वैचारिकी: हिन्दी भाषा का विकास : मिथक एवं यथार्थ -गोपाल कुमार - अपनी माटी

हिंदी की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

वैचारिकी: हिन्दी भाषा का विकास : मिथक एवं यथार्थ -गोपाल कुमार

हिन्दी भाषा का विकास : मिथक एवं यथार्थ -गोपाल कुमार

      
भारतीय भाषाओं में भारतीय संघ की राजभाषा हिन्दी का महत्व सर्वविदित है। हिन्दी भारत-सरकार की राजभाषा ही नहीं, वरन् भारत की सर्वप्रमुख अघोषित सम्पर्क भाषा भी है। उत्तरी भारत में हिन्दी की व्यापकता के बारे में भाषा-सर्वेक्षणकी भूमिका में जॉर्ज ग्रियर्सन लिखते हैं – “इस प्रकार यह कहा जाता है और सामान्य रूप से लोगों का विश्वास भी यही है कि गंगा के समस्त काँठे में, बंगाल और पंजाब के बीच, अपनी अनेक स्थानीय बोलियों सहित, केवल एकमात्र प्रचलित भाषा हिन्दी ही है। एक दृष्टि से यह ठीक है और इसे अस्वीकार नहीं किया जा सकता। सर्वत्र हिंदी अथवा हिंदोस्तानी शासन की भाषा है और ग्रामीण स्कूलों में यही शिक्षा का माध्यम भी है।... इस क्षेत्र के लोग द्विभाषा-भाषी हैं अतएव व्यवहार में उन्हें किसी प्रकार की कठिनाई नहीं होती और ये लोग नहीं चाहते कि शासन-कार्य के लिए अनेक भाषाएँ स्वीकार कर कठिनाई उत्पन्न की जाय।...”[1] जॉर्ज ग्रियर्सन स्पष्ट रूप से पंजाब से लेकर बंगाल तक के बीच की गंगा-घाटी में हिन्दी और उसकी बोलियों का प्रसार बतलाते हैं। प्रायः विद्वानों ने हिन्दी की अठारह बोलियों का जिक्र किया है। रामस्वरूप चतुर्वेदी के शब्दों में – “हिंदी क्षेत्र की 18 बोलियाँ (पश्चिमी हिंदी के अंतर्गत खड़ी बोली, बाँगरू, ब्रजभाषा, कन्नौजी, बुंदेली; पूर्वी हिंदी में अवधी, बघेली, छत्तीसगढ़ी; बिहारी में मैथिली, मगही, भोजपुरी; राजस्थानी में मेवाती-अहीरवाटी, मालवी, जयपुरी-हड़ौती, मारवाड़ी-मेवाड़ी; तथा पहाड़ी में पश्चिमी पहाड़ी, मध्य पहाड़ी, पूर्वी पहाड़ी = 18) व्युत्पत्ति की दृष्टि से अलग-अलग अपभ्रंशों से विकसित हुई हैं।”[2] इन पाँच उपभाषाओं अथवा अठारह बोलियों के अतिरिक्त पंजाबी को भी कई विद्वानों ने हिन्दी की परिधि में समेटने की चेष्टा की है। धीरेन्द्र वर्मा ने अपनी पुस्तक ग्रामीण हिंदीमें हिन्दी की छठी उपभाषा के रूप में पंजाबीको भी शामिल किया है। ग्रामीण हिंदीकी इस विषय-सूची में हिन्दी की उपभाषाओं एवं बोलियों की सूची इस प्रकार दी गई है – “क. पश्चिमी उपभाषा – 1. खड़ी बोली, 2. बाँगरू, 3. ब्रजभाषा, 4. कन्नौजी, 5. बुंदेली, ख. पूर्वी उपभाषा – 6. अवधी, 7. बघेली, 8. छत्तीसगढ़ी, ग. बिहारी उपभाषा – 9. भोजपुरी, 10. मगही, 11. मैथिली, घ. राजस्थानी उपभाषा – 12. मारवाड़ी, 13. जयपुरी, 14. मालवी, ङ. पहाड़ी उपभाषा – 15. कुमायूँनी, 16. गढ़वाली, च. पंजाबी उपभाषा – 17. पंजाबी”[3] इस बात की भी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है कि पंजाबी की लिपि अलग होने के कारण उसे कुछ विद्वान अलग भाषा के रूप में मान्यता देते आ रहे हों लेकिन अधिकांश विद्वान हिंदी को बोलियों के उसी वर्गीकरण को मानते हैं जैसा रामस्वरूप चतुर्वेदी ने किया है।
  
      हिन्दी को पाँच उपभाषाओं का समुच्चय माना जाता है जिसके अंतर्गत कुल 18 बोलियों की गिनती की जाती है। अधिकांश विद्वानों के मान्यतानुसार, इन बोलियों की उत्पत्ति विभिन्न प्राकृत भाषाओं से मानी गई है और इन प्राकृतों का मूल संस्कृत को माना गया है। प्रकारान्तर से हिन्दी की उत्पत्ति संस्कृत से ही मानी गई है। 

      किशोरीदास वाजपेयी, रामविलास शर्मा, डॉ. धर्मवीर आदि का जोर इसी बात की ओर अधिक है कि प्राचीन काल में संस्कृत के समानान्तर बहुत-सी जनभाषाएँ एवं जनबोलियाँ भी मौजूद थीं जिनमें आज की भारतीय भाषाओं की आत्माबसी हुई है। इन्हीं भारतीय भाषाओं में हिन्दी भी शामिल है जिनका विकास संस्कृत की समकालीन जनभाषाओं से हुआ है। यह एतिहासिक तथ्य है कि भारत पर हजारों वर्षों से बाहरी आक्रमण होते रहे और बाहर के लोग यहाँ की भौगोलिक विशिष्टताओं के कारण यहाँ आकर बसते गए। ऐसे में बाहरी भाषाओं से भारतीय भाषाओं का लगातार सम्पर्क बना रहा और भारतीय भाषाओं में स्वाभाविक परिवर्तन होता रहा। इसका एक प्रमाण आधुनिक भारतीय भाषाओं में कई विदेशी शब्दों के रूप में देखा जा सकता है। विभिन्न भारतीय भाषाओं में कई विदेशी भाषाओं के शब्द ऐसे घुल-मिल गए हैं कि यह पता लगाना भी अत्यंत मुश्किल हो जाता है कि ये शब्द मूलतः भारतीय हैं भी या नहीं। प्राचीन भारतीय भाषाओं का विकास हो या आधुनिक भारतीय भाषाओं का, यह निरंतर लम्बे समय तक चली विकास-प्रक्रिया का हिस्सा है। परस्पर सम्पर्क एवं संघर्ष से प्राचीन एवं अर्वाचीन जनभाषाओं के स्वरूप में निरंतर परिवर्तन आने के कारण हिन्दी तथा अन्य अर्वाचीन भारतीय भाषाओं का विकास हुआ है।
  
हिन्दी भारत-सरकार की राजभाषा के रूप में ही नहीं, बल्कि भारत की सबसे बड़ी सम्पर्क भाषा के रूप में भी अपने अस्तित्व में रही है। अतः भारतीय भाषाओं में हिन्दी के अध्ययन-अध्यापन की आवश्यकता सबसे अधिक महसूस की गई और विदेशों में भी भारतीय भाषाओं में सर्वाधिक हिन्दी का ही अध्ययन किया जाता रहा है। भाषा-वैज्ञानिकों की दृष्टि भी हिन्दी को लेकर काफी सजग एवं सचेत रही है। हिन्दी की उत्पत्ति को लेकर प्राचीन से लेकर अर्वाचीन, भाषा-वैज्ञानिकों ने अपना सिर खपाया है।
  
हिन्दी की उत्पत्ति को लेकर भाषा-वैज्ञानिकों की परम्परागत मान्यता यही रही है कि हिन्दी भाषा ने संस्कृत से पालि, पालि से प्राकृत, प्राकृत से अपभ्रंश और अपभ्रंश से आधुनिक हिन्दी तक का सफर तय किया है। डॉ. धीरेन्द्र वर्मा के अनुसार – “भारत की अन्य आधुनिक आर्यभाषाओं के समान हिंदी भाषा का जन्म भी आर्यों की प्राचीन भाषा से हुआ है।”[4] इस स्थापना को और भी स्पष्ट करते हुए धीरेन्द्र वर्मा लिखते हैं - “1000 ईसवी के बाद मध्यकालीन भारतीय आर्यभाषा के अंतिम रूप अपभ्रंश भाषाएं धीरे-धीरे बदल कर आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं का रूप ग्रहण कर लिया और गंगा की घाटी में प्रयाग या काशी तक बोली जाने वाली शौरसेनी और अर्धमाग्धी अपभ्रंशों ने हिन्दी भाषा के समस्त प्रधान रूपों को जन्म दिया।”[5] धीरेन्द्र वर्मा आर्यों की प्राचीन भाषा (अप्रत्यक्ष रूप से संस्कृत’) से हिन्दी के जन्म की संभावना व्यक्त करते हैं।
  
उदयनारायण तिवारी के शब्दों में – “विकास की दृष्टि से इसकी (हिन्दी की) उत्पत्ति के सम्बन्ध में भी संक्षेप में जान लेना आवश्यक है। भारत के इतिहास में गंगा-जमुना के बीच की भूमि अत्यधिक पवित्र मानी गयी है। अत्यन्त प्राचीन काल से ही हिमालय तथा विन्ध्यपर्वत के बीच की भूमि आर्यावर्त के नाम से प्रख्यात है। इसी के बीच में मध्यदेश है, जो भारतीय-संस्कृति तथा सभ्यता का केन्द्र-बिन्दु है। संस्कृत, पालि तथा शौरसेनी प्राकृत, इस मध्यदेश के विभिन्न युगों की भाषा रही थी। कालक्रम से इस प्रदेश में शौरसेनी अपभ्रंश का प्रचार हुआ। यह कथ्य (बोलचाल) शौरसेनी अपभ्रंश ही कालान्तर में हिन्दी के रूप में परिणत हुआ।”[6]

श्यामसुंदर दास लिखते हैं – “भारत की पंजाबी, हिन्दी, बंगला, गुजराती, मराठी आदि भाषाओं की परस्पर तुलना करने से यह बात सहज ही ध्यान में आ जाती है कि ये सब भाषाएँ सजातीय हैं और इनकी उत्पत्ति एक ही मूल से हुई है।”[7] और इन सजातीय भाषाओं का मूल उनकी दृष्टि में संस्कृतही है। उन्हीं के शब्दों में – “भारतवर्ष की भिन्न-भिन्न भाषाओं के बोलने वाले यद्यपि एक-दूसरे से इस समय सर्वथा अलग-अलग जान पड़ते हैं, पर वास्तव में वे एक ही मूल वा स्रोत से निकले हैं। यह मूल भाषा संस्कृत है और वह जाति, जिससे इस समय भारतवर्ष में इतनी अधिक जातियाँ और उपजातियाँ हो गई हैं, ‘आर्य जातिहै।”[8] श्यामसुंदर दास भारत की सभी जातियों को आर्य जातिकी संतान मान लेते हैं और उनकी दृष्टि में आर्य जाति की मूल भाषा संस्कृत होने के कारण हिन्दी एवं उनकी सजातीय भाषाओंकी उत्पत्ति भी संस्कृत से ही हुई है।

 अयोध्यासिंह उपाध्याय हरिऔधभी वैदिक भाषा अथवा आर्य जाति की भाषा को ही आदिभाषा या मूल भाषा मानते हैं। उन्हीं के शब्दों में – “...यह बात माननी पड़ेगी कि वैदिक भाषा अथवा आर्य जाति की वह भाषा जिसका वास्तव और व्यापक रूप हमको वेदों में उपलब्ध होता है, आदि भाषा अथवा मूल भाषा है। आजकल के परिवर्तन और नूतन विचारों के अनुसार यदि संसार भर अथवा यूरोपियन भाषाओं की जननी उसे न मानें तो भी आर्य परिवार की जितनी भाषायें हैं, उनकी आधारभूता और जन्मदात्री तो उसे हमें मानना ही पड़ेगा।”[9] ‘हरिऔधका संकेत इस बात की ओर है कि कम से कम आर्य परिवार की समस्त भाषाओं की उत्पत्ति तो वैदिक भाषा अर्थात् संस्कृत से माननी ही पड़ेगी। अप्रत्यक्ष रूप से वे हिन्दी को भी संस्कृत से उत्पन्न बताते हैं।
  
कामता प्रसाद गुरु हिन्दी के क्रमिक विकास को संक्षेप में इस तरह प्रस्तुत करते हैं – “वैदिक काल में शिष्ट समाज की भाषा संस्कृत थी; पर जनसाधारण उस समय भी एक प्रकार की साधारण भाषा बोलते थे, जो प्राकृत कहलाती थी। इस प्राकृत से आगे पाली और द्वितीय प्राकृत का जन्म हुआ। कालांतर में ये भाषाएँ व्याकरण के जटिल नियमों द्वारा बाँध दी गईं; जिसका परिणाम यह हुआ कि बोल-चाल की भाषा अपभ्रंश हो गई। अपभ्रंश भाषाएँ भी व्याकरण के नियमों के अंतर्गत आ गईं; तब सर्वसाधारण के लिए सरल भाषा की आवश्यकता पड़ी। इस समय आधुनिक देशी भाषाओं का जन्म हुआ। हिंदी भाषा का उद्गम भी इसी समय हुआ। हिंदी का जन्म प्राकृत और अपभ्रंश भाषाओं की उन शाखाओं से हुआ जो शौरसेनी और अर्द्ध मागधी कहलाती थीं।”[10] कामता प्रसाद गुरु की अवधारणा से यह तो स्पष्ट होता है कि हिंदी का विकास बोल-चाल की भाषा अपभ्रंशसे हुआ लेकिन अपभ्रंश के मूल का स्पष्टीकरण नहीं हो पाता। उन्होंने लिखा है कि जब कालांतर में संस्कृत, पालि, प्राकृत भाषाएँ व्याकरण के जटिल नियमों द्वारा बाँध दी गईं, तो फिर अपभ्रंशबोलचाल की भाषा बन गई। लेकिन इससे यह स्पष्ट नहीं हो पाता कि अपभ्रंश का विकास पूर्वोक्त भाषाओं से हुआ या अपभ्रंश का अस्तित्व पहले से ही था? कामता प्रसाद गुरु की यह दुविधा उस समय और गहरी हो जाती है जब वे स्पष्ट रूप से हिन्दी को संस्कृत से उत्पन्न बताते हैं। वे संस्कृत से हिन्दी का विकास बताते हुए लिखते हैं – “जो भी हो यह बात निश्चित हुई है कि आर्य लोग, जिनके नाम से उनकी भाषाएँ प्रख्यात हैं, आदिम स्थान से इधर-उधर गये और भिन्न-भिन्न देशों में उन्होंने अपनी भाषाओं की नींव डाली।... जो लोग पूर्व को आए उनके दो भाग हो गए। एक भाग फारस को गया और दूसरा हिन्दूकुश को पार कर काबुल की तराई में से होता हुआ हिंदुस्तान पहुँचा। पहले भाग के लोगों ने ईरान में मीडी (मादी) भाषा के द्वारा फारसी को जन्म दिया, और दूसरे भाग के लोगों ने संस्कृत का प्रचार किया, जिससे प्राकृत के द्वारा इस देश की प्रचलित आर्यभाषाएँ निकली हैं। प्राकृत के द्वारा संस्कृत से निकली हुई इन्हीं भाषाओं में से हिंदी भी है।”[11] कामता प्रसाद गुरु संस्कृत से हिन्दी का विकास बताते हैं जिसमें प्राकृत बीच की कड़ी है। हालाँकि कई अन्य विद्वानों की तरह वे भी संस्कृत के दो रूप बताते हैं वैदिक संस्कृत और लौकिक संस्कृत। वैदिक संस्कृत को वे भारत आने वाले आर्यों की आदिभाषा बताते हैं। उन्हीं के शब्दों में – “जब आर्य लोग पहले-पहल भारतवर्ष में आए तब उनकी भाषा प्राचीन (वैदिक) संस्कृत थी। इसे देववाणी भी कहते हैं, क्योंकि वेदों की अधिकांश भाषा यही है। रामायण, महाभारत या कालिदास आदि के काव्य जिस परिमार्जित भाषा में हैं, वह बहुत पीछे की है।

अष्टाध्यायी आदि व्याकरणों में वैदिकऔर लौकिकनामों से दो प्रकार की भाषाओं के उल्लेख पाये जाते हैं और दोनों के नियमों में बहुत कुछ अंतर है।”[12] कामता प्रसाद गुरु की मान्यता यह है कि संस्कृत बेहद क्लिष्ट भाषा रही है। इसलिए स्त्रियों, बालकों और शूद्रों से उसका उच्चारण ठीक से न कर पाने के कारण एक नई भाषा का जन्म हुआ जिसे गुरु ने प्राकृतका नाम दिया है। उन्हीं के शब्दों में – “अशोक के शिलालेखों और पतंजलि के ग्रंथों से जान पड़ता है कि ईसवी सन् के कोई तीन सौ बरस पहले उत्तरी भारत में एक ऐसी भाषा प्रचलित थी जिसमें भिन्न-भिन्न कई बोलियाँ शामिल थीं। स्त्रियों, बालकों और शूद्रों से आर्यभाषा का उच्चारण ठीक-ठीक न बनने के कारण इस नई भाषा का जन्म हुआ था और इसका नाम प्राकृतपड़ा। प्राकृतशब्द प्रकृति’ (मूल) शब्द से बना है और उसका अर्थ स्वाभाविकया गँवारीहै।”[13] कामता प्रसाद गुरु जिस प्रकार संस्कृत के दो भेद बताते हैं प्राचीन (वैदिक) और नवीन (लौकिक), उसी प्रकार वे प्राकृत के भी दो भेद बताते हैं पहली प्राकृत और दूसरी प्राकृत। वे अनुमान लगाते हैं कि पहली प्राकृत का अस्तित्व वेदों के समय में भी था और यह भाषा वैदिक संस्कृत के समानांतर उपयोग में लाई जाती थी। उन्हीं के शब्दों में – “वेदों में गाथा नाम से जो छन्द पाए जाते हैं, उनकी भाषा पुरानी संस्कृत से कुछ भिन्न है, जिससे जान पड़ता है कि वेदों के समय में भी प्राकृत भाषा थी। सुविधा के लिए वैदिक काल की इस प्राकृत को हम पहली प्राकृत कहेंगे और ऊपर जिस प्राकृत का उल्लेख हुआ है उसे दूसरी प्राकृत। पहली प्राकृत ही ने कई शताब्दियों के पीछे दूसरी प्राकृत का रूप धारण किया।”[14] इसके बाद कामता प्रसाद गुरु संस्कृतअर्थात् आधुनिक संस्कृत भाषा की उत्पत्ति पर विचार करते हैं - वैदिक काल के विद्वानों ने देववाणी को प्राकृत की भ्रष्टता से बचाने के लिए उसका संस्कार करके व्याकरण के नियमों से उसे नियन्त्रित कर दिया। इस परिमार्जित भाषा का नाम संस्कृतहुआ, जिसका अर्थ सुधारा हुआअथवा बनावटीहै। यह संस्कृत भी पहली प्राकृत की किसी शाखा से शुद्ध होकर उत्पन्न हुई है।”[15]
  
कामता प्रसाद गुरु की अवधारणाओं से बहुत सारे प्रश्न खड़े होते हैं। जैसे यदि स्त्रियों, बालकों और शूद्रोंसे आर्यभाषा का उच्चारण ठीक-ठीक न हो पाता था तो वे पहले किन भाषाओं में बातें करते थे? क्या आर्यों की भाषाएँ केवल पुरुषों, व्यस्कों एवं सम्भ्रांत लोगों के लिए ही बनी थीं? पुरानी संस्कृत और नई संस्कृत के साथ-साथ पहली प्राकृत और दूसरी प्राकृत की अवधारणाओं में स्पष्टता नहीं है कि किनसे कौन-सी भाषाएँ उत्पन्न हुईं? हिन्दी भाषा को मूल रूप से इनमें से किससे उत्पन्न माना जाय? इन अवधारणाओं से किसी निष्कर्ष पर पहुँचना मुश्किल प्रतीत होता है।
  
संस्कृत और प्राकृत के दो-दो रूपों से आगे बढ़कर कामता प्रसाद गुरु हिन्दी के विकास की अगली कड़ी अपभ्रंशकी ओर आते हैं और आधुनिक आर्यभाषाओं का विकास अपभ्रंशसे बतलाते हैं। उन्हीं के शब्दों में – “प्रत्येक प्राकृत के अपभ्रंश पृथक्-पृथक् थे और वे भिन्न-भिन्न प्रांतों में प्रचलित थे। भारत की प्रचलित आर्यभाषाएँ न संस्कृत से निकली हैं और न प्राकृत से; किंतु अपभ्रंशों से। लिखित साहित्य में बहुधा एक ही अपभ्रंश भाषा का नमूना मिलता है जिसे नागर अपभ्रंश कहते हैं। इसका प्रचार बहुत करके पश्चिम भारत में था। इस अपभ्रंश में कई बोलियाँ शामिल थीं जो भारत के उत्तर की तरफ प्रायः समग्र पश्चिमी भाग में बोली जाती थीं। हमारी हिंदी भाषा दो अपभ्रंशों के मेल से बनी है एक नागर अपभ्रंश, जिससे पश्चिमी हिंदी और पंजाबी निकली है; दूसरी अर्धमागधी का अपभ्रंश जिससे पूर्वी हिंदी निकली है और जो अवध, बघेलखंड और छत्तीसगढ़ में बोली जाती है।”[16] कामता प्रसाद गुरु के अनुसार हिंदी की उत्पत्ति का प्रत्यक्ष संबंध न तो संस्कृत से है और न ही प्राकृत से बल्कि अपभ्रंश से है। लेकिन कामता प्रसाद गुरु इस प्रश्न का समाधान नहीं कर पाते कि हिंदी की उत्पत्ति का अप्रत्यक्ष संबंध किससे माना जाय संस्कृत से, प्राकृत से या अन्य किसी स्रोत सेहिंदी के विकास को कामता प्रसाद गुरु इस प्रकार दिखाते हैं [17] :-                                  

      हिंदी भाषा के विकास-क्रम को कामता प्रसाद गुरु ने उपर्युक्त हिंदी विकास-क्रम के वृक्ष के माध्यम से अत्यंत स्पष्टता के साथ दर्शाया है। हिन्दी के इस विकास-वृक्ष का अवलोकन करने से यही ज्ञात होता है कि कामता प्रसाद गुरु ने प्राचीन संस्कृत से लौकिक संस्कृत एवं पहली प्राकृत का विकास माना है और लौकिक संस्कृत एवं पहली प्राकृत के मेल से दूसरी प्राकृत अर्थात् पालि का विकास दिखाया है। फिर अपभ्रंशों से होते हुए हिन्दी का विकास दिखाया गया है। हालाँकि यह भी गौर करने वाली बात है कि कामता प्रसाद गुरु ने इस विकास-वृक्ष के इतर जो वर्णन किये हैं, उनमें और विकास-वृक्ष में थोड़ा-बहुत अंतर भी दिखाई देता है। एक ओर उपर्युक्त विवरणों में जहाँ गुरु प्राकृतों के मेल से संस्कृतकी उत्पत्ति दिखाते हैं, वहीं विकास-वृक्ष में उन्होंने लौकिक संस्कृतका विकास केवल प्राचीन संस्कृतसे ही दिखाया है। जो भी हो, इतना स्पष्ट है कि कामता प्रसाद गुरु हिन्दी का विकास मूलतः प्राचीन संस्कृत से दिखाते हैं। इससे स्पष्ट होता है कि कामता प्रसाद गुरु उन भाषाविदों में शामिल हैं जिन्होंने हिन्दी को संस्कृतसे उत्पन्न माना है। 

      श्यामसुंदर दास भी कामता प्रसाद गुरु के इस विकास-वृक्षका समर्थन करते हुए दिखाई देते हैं – “आरंभ से ही जनसाधारण की बोलचाल की भाषा प्राकृत थी। बोलचाल की भाषा के प्राचीन रूप के ही आधार पर वेद-मंत्रों की रचना हुई थी और उसका प्रचार ब्राह्मण ग्रन्थों तथा सूत्र-ग्रन्थों तक में रहा। पीछे से वह परिमार्जित होकर संस्कृत रूप में प्रयुक्त होने लगी। बोलचाल की भाषा का अस्तित्व नष्ट नहीं हुआ। वह भी बनी रही। पर इस समय के प्राचीनतम उदाहरण उपलब्ध नहीं हैं। उसका सबसे प्राचीन रूप जो हमें इस समय प्राप्त है, वह अशोक के लेखों तथा प्राचीन बौद्ध एवं जैन-ग्रंथों में है। उसी को हम प्राकृत का प्रथम रूप मानने के लिए बाध्य होते हैं। उस रूप को पालीनाम दिया गया है। पाली के अनन्तर हमें साहित्यिक प्राकृत के दर्शन होते हैं।”[18] इसके बाद श्यामसुंदर दास ने साहित्यिक प्राकृतों से अपभ्रंशों और अपभ्रंशों से आधुनिक भारतीय भाषाओं (जिनमें हिंदी भी शामिल है) का विकास दिखाया है। गौर करने वाली बात यह है कि वे जहाँ एक ओर यह लिखते हैं कि आरंभ से ही जनसाधारण की बोलचाल की भाषा प्राकृत थी’, वहीं वे प्राकृतों की उत्पत्ति भी वैदिक संस्कृतसे दिखाकर अंततः यही प्रमाणित करने का प्रयास करते हैं कि मूलतः संस्कृत से ही हिंदी का विकास हुआ है। प्राकृत के विकास के बारे में वे लिखते हैं – “इस बात की पुष्टि में बहुत से उदाहरण दिये जा सकते हैं कि प्राचीन वैदिक भाषा से ही प्राकृतों की उत्पत्ति हुई है, अर्वाचीन संस्कृत से नहीं।”[19] श्यामसुंदर दास की अवधारणों से भी कई प्रश्न खड़े होते हैं। जैसे यदि आरंभ से ही जनसाधारण की बोलचाल की भाषा प्राकृतथी तो प्राकृतों का जन्म वैदिक संस्कृत से किस प्रकार हुआ? क्या वैदिक संस्कृत अपने समय की एकमात्र भाषा थी? क्या उस समय समस्त भारतवर्ष में केवल वैदिक संस्कृत ही बोलचाल की भाषा के रूप में प्रयोग में लाई जा रही थी?
  
      रामविलास शर्मा संस्कृतसे हिन्दी की उत्पत्ति को नहीं मानते और संस्कृतको लेकर भी कई विचार प्रकट करते हैं जिनमें से कई विचार एक-दूसरे का सीधा विरोध करते हैं। एक ओर अपनी पुस्तक भाषा और समाजमें वे लिखते हैं – “संस्कृत किसी आर्य नाम की नस्ल की भाषा नहीं थी। उसके निर्माण में अनेक भाषा-परिवारों का योग रहा है।... संस्कृत भारत की एकमात्र भाषा कभी नहीं रही।”[20] दूसरी ओर वहीं वे भारत के प्राचीन भाषा-परिवार और हिंदीके पहले खंड में लिखते हैं – “आर्य गण-भाषाओं में जो भाषा संस्कृत नाम से विख्यात हुई, वह मूलतः मध्यदेश की भाषा थी।”[21] फिर इसी पुस्तक के तीसरे खंड में वे लिखते हैं – “मूल संस्कृत भाषा अथवा मध्यदेश की मूल आर्य भाषा में ल् की अपेक्षा र् की प्रधानता थी।”[22] एक ओर यह कहना कि संस्कृत किसी आर्य नस्ल की भाषा नहीं थीऔर दूसरी ओर संस्कृत के लिए मध्यदेश की मूल आर्य भाषाशब्द का प्रयोग करना कहीं न कहीं किसी दुविधा की तरफ इशारा करता है। जो भी हो, इसमें कोई संदेह नहीं है कि रामविलास जी  संस्कृत -> पालि -> प्राकृत -> अपभ्रंश -> हिन्दीके इस विकास या उद्भव की परम्परा को मानने से इन्कार करते हैं।

 उत्तर भारतीय भाषाओं (जिनमें हिन्दी भी शामिल है) के उद्गम का स्रोत संस्कृत को मानने की अवधारणा पर अब कई भाषा-वैज्ञानिक चोट करने लगे हैं।
  
      भारत और विदेशों में भी यह लगभग प्रचलित मान्यता है कि भारत की सबसे बड़ी सम्पर्क भाषा हिन्दी का मूल संस्कृत में निहित है लेकिन स्वयं संस्कृत से हिन्दी का उदय मानने वाले डॉ. भोलानाथ तिवारी के शब्दों से ही इस मान्यता पर संदेह होना शुरू हो जाता है। भारतीय विद्वान संस्कृत को देववाणी मानते थे और अरब के लोगों के लिए अरबी खुदा की भाषा थी, वहीं यहूदी लोग हिब्रू को ईश्वर-प्रदत्त भाषा मानते रहे हैं। संभवतः ईश्वर से संबंध जोड़े जाने के कारण ही संस्कृत को सभी भारतीय भाषाओं की जननी माना जाता रहा है। डॉ. भोलानाथ तिवारी के शब्दों में – “भारतीय पंडित वेदों को अपौरुषेय मानते रहे हैं। उनका दृढ़ विश्वास रहा है कि संस्कृत को ईश्वर ने बनाया...। संस्कृत को देवभाषाकहने में भी उनके इसी विश्वास की ओर संकेत है।”[23] डॉ. भोलानाथ तिवारी आगे कहते हैं – “बौद्ध पालिको भी इसी प्रकार मूल भाषा मानते रहे हैं, और उनका विश्वास रहा है कि भाषा अनादि काल से चली आ रही है।”[24] भाषा की दैवीय उत्पत्ति का यह सिद्धान्त अब किसी भी भाषा की उत्पत्ति के संदर्भ में प्रभावी नहीं रह गया है क्योंकि आज के युग में विज्ञान के विकास के साथ-साथ ईश्वर में आस्था एक व्यक्तिगत विषय बनकर रह गया है। आज के समय में डार्विन के विकासवाद के सिद्धांत को मान्यता दी जाती है, अतः हर बात की तरह भाषा के विकास का श्रेय भी ईश्वर को नहीं दिया जा सकता। आज के इस भौतिकवादी युग में संसार में विभिन्न धर्म हैं और इनके अनुयायी निरंतर आपसी संघर्ष में लगे रहते हैं। हर धर्म के अपने-अपने सिद्धांत और अपने-अपने ईश्वर हैं और साथ ही अपने-अपने ईश्वरों द्वारा प्रदत्त भाषाएँ भी हैं। आज के इस वैज्ञानिक युग में जब धर्म और ईश्वर की अवधारणा ही खतरे में आ गयी है, तब ईश्वर को किसी भी भाषा का उत्पत्तिकर्ता मानना भी केवल कल्पना मात्र ही समझा जाएगा। वैसे भी आज भाषा की उत्पत्ति कै दैवीय सिद्धांत के विरुद्ध कई तर्क दिये जाते रहे हैं। जैसे यदि भाषा के निर्माता भी ईश्वर ही थे तो फिर मनुष्य की भाषाओं में इतनी असमानताएँ क्यों हैं? कहने का तात्पर्य यह है कि संस्कृत भाषा का संबंध देवताओं से जोड़ना भी संस्कृत को भारत की सभी भाषाओं की जननी मानने का एक कारण रहा है। लेकिन कई भाषा-वैज्ञानिक ऐसे भी हैं जो हिन्दी में व्यवहृत होने वाले तत्सम शब्दों की भरमार दिखाकर हिन्दी की उत्पत्ति संस्कृत से साबित करने में लगे रहे हैं।

 हिन्दी की उत्पत्ति संस्कृत भाषा से नकारने वाली अवधारणाएँ भी सामने आने लगी हैं। संस्कृत व्याकरणिक दृष्टि से बेहद क्लिष्ट भाषा मानी जाती है और ऐसी भाषा का बोल-चाल की भाषा के रूप में व्यवहार होना लगभग असंभव ही प्रतीत होता है। डॉ. अवधेश्वर अरुण के अनुसार – “संस्कृत कृत्रिम रूप से संघटित अपभाषा है या जन-भाषा, इस संबंध में दो परस्पर विरोधी मत हैं। ए.बी. कीथ, डॉ. वासुदेव शरण अग्रवाल, डॉ. प्रभातचन्द्र चक्रवर्ती आदि विद्वान यह मानते हैं कि संस्कृत उच्च श्रेणी के पठित समाज की सामान्य बोलचाल की भाषा थी। दूसरी ओर शमशेर सिंह नरूला का मत है कि वास्तव में व्याकरण एवं ध्वनि के इतने जटिल नियमों में जकड़ी हुई कोई भाषा बोलचाल की भाषा हो ही नहीं सकती और न ही वह किसी की मातृभाषा हो सकती है, बेशक वह कितना ही विद्वान क्यों न हो।””[25] आज भी भारत-सरकार द्वारा कार्यालयों में व्यवहार हेतु लागू की गई राजभाषा हिन्दीकी पारिभाषिक शब्दावली को एक उदाहरण के तौर पर देखा जा सकता है जिसका कार्यालयों में तो व्यवहार किया जा रहा है लेकिन इसमें प्रयुक्त होने वाले शब्द आम बोल-चाल की भाषा में शायद ही कहीं प्रयोग में लाए जाते हों।

 गणेशप्रसाद द्विवेदी लिखते हैं – “यह कहना कदापि असंदिग्ध नहीं हो सकता कि राजस्थान अथवा गुजरात की किसी पुरानी भाषा से ही संयुक्त प्रान्त की हिन्दी निकली है। उस समय इस प्रान्त (संयुक्त प्रान्त) में जिस अपभ्रंश का प्रयोग होता रहा होगा उसी से यहाँ की आधुनिक हिन्दी की उत्पत्ति हुई है। मथुरा और दिल्ली के आसपास शौरसेनी अपभ्रंशका प्रचार था। अतः, पश्चिमी हिन्दी को शौरसेनीअपभ्रंश की संतान मान लेने में हमको कोई आपत्ति नहीं दीख पड़ती (डाo चटर्जी तथा ग्रियर्सन का भी वर्तमान पूर्वी हिन्दी के बारे में यही मत है)। अभी तक यही स्थिर है कि इसकी उत्पत्ति अर्द्धमागधीअपभ्रंश से हुई। अर्द्धमागधी प्राकृत के अस्तित्व को तो सभी मानते हैं।”[26] हालाँकि वे अंत में यह लिखते हैं कि निर्विवाद रूप से हिन्दी की उत्पत्ति के बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। उन्हीं के शब्दों में – “किस निश्चित समय से हिन्दी ने अपना आधुनिक रूप धारण करना आरम्भ किया इसका निश्चय अभी तक निर्विवाद रूप से नहीं हो पाया है। डाo ग्रियर्सन भी इस विषय में संदिग्ध नहीं हैं। उनका विचार है कि ईo सन् 1000 से हिन्दुस्तानी आर्य-(इन्डोआरयन्) भाषाओं ने अपना आधुनिक स्वरूप धारण करना आरम्भ किया होगा।”[27] हालाँकि गणेशप्रसाद द्विवेदी के मत में कई दुविधाएँ दिखाई देती हैं लेकिन इनके मत में एक ही बात महत्वपूर्ण है कि इन्होंने हिन्दी की उत्पत्ति का अनुमान संस्कृत से नहीं, बल्कि राजस्थान अथवा गुजरात की किसी पुरानी भाषा से मानी है, हालाँकि द्विवेदी जी उस भाषा का नाम बता पाने में असमर्थ हैं।
  
1925 ई. में प्रकाशित अपनी छोटी-सी पुस्तक हिन्दी भाषा की उत्पत्तिमें महावीरप्रसाद द्विवेदी ने अधिकांश भाषा-संबंधी वही सिद्धांत दोहराये हैं जो जॉर्ज ग्रियर्सन के हैं। उन्हीं के शब्दों में – “हिन्दुस्तान में सब मिलाकर 147 भाषायें या बोलियाँ बोली जाती हैं। उनमें से हिन्दी वह भाषा है जिसका सम्बन्ध एक ऐसी प्राचीन भाषा से है जिसे हमारे और यूरपवालों के पूर्वज किसी समय बोलते थे।”[28] उनका इशारा निश्चित रूप से आर्यों के बाहर से आगमन और हिंदी की उत्पत्ति के स्रोत भारत से बाहर से आये हुए आर्यों की किसी प्राचीन भाषा की ओर है। लेकिन जहाँ तक हिन्दी की उत्पत्ति का सवाल आता है तो वे अपनी मौलिक अवधारणा देते हैं। वे इसी पुस्तक के उपसंहार में लिखते हैं – “आज तक कुछ लोगों का ख़याल था कि हिन्दी की जननी संस्कृत है। यह बात भारत की भाषाओं की खोज से ग़लत साबित हो गई। जो उद्गमस्थान परिमार्जित संस्कृत का है, हिन्दी जिन भाषाओं से निकली है उनका भी वही है। इस बात को सुनकर बहुतों को आश्चर्य होगा। सम्भव है उन्हें यह बात ठीक न जँचे, पर जब तक इसके ख़िलाफ़ कोई सबूत न दिये जायँ, तब तक इस सिद्धान्त को मानना ही पड़ेगा।”[29] इसी अवधारणा को आगे चलकर किशोरीदास वाजपेयी, रामविलास शर्मा और डॉ. धर्मवीर जैसे भाषाविदों ने स्वीकार किया है।

आधुनिक भारत के प्रमुख भाषा-वैज्ञानिकों में से एक आचार्य किशोरीदास वाजपेयी ने अपनी पुस्तक हिन्दी शब्दानुशासनमें हिन्दी की उत्पत्ति के संस्कृत से माने जाने पर सवाल खड़े किये हैं। उनकी इस मान्यता पर रामविलास शर्मा और डॉ. धर्मवीर भी अपनी मुहर लगाते हैं। डॉ. धर्मवीर ने अपनी पुस्तक हिन्दी की आत्मामें इस बात पर जोर दिया है कि संस्कृत के समानान्तर बहुत-सी जन-भाषाएँ बोली जाती थीं जिनमें आधुनिक हिन्दी की आत्माबसी हुई है। डॉ. धर्मवीर के शब्दों में – “यह एक भ्रम फैलाया गया है कि उत्तर भारत की सभी आर्य भाषाएँ संस्कृत से निकली हैं। निश्चित रूप से ये सभी भाषाएँ संस्कृत से प्रभावित हुई हैं लेकिन इसका अर्थ यह नहीं हो जाता कि संस्कृत उनकी जननी है। इस बात की ओर भाषा-वैज्ञानिकों का ध्यान जाना चाहिए कि संस्कृत ने अपने आरंभ काल में अनेक शब्द इन भाषाओं से लिए हैं।... विद्वानों को कभी इस साधारण बुद्धि से भी काम लेना चाहिए कि संस्कृत ने भी अन्य भाषाओं से शब्द या धातुएँ ली होंगी।”[30]
  
संस्कृत को सबसे प्राचीन भारतीय भाषा मानने के पीछे सबसे प्रबल तर्क यह दिया जाता है कि भारत के सर्वाधिक प्राचीन साहित्य इसी भाषा में उपलब्ध हैं। इस तर्क को खंडित करते हुए डॉ. धर्मवीर लिखते हैं – “यह सच है कि साहित्य किसी भाषा में ही लिखा जाता है लेकिन उस भाषा विशेष का साहित्य भी हो, यह उसकी उत्पत्ति जानने के लिए अनिवार्य नहीं है। भाषा बिना किसी तथाकथित साहित्य और बिना किसी लिपि के भी हो सकती है।”[31] इस प्रकार की मान्यता पर खीज व्यक्त करते हुए डॉ. धर्मवीर आगे लिखते हैं – “यह दुःख की बात है कि कुछ विद्वान भाषा के साहित्यिक और राज भाषा के रूप तक पहुँच कर ही अपने काम की इति समझ लेते हैं। अधिक से अधिक वे भाषा के धार्मिक पक्ष तक जा कर रुक जाते हैं। उन्हें यह ध्यान नहीं रहता कि किसी भी समय में साहित्यकारों, राज कर्मचारियों और धार्मिक नेताओं की संख्या बहुत कम होती है। जनता का बड़ा हिस्सा मजदूरों और किसानों से मिल कर बनता है। उन मजदूरों और किसानों की भी एक भाषा हुआ करती है।”[32] यह एक ऐतिहासिक तथ्य है कि पुराने जमाने में मजदूरों और किसानों तक शिक्षा की मूलधारा की पहुँच नहीं थी और आज भी कमोबेश ये वर्ग आधुनिक शिक्षा की पहुँच से दूर हैं। ऐसे में इनकी बोल-चाल की भाषा को नज़रअंदाज करना उचित नहीं होगा। भारत में आदिवासी समाज भी सदियों तक तथाकथित मुख्य धारा के समाज से अलग-थलग रहा है लेकिन इसका यह मतलब कदापि नहीं निकाला जा सकता कि उनकी कोई भाषा नहीं रही है या उनकी कोई संस्कृति नहीं रही है। प्राचीन साहित्य में कई ऐसी रचनाएँ (विशेषकर नाटकों के रूप में) मिलती हैं जिनमें विभिन्न पात्रों की भाषा में अंतर साफ देखा जा सकता है। डॉ. धर्मवीर इस ओर संकेत करते हुए लिखते हैं – “प्राचीन काल के संस्कृत नाटकों में स्त्री और शूद्र संस्कृत नहीं बोलते हैं। वे केवल प्राकृत बोलते हैं। प्राचीन भाषाओं के विद्वान बताते हैं कि संस्कृत नाटकों में जिस प्राकृत का प्रयोग हुआ है वह रूढ़ प्राकृत है। प्राकृत एक नहीं रही होगी, बल्कि हर भौगोलिक क्षेत्र में अलग-अलग प्राकृतें रही होंगी। हम प्राकृत के कई प्रकार सुनते भी हैं। लेकिन संस्कृत के नाटकों में एक ही प्राकृत का प्रयोग मिलता है। यह ऐसी रूढ़ प्राकृत है कि यह भी निश्चित नहीं किया जा सका है कि यह किस क्षेत्र की प्राकृत रही होगी।”[33]
  
डॉ. धर्मवीर इस जनभाषा (प्राकृत) के बारे में स्पष्ट शब्दों में लिखते हैं – “संस्कृत नाटकों में जिस प्राकृत का पहली बार प्रयोग किया गया है, वह किसी क्षेत्र विशेष की प्राकृत रही होगी। उसका एक विस्तृत जनाधार रहा होगा। इस बात की पूरी संभावना है कि राजधानी के क्षेत्र की आम जनता उसे बोलती होगी। बाद में राजधानी से दूर के क्षेत्रों की विभिन्न जन भाषाओं पर भी वही प्राकृत आरोपित कर ली गई होगी।”[34] लेकिन भाषा-वैज्ञानिकों ने संस्कृत के महिमामंडन के दौरान जन-भाषाओं की उपेक्षा की और संस्कृत को ही सभी भारतीय भाषाओं की जननी घोषित कर दिया। जबकि यह ऐतिहासिक तथ्य है कि सामाजिक संदर्भों के बिना भाषा का कोई अस्तित्व ही नहीं है क्योंकि भाषा का विकास समाज में ही होता है और किसी भी भाषा के विकास को समझने के लिए उस भाषा से संबंधित समाज के विकास को समझना आवश्यक है। कोई भी भाषा कभी भी अपने समाज से अलग नहीं हो सकती, क्योंकि भाषा का प्रयोग समाज में ही संभव है। इसलिए भाषा के स्वरूप में भी परिवर्तन भी समाज में ही संभव होता है। साथ ही जो समाज जितना बड़ा होता है, उसमें भाषाओं के स्वरूप में उतने ही अंतर देखने को मिलते हैं।
  
भारतीय समाज कभी भी बंद समाज नहीं रहा है। इस समाज में विभिन्न कारणों से परस्पर सम्पर्क और भाषागत आदान-प्रदान विभिन्न रूपों में निरंतर होता रहा है। ये भी निर्विवाद ऐतिहासिक तथ्य है कि भारत पर हजारों वर्षों से विदेशी आक्रमण होते रहे और बाहर के लोग यहाँ की भौगोलिक विशिष्टताओं के कारण यहाँ आकर बसते गए। ऐसे में बाहरी भाषाओं से भारतीय भाषाओं का लगातार सम्पर्क बना रहा और भारतीय भाषाओं में स्वाभाविकता से परिवर्तन होता रहा। इसका एक परिणाम आधुनिक भारतीय भाषाओं में कई विदेशी शब्दों के रूप में देख सकते हैं। विभिन्न भारतीय भाषाओं में कई विदेशी भाषा के शब्द ऐसे घुल-मिल गए हैं कि यह पता लगाना भी अत्यंत कठिन हो जाता है कि ये शब्द मूलतः भारतीय हैं या अभारतीय।

भारतीय भाषाएँ प्राचीन काल से ही विश्व की अनेक भाषाओं के सम्पर्क में रही हैं और दोनों में शब्द, ध्वनि आदि कई स्तरों पर आदान-प्रदान होता आया है। ऐसे में यह तथ्य आश्चर्यजनक नहीं माना जा सकता कि प्राचीन एवं आधुनिक भारतीय भाषाओं एवं कई पाश्चात्य भाषाओं में ध्वनि, शब्द-रचना, वाक्य-रचना आदि के आधार पर कई प्रकार की समानताएँ देखी जाती हैं। हालाँकि इन्हीं समानताओं को आधार बनाकर कई पाश्चात्य एवं भारतीय भाषा-वैज्ञानिकों ने भारतीय एवं पाश्चात्य भाषाओं को एक ही भाषा-परिवारकी भाषाएँ सिद्ध करने का प्रयास किया है, लेकिन इस तथ्य को भी पूर्णतः उपेक्षित नहीं किया जा सकता कि भारतीय एवं पाश्चात्य भाषाओं में ध्वनि, शब्द-रचना, वाक्य-रचना आदि में व्याप्त समानताएँ भारत एवं शेष विश्व के समाजों के बीच परस्पर सम्पर्कों के परिणाम हैं, न कि दोनों की उत्पत्ति का मूल स्रोत एक है। केवल पाश्चात्य भाषा-परिवारों से ही नहीं, भारतीय भाषाओं का सम्पर्क चीनी, अरबी एवं दक्षिण-पूर्वी देशों की भाषाओं से भी होता रहा है और भारतीय भाषाओं पर कई विदेशी भाषाओं के सम्पर्क का प्रभाव भी स्पष्टतः देखा जा सकता है। ऐसा नहीं है कि विदेशी भाषाओं से निरंतर सम्पर्क से केवल भारतीय भाषाएँ ही प्रभावित हुई हैं, बल्कि कई विदेशी भाषाओं पर भी भारतीय भाषाओं के सम्पर्क का प्रभाव देखा जा सकता है। वैसे भी हिन्दी किसी एक विशेष भाषा या बोली का नाम नहीं है। इसके अन्तर्गत कई उपभाषाएँ एवं बोलियाँ आती हैं और इनके रूपों में भी विभिन्न स्तरों पर कई प्रकार के अंतर भी देखे जा सकते हैं।
  
हालाँकि संस्कृत की प्राचीनता सर्वविदित है और व्याकरण की दृष्टि से इसकी समानता यूरोप की कई पुरानी भाषाओं जैसे लैटिन, ग्रीक आदि से भी पाई जाती है। डॉ. धर्मवीर शायद हिन्दी की आत्मामें प्रवेश करने के चक्कर में कई बार अतिशयोक्ति का प्रयोग भी कर बैठते हैं। जैसे उन्हीं के शब्दों में – “यह इतिहास का सच है कि जब संस्कृत, फारसी और अंग्रेजी के कारण खड़ी बोली का नामोनिशान मिट जाना चाहिए था, यह उलटे इन भाषाओं के सम्मुख सिर तान कर खड़ी हो गई है। खड़ी बोली हिन्दी चुपचुप इन तीनों भाषाओं के कारण समृद्ध होती चली गई थी। इसने तीनों भाषाओं के शब्द ग्रहण करने आरंभ कर दिये थे। संयोग से देश में लोकतंत्र का समय आ गया और भारत के नए संविधान ने हिन्दी को राज भाषा का स्थान दे दिया है। यहाँ केवल यह कहना शेष रह जाता है कि खड़ी बोली अपने खड़ी बोली क्षेत्र में बोली के रूप में तब भी जीवित रही जब संस्कृत, राज भाषा और साहित्यिक भाषा थी और तब भी जब फारसी और अंग्रेजी राजभाषाएँ बनी रहीं। इस तर्क से खड़ी बोली पाणिनि द्वारा व्याकरण बद्ध की गई संस्कृत से भी पुरानी बोली सिद्ध होनी चाहिए।”[35]

 हिन्दी भाषा के उद्भव और विकास के बारे में अनेक विद्वानों ने लिखा है। अधिकांश विद्वान हिन्दी की उत्पत्ति का मूल संस्कृतसे मानते हैं। उनके अनुसार हिन्दी का विकास संस्कृत -> पालि -> प्राकृत -> अपभ्रंश से हुआ है। जबकि रामविलास शर्मा संस्कृतके सभी भारतीय भाषाओं के मूल होने पर संदेह व्यक्त किया है। उन्हीं के शब्दों में – “संस्कृत किसी आर्य नाम की नस्ल की भाषा नहीं थी। उसके निर्माण में अनेक भाषा-परिवारों का योग रहा है। संस्कृत भारत की एकमात्र भाषा कभी नहीं रही।”[36] उनकी मान्यता है कि संस्कृत का विकास भारत की बोलियों से हुआ था। उन्हीं के शब्दों में - भरत या कुरुजन की बोली के आधार पर संस्कृत का विकास हुआ...”[37] अधिकांश विद्वान वैदिक संस्कृतको भारत की सबसे प्राचीन भाषा मानते हैं। रामविलास शर्मा के अनुसार वैदिक धर्म के प्रचार के लिए भी जनभाषाओं का उपयोग अनिवार्य था। उन्हीं के शब्दों में - धार्मिक कर्मकांड के लिए चाहे जिस लोकोत्तर वाणी का प्रयोग हो, जन-साधारण में धर्म का प्रचार तो उनकी भाषा के बिना असम्भव है। वैदिक धर्म का प्रचार भी जब हुआ होगा, तो लोक-भाषाओं द्वारा ही हुआ होगा।”[38] साथ ही हिन्दी के उद्भव और विकास के संबंध में रामविलास शर्मा का स्पष्ट मत है – “...हिन्दी और उसके साथ की बोलियों के अनेक रूप काफी प्राचीन सिद्ध होते हैं। संस्कृत-प्राकृत-अपभ्रंश की मंजिलों को आधुनिक भारतीय भाषाओं की सही मंजिलें मानने के कारण भाषाविद् तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करते हैं और उनसे गलत निष्कर्ष निकालते हैं।”[39] हालाँकि रामविलास शर्मा ने वैदिक संस्कृतको एक बोलचाल की भाषा माना है लेकिन उसे प्राचीन बोलियों का एक समुच्चय माना है, न कि आधुनिक भारतीय भाषाओं की जननी। संस्कृत से हिन्दी का संबंध जरूर है लेकिन वह हिन्दी की जननी नहीं है। उन्हीं के शब्दों में - “...वैदिक संस्कृत को बोलचाल की भाषा मानना चाहिए। जिस भाषा में भी साहित्य रचा जाय, वह कृत्रिम होगी यह तर्क असंगत है। वैदिक संस्कृत और लौकिक संस्कृत से हिन्दी आदि आधुनिक भाषाओं का गहरा संबंध है।... साथ ही आधुनिक भाषाओं की अपनी विशेषताएँ हैं जो प्राचीन काल में यहाँ बहुत सी भिन्न प्रकृति वाली भाषाओं और भाषा परिवार के अस्तित्व की सूचना देती हैं। हिंदी के क्रिया-रूप संस्कृत से मिलते-जुलते हैं, यद्यपि वे उनकी नकल नहीं हैं।”[40] हिन्दी भाषा के विकास में संस्कृत की भूमिका के संबंध में रामविलास शर्मा की स्पष्ट मान्यता है कि संस्कृत ने हिन्दी को भाषिक रूप से समृद्ध अवश्य किया है किन्तु संस्कृत से हिन्दी का विकास नहीं हुआ है। 

डॉ. रामविलास शर्मा इस तथ्य पर जोर देते हैं कि भाषाओं का विकास, या दूसरे शब्दों में कहें तो भाषा में परिवर्तन, आपसी सम्पर्क का परिणाम होता है। जिस समाज का इतिहास जितना पुराना होगा, जिस समाज का अन्य समाजों से सम्पर्क जितना अधिक होगा, उस समाज का विकास भी उतना ही अधिक होगा और उस समाज की भाषा का शब्द-भंडार भी उतना ही बड़ा होगा। हर भाषा का विकास उसके समाज के ऐतिहासिक एवं भौगोलिक परिप्रेक्ष्य में ही संभव है। हर भाषा का विकास उसके सामाजिक संदर्भों पर आधारित रहा है। अतः भारत संघ की राजभाषा हिन्दी का विकास भी उसके सामाजिक संदर्भों को ध्यान में रखकर देखा जाना चाहिए।

      भारतीय भाषाओं में भारतीय संघ की राजभाषा हिन्दी का महत्व सर्वविदित है। हिन्दी भारत-सरकार की राजभाषा ही नहीं, वरन् भारत की सर्वप्रमुख अघोषित सम्पर्क भाषा भी है। हिन्दी वास्तव में पाँच उपभाषाओं एवं 18 बोलियों का समुच्चय है। इन बोलियों की उत्पत्ति विभिन्न प्राकृत भाषाओं से मानी गई है और इन प्राकृतों का मूल संस्कृत को माना गया है। प्रकारान्तर से हिन्दी की उत्पत्ति संस्कृत से ही मानी गई है।



महावीर प्रसाद द्विवेदी, किशोरीदास वाजपेयी, रामविलास शर्मा, डॉ. धर्मवीर, आदि का जोर इसी बात की ओर अधिक है कि प्राचीन काल में संस्कृत के समानान्तर बहुत-सी जनभाषाएँ एवं जनबोलियाँ भी मौजूद थीं जिनमें आज की भारतीय भाषाओं की आत्माबसी हुई है। इन्हीं भारतीय भाषाओं में हिन्दी भी शामिल है जिसका विकास संस्कृत की समकालीन जनभाषाओं से हुआ है। प्राचीन भारतीय भाषाओं का विकास हो या आधुनिक भारतीय भाषाओं का, यह निरंतर लंबे समय तक चली विकास-प्रक्रिया का हिस्सा है।


संदर्भ सूची
  
[1] रामस्वरूप चतुर्वेदी; हिंदी साहित्य और संवेदना का विकास; पृ. 17 (उद्धृत)

[2] वही; पृ. 18

[3] धीरेन्द्र वर्मा; ग्रामीण हिन्दी (विषय-सूची)

[4] डॉ. धीरेन्द्र वर्मा; हिन्दी भाषा का इतिहास; पृ. 41

[5] वही; पृ. 74

[6] उदयनारायण तिवारी; हिन्दी भाषा का उद्गम और विकास; पृ. 139

[7] श्यामसुंदर दास; भाषाविज्ञान; पृ. 52

[8] वही; पृ. 51

[9] अयोध्यासिंह उपाध्याय हरिऔध’; हिन्दी भाषा और उसके साहित्य का विकास; पृ. 22

[10] कामताप्रसाद गुरु; संक्षिप्त हिंदी व्याकरण; पृ. 185-186

[11] कामता प्रसाद गुरु; हिंदी व्याकरण; पृ. 26

[12] कामता प्रसाद गुरु; हिंदी व्याकरण; पृ. 26-27

[13] वही; पृ. 27

[14] वही

[15] वही

[16] वही; पृ. 28-29

[17] वही; पृ. 29

[18] श्यामसुंदर दास; भाषाविज्ञान; पृ. 236

[19] वही; पृ. 236

[20] रामविलास शर्मा; भाषा और समाज; पृ. 208

[21] रामविलास शर्मा; भारत के प्राचीन भाषा-परिवार और हिंदी (खंड-1); पृ. 31

[22] रामविलास शर्मा; भारत के प्राचीन भाषा-परिवार और हिंदी (खंड-3); पृ. 54

[23] डॉ. भोलानाथ तिवारी; भाषाविज्ञान; पृ. 41

[24] वही

[25] अवधेश्वर अरुण; हिन्दी भाषा का स्वरूप-विकास; पृ. 28 (उद्धृत)

[26] गणेशप्रसाद द्विवेदी; हिंदी साहित्य अर्थात् हिंदी भाषा और साहित्य का संक्षिप्त इतिहास; पृ. 10

[27] वही; पृ. 11

[28] महावीरप्रसाद द्विवेदी; हिन्दी भाषा की उत्पत्ति; पृ. 4

[29] वही; पृ. 56

[30] डॉ. धर्मवीर; हिन्दी की आत्मा; पृ. 17

[31] वही; पृ. 19

[32] वही

[33] वही; पृ. 20

[34] वही

[35] वही; पृ. 23

[36] रामविलास शर्मा; भाषा और समाज; पृ. 208

[37] वही; पृ. 219

[38] वही; पृ. 229

[39] वही; पृ. 217

[40] वही; पृ. 216-217
  

डॉ. गोपाल कुमार, (पी-एच.डी. हिन्दी),अंग्रेजी एवं विदेशी भाषा विश्वविद्यालय, हैदराबाद (तेलंगाणा), gopal.eflu@gmail.com
अपनी माटी (ISSN 2322-0724 Apni Maati) वर्ष-5, अंक 28-29 (संयुक्तांक जुलाई 2018-मार्च 2019)  चित्रांकन:कृष्ण कुमार कुंडारा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मुलाक़ात विद माणिक


ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here