' /डॉ. विमलेश शर्मा(अजमेर)

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on शनिवार, मार्च 15, 2014 | शनिवार, मार्च 15, 2014

साहित्य और संस्कृति की मासिक ई-पत्रिका            'अपनी माटी' (ISSN 2322-0724 Apni Maati )                मार्च -2014 
                                                         
चित्रांकन
वरिष्ठ कवि और चित्रकार विजेंद्र जी
 
कुछ हस्ताक्षरों से साहित्य कालजयी हो जाता है। हिन्दी साहित्य में ऐसे ही हस्ताक्षरों की अग्रिम पंक्ति में जिनसे साहित्य को विशिष्ट पहचान मिली है में शुमार है सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय। अज्ञेय 7 मार्च 1911 को उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के कुशीनगर ग्राम में जन्मे थे। अज्ञेय आज भी सामान्य पाठकों के लिए अज्ञेय है। इस महानायक का जीवन अत्यधिक वैविध्यपूर्ण रहा है। उन्होंने अपनी अनुभवी आँखों से जीवन को बेहद नजदीक से देखा था यही कारण है कि बात चाहे कहानियों की की जाए या इनकी कविताओं की वहां पर सम्पूर्ण मानव जीवन अत्यंत ही सहजता एवं सूक्ष्मता के साथ अनेक स्तरों पर उद्घाटित होता है। व्यक्तिगत जीवन में मितभाषी होते हुए भी वे अपनी रचनाओं में असामान्य रूप से मुखर हैं।  वे साहित्य सृजन में वैयक्तिकता को प्राथमिकता देते हैं। उनकी सृजनधर्मिता सदैव से नवोन्मेषी रही है। अज्ञेय का मानना था कि परम्परा बहता नीर है जो नित नवीन होकर बहती रहती है। वस्तुतः तभी उसकी प्रासंगिकता भी है। साहित्य में वे प्रयोगधर्मी थे । वे सत्य ही साहित्य सृजन में राही नहीं वरन् नवीन राहों के अन्वेषी रहें हैं।
               
अज्ञेय जी 
अज्ञेय द्वारा सम्पादित तार सप्तक का प्रकाशन हिन्दी कविता के क्षेत्र में एक युगान्तरकारी परिवर्तन है। तार सप्तक का प्रकाशन कोई आकस्मिक घटना नहीं थी वरन् यह एक लम्बी सुनिश्चित योजना का परिणाम था। तारसप्तक के कवि एक साथ एक जगह एक विचारधारा में कैसे संग्रहित हुए इसका भी एक अपना इतिहास है। इसी तार सप्तक से हिन्दी साहित्य की एक विशिष्ट प्रवृत्ति प्रयोगवाद का प्रारम्भ हुआ है। अज्ञेय के अनुसार प्रयोग क्रिया है तो प्रयोगशीलता कवि कर्म। अज्ञेय और आलोचना का भी विशेष संबंध रहा है। तार सप्तक की भूमिका भी आलोचना का विषय रही है। रचनात्मक स्तर पर तार सप्तक के कवियों में पूर्ववर्ती काव्य परम्परा के प्रति आक्रोश था। तारसप्तक के सभी कवि अलग-अलग शैली में लिख रहे थे पर अलग - अलग लिखते हुए भी वे  एक स्वर में यही कह रहे थे- कवि तोड़ो अपने शब्द जाल, जो आज खोखला शून्य हुआ। यह है अपने पुरखों की वैभव योगमयी कलुषित वाणी,  त्याग इसे अब बनना है ..तुझ को ही अगुआ।’ (अज्ञेय-ता.स. पृ.88) नवीन के प्रति यह आग्रह ही तारसप्तक की महत्ता है।

 अज्ञेय का साहित्य परम्परा, प्रयोग और आधुनिकता का मिश्रण है। वे रचना में सम्प्रेषण और वैयक्तिक अभिव्यक्ति को महत्व देते हैं। उनके अनुसार ‘‘यदि हम आधुनिकता की चर्चा साहित्य और कलाओं के संदर्भ में करते हैं तो इन दोनों को जोड़कर, रखना अनिवार्य हो जाता है। साहित्य और कला मूलतः एक सम्प्रेषण है। इस सम्प्रेषण में वे भाषा का प्रयोग एक तीर की भाँति करते हैं। (केन्द्र और परिधि)  अज्ञेय समय-समय पर इस तीर को पैना भी करते रहते हैं। इस संबंध में अज्ञेय की अवधारणा स्पष्ट है वे कहते हैं- ‘‘मेरी खोज भाषा की खोज नहीं है, केवल शब्दों की खोज है। भाषा का उपयोग में ऐसे ढंग से करना चाहता हूं कि वह नए प्राणों से दीप्त हो उठे।’’ य़ही कारण है कि भाषा के परिमार्जन में अज्ञेय निरन्तर प्रयोग करते रहे हैं। आज हम प्रयोगों के प्रति दुराग्रह रखकर शब्दों के प्रयोग में भाषा के परिष्कार और परिमार्जन को लेकर चिंतित हो जाते हैं। अज्ञेय उसे बड़ी सहजता से लेते हैं। अज्ञेय शब्दों की गरिमा में विश्वास रखते हैं वे कहते हैं- शब्द का आत्यंतिक या अपौरूषेय अर्थ नहीं है। अर्थ वही है, उतना ही है जितना हम उसे देते हैं। उनके अनुसार शब्द का अर्थ एक सर्वथा मानवीय अविष्कार है। जिसे वह अभिव्यक्ति के सफल सम्प्रेषण हेतु प्रयुक्त करता है।

                अज्ञेय के कवि रूप की बात की जाए तो उसमें अखिल विश्व अपने श्रेष्ठतम रूप में संपदित होता है। उनकी कविताओं में उनका युग प्रतिबिम्बित होता है जो परम्पराओं को सहेजे हुए स्वंय को अद्यतन करता रहता है। अज्ञेय की काव्य यात्रा जहां भग्नदूतऔर चिंताकाव्य संग्रहों की गीतात्मक कविताओं से प्रारंभ होती है वहीं वे इत्यलम्, हरी घास पर क्षण पर, बावरा अहेरी, इन्द्रधनुष रौंदे हुए थे,अरी ओ करूणामय प्रभा, सागर मुद्रा, आँगन के पार द्वार और कितनी नावों में कितनी बार द्वारा आधुनिक हिन्दी कविता को सर्वथा नया मोड़ देते हैं। कवि मन संवेदनशील होता है परन्तु अज्ञेय में एक सजग बौद्धिकता की उपस्थिति उनकी संवेदना को नियंत्रित करती है। यही नहीं उनकी कविताओं में स्वर वैविध्य व बिम्ब प्रयोग भी उनकी बौद्धिकता का ही परिचायक है। अज्ञेय की कविताओं में निजी अनुभूतियां शब्दों का आकार लेती है।साथ ही अज्ञेय परिवेश से बहुत अधिक प्रभावित होते हैं। इस संदर्भ में वे कहते हैं- ‘‘आज का लेखक इस प्रकार अपने परिवेश से दबा है- जो कि वह स्वयं है और जितना ही अच्छा लेखक है, उतना ही अधिक वह अपना परिवेश है।वे कहते हैं अभिव्यक्ति के लिए शब्दों के अनावश्यक आड़म्बर की आवश्यकता नहीं होती वरन् संवेदनाएं तो मौन में भी प्रखरित होती हैं। इसी को लेकर वे कहते हैं- ‘‘मौन भी अभिव्यंजना है,जितना तुम्हारा सच हैउतना ही कहो। (जितना तुम्हारा सच है।)

                अज्ञेय शब्दों के चतुर शिल्पी हैं। प्रयोगधर्मिता से जहां वे तारसप्तक बुनकर नया इतिहास रचते हैं वहीं रंगों  और सौन्दर्य से वे बिम्बों की सजीव झांकी भी प्रस्तुत करते हैं। भोर का ये बावरा अहेरी, अपनी बौद्धिकता की कनियों से हरी घांस पर कविता की शबनम खिलाता है। कवि होने के साथ ही अज्ञेय ऐसे कथाकार और चिंतक भी हैं जिन्होंने तमाम तरह के विरोधों को झेलकर भी सतत् नवोन्मेषी प्रयोग साहित्य में किये हैं। अज्ञेय आधुनिक लेखक और पाठक दोनों को अपनी रचनाधर्मिता से प्रभावित करते हैं। अज्ञेय अन्तर्मुखी है वे बनने से पहले गुनते हैं। यही गुनना और घटनाओं का सूक्ष्म दृष्टि से चुनाव हम शेखरः एक जीवनी, ‘नदी के द्वीपऔर अपने-अपने अजनबी में देखते हैं।  अपनी रचनाओं में कभी वे श्लील और अश्लील पर प्रश्न करते हैं तो कभी चेतन अवचेतन मन का द्वन्द्व अपनी रचनाओं में दिखाते हैं। शेखर एक जीवनी तो चेतन अवचेतन मन के तनाव, संवाद और जिज्ञासाओं की प्रश्नावली है जिसे अज्ञेय अपने रचनाकर्म से उद्घाटित करते हैं।

                
डॉ. विमलेश शर्मा
कॉलेज प्राध्यापिका (हिंदी)
राजकीय कन्या महाविद्यालय
अजमेर राजस्थान 
ई-मेल:vimlesh27@gmail.com
मो:09414777259
फेसबुक 
प्रयोगों के  प्रति आग्रही इस राहों के अन्वेषी ने एक से बढ़ कर एक प्रयोग साहित्य की हर विधा में किए हैं। पठार का धीरज, गेंग्रीन, शरणदाता अज्ञेय की श्रेष्ठ कहानियां है।अज्ञेय के समग्र चिंतन को टी. एस.इलियट के चिंतन के समकक्ष देखा जा सकता है। उनके बिम्ब और भाषा शब्द के आकर्षण की सीमा मानते हैं । किसी भी रचना में अज्ञेय के विचार सीधी सपाट शैली में नहीं आते वरन् उनमें विचारों का अद्भुत संकेन्द्रण देखने को मिलता है। अज्ञेय आधुनिकता की आड़ में मूल्यों को भूलने का नहीं करते वरन् इसके बरक्स वे उनका निरन्तर परीक्षण करने को कहते हैं। साहित्य अभिव्यक्ति और सम्प्रेषण का ही क्षेत्र है अतः साहित्यकार को अपनी रचना दृष्टि के विकास हेतु संवेदना में नित नए प्रयोग करने होते हैं। उसे सूक्ष्म दृष्टि से घटना के मौन स्पंदन को बुनना होता है क्योंकि यह साहित्य के वर्तमान होने की परम आवश्यकता है।  वस्तुतः यही अज्ञेय की उपादेयता है कि अज्ञेय अनवरत विचारों से गतिशील हाते हुए परम्परा के साथ रहकर भी उससे अभिन्न रहकर  कालातीत साहित्य का सृजन कर कालजयी होते हैं। अज्ञेय के लेखन में  एक युग झलकता है । व्यक्ति के माध्यम से वहां भारतीय लोक जीवन और पश्चिम के बौद्धिक अभिजात्य का अनुपम संतुलन है।वैचारिकता , गहन सम्वेदनशीलता ,शिल्प के प्रति असामान्य सजगता, ऱमणीय गम्भीरता में भी तरल चापल्य का लालित्य, अंतर्मुखी  चिन्तनधारा का प्रभाव आदि ऐसे तत्व है जो उनके काव्य को एक खास विशिष्टता प्रदान करते हैं।  वे अपने रचनाकर्म से कुछ इस प्रकार हर नवोदित कवि और रचनाकार को क्षण भर सोचकर सजग रहते हुए सृजन कर्म करने को कहते हैं-        
      
  “सुनो कवि। भावनाएं नहीं है सोती,
                भावनाएं खाद है केवल
                जरा उनको दबा ऱखो
       जरा सा और पकने दो, ताने और तचने दो..”…..

Print Friendly and PDF
Share this article :

1 टिप्पणी:

  1. बड़े कलात्मक ढंग से आपने अज्ञेय जी को केन्द्रित कर लिखा है.सारगर्भित रूप में अज्ञेय को उपरी तौर पर जानने और भीतर से जानने की गुत्थियां यहाँ उकेर दी है.आलेख कई स्थानों पर समीक्षात्मक भी हो पड़ा है.विमलेश जी लगातार लिखतीं रहे.

    उत्तर देंहटाएं

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template