Latest Article :
Home » , , , , , , , , » तेलंगाना के किसान सैदपवार पंढरी से काले शक्तिराज की बातचीत

तेलंगाना के किसान सैदपवार पंढरी से काले शक्तिराज की बातचीत

Written By Manik Chittorgarh on शनिवार, नवंबर 11, 2017 | शनिवार, नवंबर 11, 2017

त्रैमासिक ई-पत्रिका
अपनी माटी
(ISSN 2322-0724 Apni Maati)
वर्ष-4,अंक-25 (अप्रैल-सितम्बर,2017)
किसान विशेषांक
 

      तेलंगाना के किसान सैदपवार पंढरी से काले शक्तिराज की बातचीत
      (किसान खुश रहेगा, तो संसार भी खुश रहेगा)

         यह साक्षात्कार काले शक्तिराज, जो कि पेशे से शिक्षक हैं, के द्वारा तेलांगाना राज्य के कामरेड्डी जिला, मदनूर तहसील के एक साधारण किसान पंढरी जी से लिया गया हैपंढरी जी का गाँव तेलांगाना, महाराष्ट्र, कर्नाटक की सीमा पर बसा हैयहाँ के खेतों की मिट्टी कम गहरी, काली एवं मोटे कणों वाली हैजो समृद्ध कृषि को आधार प्रदान करने में सक्षम नहीं है फिर भी बड़ी मेहनत एवं लगन से यहाँ की जनता खेती-बाड़ी का कारोबार करती है-सम्पादक

नमस्कार, अपना परिचय दीजिए
किसान मेरा नाम सैदपवार पंढरी हैमैं मदनूर (तहसील) कामारेड्डी (मिला) तेलांगाना का रहनेवाला हूँ

आपके घर में कितने सदस्य हैं?
किसान हमारे परिवार में मैं, मेरी पत्नी, दो बेटे, उनकी पत्नियाँ, पोते पोतियाँ हैं

परिवार के आय का मुख्य साधन क्या है?
किसान खेतीबाड़ी मजदूरी

आपके पास कितनी एकड़ जमीन है?
किसान 3-4 एकड़

इतने में सबकुछ निपटता है?
किसान आर्थिक स्थिति और मौसम के अनुकूल रहने पर कभी-कभी बटाई या लीज पर (कौल) किराये की खेती-बाड़ी करते हैं

आपकी खेती किस पर आधारित हैमेरा मतलब है मौनसून या बोरवेल?
किसान मौनसून पर आधारित खेती है हमारी

सालभर में कितनी बार फसल की कटाई-बुआई होती है?
किसान मौनसून पर आधारित खेती है, इसलिए साल भर में दो बार कटाई-बुआई होती हैवर्षा ऋतु की फसलें, जिसे खरीफ कहते हैं, जुन-जुलाई में बोते हैंफसल की कटाई सितंबर से अक्टूबर के बीच चलती हैइसके लिए दक्षिण-पश्चिम मौनसून पर बहुत आस रखी जाती हैखरीफ में मूंग, उड़द, धान, सोयाबीन, कपास आदि फसलें ली जाती हैं। रबी में  गेहूँ, चना, ज्वार, कुसुम (Sabflower) आदि फसलें लेते हैंइसके लिए बुआई का काम अक्तूबर से नवंबर तक चलता हैइन फसलों की कटाई फरवरी से अप्रैल तक चलती है

आजकल मौनसून का संतुलन बिगड़ गया हैइसका खेती पर क्या असर पड़ रहा है?
किसान बहुत बुरा असर पड़ रहा हैइस असंतुलन को सब देख रहे हैंइसके दुष्परिणाम को झेल भी रहे हैंकिसी भी किसान के लिए मौनसून बड़ा महत्व रखता हैयदि समय पर बारिश नहीं होती है तो हमारे किए पर पानी फिर जाता हैखेत में बोई गई बीजें, खाद सबकुछ मिट्टी में ही मिल जाती हैंइस तरह से असंतुलित मौनसून किसानों की कमर तोड़ देता है

इस तरह की समस्या से कैसे निपटा जा सकता है?
किसान कुछ वर्ष पहले तक मौनसून का संतुलन ठीक-ठाक थाइस बीच ही मौनसून हमें दगा दे रहा हैइस समस्या से इस तरह बचा जा सकता है या तो सब के यहां बोअरबेल की सुविधा हो जानी चाहिए, जो कि असंभव हैया फिर छोटे-छोटे तलाबों या गढ़्ढों में बारिस का पानी जमा कर लेना चाहिएसमय-समय पर इसका इस्तेमाल करना चाहिए

सब किसानों के पास बोअरबेल की सुविधा क्यों नहीं हो सकती है? यह असंभव आपको किस कारण लग रहा है?
किसान बात यह है कि आज लगभग हर एक के घर में, संपन्न लोगों के खेतों में बोअरबेल लगे हुए हैंरही बात हम जैसे किसानों की, तो हमारे पास उतना पैसा कहां! जो बोअरबेल की सुविधा अपनायेंआजकल बोअरबेल में भी पानी नहीं टिकता है500-800 फीट जमीन के अंदर ड्रीलिंग करने पर भी कभी-कभी एक बूँद भी पानी नहीं निकलतानिकलेगा भी कैसे पानी? जैसे पृथ्वी पर लोगों की संख्या बढ़ गई है, वैसे ही पाताल में भी बोअरबेल की संख्या बढ़ गई हैयदि मान लीजिए किस्मत से आपके बोअरबेल में पानी लग भी जाता है तो बिजली की लुकाछिपी से आप बच नहीं सकते

सिंचाई के लिए बिजली कितने घंटे तक पूर्ति की जा रही है?
किसान फिलहाल, तो 9 घंटे सिंचाई के लिए बिजली दी जा रही है

सरकार किसानों को सिंचाई के लिए 24 घंटे बिजली देने की बात कर रही है, इस पर आपकी क्या राय है?
किसान (हंसते हुए) देखिए! मैंने पहले भी कहा कि आज लगभग सभी के घरों में बोअरवेल्स लगे हुए हैंखेतों में भी कई बोअरवेल्स हैं हीऐसे में 24 घंटे सिंचाई के लिए बिजली दी जाती है, तो, बेशक किसानों की थोड़ी-बहुत आमदनी बढ़ेगीलेकिन यह नये के नौ दिन की तरह ही होगाक्योंकि भूगर्भ में पहले ही से पानी का स्तर बहुत नीचे चला गया हैऐसे में 24 घंटे पानी का निकास होता है तो सब के सब मारे जायेंगेयह तो निश्चित है

    सरकार 8-9 घंटे ही खेती के लिए बिजली प्रदान करे तो भी बहुत बढ़िया होगा24 घंटे लेकर क्या करेंअभी जो 9 घंटे सिचाई के लिए बिजली दी जाती हैउसका कोई ठौर-ठिकाना ही नहीं हैकभी-कभी तो उसका समय देर रात में बदल दिया जाता हैपूर्व सूचना भी नहीं दी जाती है, उस बदलाव कीनतीजा किसान को देर रात तक या तो खेत में ही इंतजार करते रहना पड़ता है या घर से देर रात में खेत पर जाना पड़ता हैअंधेरे में कुछ नहीं दिखाई पड़ने के कारण विधुत स्पर्श से कई किसान मर जाते हैंकभी-कभी खूंखार किसान के हमले में उनकी जानें चली जाती हैं

आप किस प्रकार की खेती करते हैं? मेरा मतलब है पारंपरिक या आधुनिक?
किसान अबतक हम पारंपरिक रूप से हल-बैलों वाली खेती ही करते आए हैंपर जानवरों को चारा-पानी ठीक से दे पाने के कारण उन्हें बेचना पड़ रहा हैहल-बैल का स्थान अब ट्रेक्टरों ने ले लिया हैमजबूरी है

ट्रेक्टरों या अन्य आधुनिक यंत्रों की सहायता से खेती करना आधुनिक किसानबनना ही हैइसे मजबूरी क्यों कहते हैं? आधुनिक बनना नहीं चाहते, तो घर में टीवी, फ्रिज और ये सेलफोन आदि क्यों इस्तेमाल कर रहे हैं? ये सब चीजें भी तो आधुनिक ही कहलाते हैं ?
किसान (हँसते हुए) हाँ, है तो ये आधुनिक चीजें हीलेकिन ये सब अलग चीजें हैंदेखिए, हम जब गाय, बैल आदि जानवर रखते थे तब उनसे अनायास रूप से ही सेंद्रीय खाद प्राप्त होता थाअब गोबर आदि से बननेवाली खाद की जगह रासायनिक खाद मिल रहा हैजिन्हें संभव है वे गोबर से घर के लिए उपयोगी गोबर गैस भी तैयार करते थेअब ऐसा देखने को कम मिल रहा है या के बराबर मिल रहा हैहो गया नुकसान आधुनिकता सेएक और बात बताता हूँजब हल-बैल थे तब यदि खेत में काम करते-करते अचानक हल टूट जाए तो तुरंत बढ़ई को बुलावाकर (खेत में ही) ठीक कर लिया जाता थाऐसा अगर ट्रेक्टर के साथ होता है तो कौन मैकेनिक आपके ट्रेक्टर के टुटे हुए पुरजों को ठीक करने के लिए वेल्डिंग मशीन उठाकर ले आएगाकाम-धाम छोड़कर यंत्रादि लेकर गैरज पहुँचना पड़ता हैइन यंत्रों के आने से अब बढ़ई जैसे कारीगर मजदूर बन रहे हैं

सरकार किसानों के लिए कई तरह की सुविधाएँ सब्सिडी के रूप में देती हैइसमें बीज, खाद, आजकल तो खेती के लिए उपयोगी आधुनिक यंत्र भी सब्सिडी के रूप में दिये जा रहे हैंआप इन सुविधाओं का लाभ उठाते हैं?
किसान इस सवाल का जवाब क्या दें, समझ में नहीं रहा हैमैं ही नहीं देश का हर किसान उसके हित में सरकार द्वारा दी जानेवाली सुविधाओं का लाभ उठाना चाहता हैये सुविधाएँ या तो हम तक पहुँचती ही नहीं, या हमें दी ही नहीं जाती हैहमारे नाम पर किसी और को दी जाती हैइन सुविधाओं का बहुत कम लाभ हम उठा पाते हैंहाल में सोयाबीन की दो बोरियों के लिए काम छोड़कर, घंटों कतारों में खड़ा रहना पड़ता हैये हम जैसे 3-4 एकड़ जमीनधारी किसानों की स्थिति है, लेकिन जिन्हें कई एकड़ जमीन हैं, वे तो कभी हमारे साथ लाइन में खड़े नहीं रहतेफिर भी कई बोरियाँ उनके तक पहुँच जाती हैआखिर ऐसे क्यों होता है और कब तक होता है, इसका आज तक पता नहीं चला

आप घंटों तक कतारों में खड़े रहने की बात कर रहे होक्या आपके पास किसान क्रेडिट कार्डनहीं है? जिसका उपयोग करके आसानी से बीज, खाद प्राप्त कर सकते हैं?
किसान ये कौन-सा कार्ड होता हैमुझे नहीं पाता

किसान क्रेडिट कार्ड बैंकों द्वारा किसान को दिया जाता हैजिस किसान के पास अपनी खेती से संबंधित पट्टा, पासबुक हो, उसे या बटाईदार, किरायेदार को भी कुछ जरूरी शर्ते पूरी करने पर दे दिया जाता हैइसके तहत खेती से संबंधित सभी सुविधाओं को मात्र कार्ड के दिखाने से बड़ी सरल पद्धति से प्राप्त किया जा सकता है
किसान नहीं ऐसे किसी भी कार्ड की जानकारी मुझे नहीं हैऔर हमें कोई भी चीज जिसका उपयोग खेती के लिए किया जाता हो, उतनी सरलता से मिलता नहीं, जितनी सरलता से आपने बतायाहो सकता है जिन लोगों के बारे में मैंने अभी कुछ देर पहले कहा कि वे हमारे साथ कभी भी, कहीं भी लाइन में खड़े नहीं रहते, फिर भी बीज-खाद-बड़े-बड़े यंत्र उनके पास पहुँच जाते हैंउन लोगों को शायद पता होगा उस किसान कार्ड के बारे मेंउनको प्राप्त होता होगा, सब कुछ, बड़ी आसानी से, हमें नहीं

बैंक से किसानों को ऋण दिया जाता हैइसका ब्याज दर बहुत कम होता हैआप इस सुविधा का उपयोग करते हैं?
किसान हाँ, उपयोग करते हैंकरना पड़ता हैवरना हमारे पास उतने पैसे कहाँ, कि समय आते ही पैसे जेब से निकालकर दे दिए जाएलेकिन किसानों को कर्ज समय पर कहाँ मिलता हैइसके लिए हमें कई बार बैंक के चक्कर काटने पड़ते हैंये नहीं है, वो नहीं है, फलाना कागज जोड़ो इसमेंऐसे कई बार कई बातें बताकर हमें वापस कर दिया जाता हैऐसा करने के पश्चात हम जब ऋण के लिए जाते हैं तब बैंक अधिकारी के चेहरे के देखने से ऐसा लगता है कि मानों वे अपने बाप-दादाओं का रूपया देकर हमारा उपकार कर रहे हैं और अगर कभी किस्त चुकाने में देर हो जाती है तो चिट्ठी भेज देते हैं

कई लोग बैंकों से लिया हुआ ऋण समय पर चुकाते नहीं हैंइसीलिए बैंक वाले अधिकारी मेमो (चिट्ठी) भेज देते हैं
किसान हाँ, ये बात भी सही हैकुछ लोग बैंक से लिया ऋण लौटाते नहींऐसा वे क्यों करते हैं, ये समझ से बाहर हैहम तो समय-समय पर किस्त भरते रहते हैंचंद लोगों के ऐसा करने से सबलोगों को नुकसान होता हैलेकिन एक बात और मैं कहूँगा कि हम गरीब किसान के संदर्भ में ही ऐसा करते देखा जाता है कि बैंक वाले चिट्ठी भेजते हैंहमारे उपकरण छिनकर ले जाते हैंलेकिन जो बड़े-बड़े लोग हैं, उनके द्वारा ऋण लौटाने पर ऐसे हथकंडे कभी नहीं अपनातेयह गलत है

कटाई की गई फसल का आप कैसे नियोजन करते हैं?
किसान घर के उपयोग के लिए जितना चाहिए, उतना घर पर रखकर बचा हुआ बेच देते हैं

कहाँ बेचते हैं, धान्य को? कौन खरीदता है?
किसान प्राइवेट धान खरीदी केंद्र में जाकर बेचते हैंभले ही वे दाम कम देते हैं पर तुरंत दे देते हैंसरकार के द्वारा आयोजित किये गये खरीदी-बिक्री केंद्रों का संचालन ठीक नहीं रहताहम हाल ही में हुए मिर्ची व्यापारियों का हाल देख सकते हैंकई दिनों तक गोदा में ही अपने माल की हिफाजत करना पड़ता है10-15 दिन ऐसे ही बेकार में चले जाते हैंखरीदी किए गए धान्य के पैसे जल्दी नहीं मिलतेवे नेट कैश पैसे नहीं देतेचेक लिखकर देते हैंउसे जमा करने बैंक में जाना पड़ेगाआजकल बैंकों का संचालन ठीक से नहीं चल रहा हैआप तो जानते ही होदिनभर खड़े रहकर पहले चेक को जमा करने, फिर दूसरे-तीसरे दिन लाइन में खड़े रहकर पैसे लेनेइतना करने के बाद भी आपको महज 2 हजार रूपये देते हैंये सब करने के लिए काम धंधे छोड़कर मैंदान में रहना पड़ता हैहमारा पैसा हमें नहीं मिल रहा है

कृषि अधिकारी और मौसम विभाग आपलोगों को किस तरह मदद करता है?
किसान अपनी-अपनी जगह वे काम कर रहे हैंकिसानों के लिए वे क्या कर रहे हैंहमें नहीं पता
वर्तमान समय में किसानों की आत्महत्याएँ बढ़ी हैऐसा क्यों हो रहा है? अपने विचार बताइये?
किसान (चेहरा एकदम उतर जाता है) हाँ, बात सही कही आपनेआजकल किसानों की आत्महत्याएँ काफी बढ़ गयी हैऐसा नहीं होना चाहिएलेकिन जब आपको परेशानियों ने चारों ओर से धर-दबोचा हो, तब आप हार जाते होमौसम की मार और कर्ज की बोझ के कारण वे ऐसा करते हैंआधा हिस्सा माफ करके बचा हुआ आधा ऋण किसान द्वारा बैंक को लौटाने की बात लगती हैलेकिन इस पद्धति का भी ठीक से निर्वाह नहीं किया जा रहा हैमतलब आधी रकम भी बैंक को लौटाकर नहीं दे रहे हैंनतीजा आप भी बैंकों को लूटने वाले में शामिल हो जाते हैं

      मेरे हिसाब से केवल ऋण माफी ही किसान की आत्महत्याओं को रोक नहीं सकताकिसानों के लिए दिये जानेवाली ऋणमाफी व्यवस्था में सुधार लाना चाहिएफसल बीमा योजना को दोषमुक्त करना चाहिएइस बीमा के तहत मिलनेवाले लाभ आदि की जानकारी किसानों तक पहुँचनी चाहिएकिसान क्रेडिट कार्ड क्या है? इससे क्या-क्या लाभ हैं? सका प्रचार करके उनमें चेतना लानी चाहिएसिंचाई प्रणाली में सुधार करके किसानों की नैया पार लगा सकते हैं

     किसानों द्वारा आत्महत्या करने के बाद सरकार उस मृतक के परिवार को 2-3 लाख रूपये मुआवजा देने की बात जो करती है, वह कुछ भी हमें नहीं चाहिएअगर हमारे जीते-जी 40-50 हजार रूपये मात्र के ऋण की व्यवस्था सरकार करती है, तो हमारे जीवन में चार-चाँद लग जायेंगेकिसानों की आत्महत्याएँ कम हो जायेंगी

आखिरी सवाल मैं आपसे पूछना चाहता हूँ कि क्या आप अपने बेटे या पोते को किसान बनाना चाहते हैं?
किसान – (मुस्कराते हुए), देखिए मेरे दादाजी किसान थेमेरे पिताजी भी किसान ही रहेमुझे भी किसान ही बनना पड़ामैं अपने दोनों बेटों को पढ़ाई के लिए स्कूल भेज दिया ताकि वह कुछ छोटी-मोटी नौकरी करके अपनी जिंदगी सवार सकेहमारी तरह 12 महीने खेतों में ही काम करके रहेफिर भी बड़े बेटे ने दसवीं पास करके साहूकार के पास रहकर हिसाब करना सीख लिया हैखेती वह नहीं करताछोटा बेटा सातवीं के बाद स्कूल जाना छोड़ दियामेरी इच्छा से पढाने की थी, फिर भी वह अपनी इच्छा से किसान बन गयाअब मुझे भी उसका किसान बनना अच्छा लगने लगा हैअब मेरे पश्चात वही सबकुछ देखते रहेगारही बात पोते की, तो, मैं उसमें दखल नहीं दूँगामेरा बेटा जाने कि उसका बेटा पढ़लिख कर क्या बनेगाकिसान या विद्वान

    वैसे तो मुझे कभी-कभी लगता है कि समय देखकर थोड़ी-सी कड़ी मेहनत करने से खेती-बाड़ी में फायदे हैंमगर मौसम की वक्र दृष्टि अगर पड़ जाती है तो हाथ कुछ नहीं आनेवालाइसलिए फिर मने संकल्प लेने लगता हूँ कि अपने पोते को किसान होने से बचाना ही ठीक होगा

आपने अपना अमूल्य समय मुझे दिया और मेरे साथ दिल खोलकर बातचीत की, इसके लिए मैं आपका आभारी हूँबहुत-बहुत धन्यवाद!
किसान अरे नहीं नहींऐसी बात नहीं कीजिएहमारी कथा-व्यथा को सुनने के लिए आप समय निकाले, इसके मैं आपका ऋणी हूँकिसान खुश रहेगा तो संसार और भी सुंदर और हरा-भरा होगा 
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template