Latest Article :

कृष्णानन्द की कविता

Written By अपनी माटी,चित्तौड़गढ़ on शनिवार, नवंबर 11, 2017 | शनिवार, नवंबर 11, 2017

त्रैमासिक ई-पत्रिका
अपनी माटी
(ISSN 2322-0724 Apni Maati)
वर्ष-4,अंक-25 (अप्रैल-सितम्बर,2017)

किसान विशेषांक
                     कृष्णानन्द की कविता 
                                     
                           तुम क्या समझोगे ?


               तुम क्या समझोगे ?

  
           जेठ की दुपरिहा में

           पैरों में भू की तपन

           तुम क्या समझोगे ?


                        पैरों में पत्थर की चोट

                        कांटे की दर्द भरी चुभन

                        तुम क्या समझोगे ?


           आषाढ़ के महीनो में

           घर की टूटी छत से

           टपकते पानी को

           तुम क्या समझोगे ?

                           भीगी लकड़ियों से धुन्धुआते चूल्हे

                           धुँआई  रोटी का स्वाद

                           तुम क्या समझोगे ?


           माघ के महीने में

           फटे चादर से सनसनाती हवा

           नीचे से धरती की ठंडक

           तुम क्या समझोगे?


                        दो दिन की भूख में

                        एक रोटी का स्वाद

                        तुम क्या समझोगे ?


          सूखी मिट्टी में ठनकते फावड़े

          हाथ में लगती चोट

          और फूटे छाले को

          तुम क्या समझोगे ?


                       मिट्टी से भरे टोकरे का

                       खोपड़ी पर पड़ते भार 

                       सिर में चिलचिलाती धूप
 
                       डगमगाते पैरों में उठे दर्द

                       तुम क्या समझोगे ?


         स्कूल की घंटी बजने पर

         पढ़ने को लालायित होने पर

         कलम की जगह हथौड़ा पकड़ने पर

         ह्रदय और घायल हाथों के दर्द

         तुम क्या समझोगे ?



                                   कृष्णानन्द

                             एम.ए. द्वितीय वर्ष (२०१६-१७)

                                 शिवाजी कालेज ,

                            दिल्ली विश्वविद्यालय दिल्ली 

                              संपर्क सूत्र ..९९६८३९३२१३

Share this article :

1 टिप्पणी:

  1. उत्कृष्ट लेखन। एक किसान की व्यथा को सही ढंग से प्रदर्शित करती कविता है।

    उत्तर देंहटाएं

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template