Latest Article :

कॉपीराइट

'अपनी माटी' के कॉपीराइट एक्ट के बारे में ज़रूरी बातें 
  1. सबसे पहले तो हमारे बहुत से ज़रूरी फोटो के लिए साभार छपने पर गूगल जैसी सेवा का धन्यवाद।
  2. यहाँ छपी अप्रकाशित सामग्री पर लेखक और अपने माटी दोनों का साझा कोपीराईट होगा।
  3. रचनाकार कृपया कोपीराइट वाली सामग्री भेजते समय मूल स्थान का ज़िक्र ज़रूर करें।
  4. साझेदारी के इस कोपीराइट में हमारा मूल मंतव्य लेखन सामग्री को गलत उपयोग से बचाया जाना हमारी प्राथमिकता है।
  5. यहाँ एक बार छपी सामग्री को दूजी जगह छपने की अपने और से अनुमति देते समय अपनी माटी पत्रिका का लिंक सहित पता वहाँ साभार लिखने के लिए ज़रूर कहिएगा।
  6. किसी द्वारा अगर हमारे यहाँ छपी सामग्री के बिना अनुमति उपयोग की जानकारी हमने मिलती है तो,क़ानूनी कार्यवाही हेतु संबधित व्यक्ति स्वयं ज़िम्मेदार होगा।
  7. हम ये सोचते हैं कि कम से कम ये समाज जिसमें हम लेखक,सम्पादक,पत्रकार जाति से तो इस तरह की नैतिकता की उम्मीद करता ही है।
  8. यहाँ प्रकाशित सामग्री का अन्यत्र उपयोग हमें भी खुशी देगा मगर आप उस लिंक के जानकारी देंगे तब ही तो ये संभव होगा।


Copyrighted.com Registered & Protected 
OA6B-JO3X-TFKS-SJZOText selection Lock by Hindi Blog TipsRight Click Lock by Hindi Blog Tips


Creative Commons License Apni Maati Web Magazine by Apni Maati Dot Com is licensed under a Creative Commons Attribution-NonCommercial-NoDerivs 2.5 India License. Based on a work at http://www.apnimaati.com/p/about-us.html. Permissions beyond the scope of this license may be available at http://www.apnimaati.com/p/editorial-board.html.

कृपया कन्वेंशन फोटो एल्बम के लिए इस फोटो पर करें.

यूजीसी की मान्यता पत्रिकाओं में 'अपनी माटी' शामिल

नमस्कार

अपार खुशी के साथ सूचित कर रहा हूँ कि यूजीसी के द्वारा जारी की गयी मान्यता प्राप्त पत्रिकाओं की सूची में 'अपनी माटी' www.apnimaati.com - त्रैमासिक हिंदी वेब पत्रिका को शामिल किया गया है। यूजीसी के उपरोक्त सूची के वेबसाईट – ugc.ac.in/journalist/ - में 'अपनी माटी' को क्र.सं./S.No. 6009 में कला और मानविकी (Arts & Humanities) कोटि के अंतर्गत सम्मिलत किया गया है। साहित्य, समय और समाज के दस्तावेजीकरण के उद्देश्यों के साथ यह पत्रिका 'अपनी माटी संस्थान' नामक पंजीकृत संस्था, चित्तौड़गढ द्वारा प्राकशित की जाती है.राजस्थान से प्रकाशित होने वाली संभवतया यह एकमात्र ई-पत्रिका है.


इस पत्रिका का एक बड़ा ध्येय वेब दुनिया के बढ़ रहे पाठकों को बेहतर सामग्री उपलब्ध कराना है। नवम्बर, 2009 के पहले अंक से अपनी माटी देश और दुनिया के युवाओं के साथ कदमताल मिलाते हुए आगे बढ़ रही है। इसी कदमताल मिलाने के जद्दोजह़द में वर्ष 2013 के अप्रैल माह में अपनी माटी को आईएसएसएन सं./ ISSN No. 2322-0724 प्रदान किया गया। पदानुक्रम मुक्त / Hierarchies Less, निष्पक्ष और तटस्थ दृष्टि से लैस अपनी माटी इन सात-आठ वर्षों के के सफर में ऐसे रचनाकारों को सामने लाया है, जिनमें अपार संभावनाएँ भरी हैं। इसके अब तक चौबीस अंक आ चुके हैं.आगामी अंक 'किसान विशेषांक' होगा.अपनी माटी का भविष्य यही संभावनाएँ हैं।


इसकी शुरुआत से लेकर इसे सींचने वाले कई साथी हैं.अपनी माटी संस्थान की पहली कमिटी के सभी कार्यकारिणी सदस्यों सहित साधारण सदस्यों को बधाई.इस मुकाम में सम्पादक रहे भाई अशोक जमनानी सहित डॉ. राजेश चौधरी,डॉ. राजेंद्र सिंघवी का भी बड़ा योगदान रहा है.वर्तमान सम्पादक जितेन्द्र यादव और अब सह सम्पादक सौरभ कुमार,पुखराज जांगिड़,कालूलाल कुलमी और तकनीकी प्रबंधक शेखर कुमावत सहित कई का हाथ है.सभी को बधाई और शुभकामनाएं.अब जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ गयी है.


आदर सहित

माणिक

संस्थापक,अपनी माटी

यहाँ आपका स्वागत है



ई-पत्रिका 'अपनी माटी' का 24वाँ अंक प्रकाशित


ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template