Latest Article :
Home » , , , , » शोध:राम की शक्ति-पूजा, एक दृष्टिकोंण /अंजू कुमारी

शोध:राम की शक्ति-पूजा, एक दृष्टिकोंण /अंजू कुमारी

Written By Manik Chittorgarh on मंगलवार, अप्रैल 15, 2014 | मंगलवार, अप्रैल 15, 2014

      साहित्य और संस्कृति की मासिक ई-पत्रिका            
'अपनी माटी' 
(ISSN 2322-0724 Apni Maati
इस अप्रैल-2014 अंक से दूसरे वर्ष में प्रवेश

शोध:राम की शक्ति-पूजा, एक दृष्टिकोंण /अंजू कुमारी(अलीगढ़)

चित्रांकन:रोहित रूसिया,छिन्दवाड़ा
आधुनिक हिंदी कविता में ‘सूर्यंकांत त्रिपाठी ‘निराला’ अपना एक विशिष्ट स्थान रखते हैं। वे आधुनिक युग के सर्वांधिक मौलिक क्षमता से सम्पन्न कवि हैं, इसका प्रमाण कवि का रचनात्मक वैविध्य स्वयं प्रस्तुत करता है। कोई भी कवि या लेखक अपने समय में व्याप्त मान्यताओं, विचारधाराओं और परिस्थितियों से प्रभावित हुए बिना रचनाकर्म में प्रवृत्त नहीं हो सकता। वह अपने युग में व्याप्त विषमताओं और समानताओं को अपनी रचना में चित्रित करता है। निराला जी अपने काव्य के माध्यम से अपने युग की परिस्थितियों से समाज को अवगत कराने में पूर्ण सफल रहे हैं। वे युग-चेतन कवि है, इसका उदाहरण उनका पूँजीवाद के प्रति विद्रोह ‘कुकुरमुत्ता’ कविता में उग्र स्वर प्रत्यक्ष प्रकट हुआ है।

            ‘राम की शक्ति-पूजा’ निराला जी की कालजयी रचना है। इस कविता का कथानक तो प्राचीन काल से सर्वविख्यात रामकथा के एक अंश से है, किन्तु निराला जी ने इस अंश को नए शिल्प में ढाला है और तात्कालिक नवीन संदर्भों से उसका मूल्यांकन किया है। युग की प्रवृत्ति के अनुसार कवि कथानक की प्रकृति में भी परिवर्तन लाता है। यदि निराला जी ‘राम की शक्ति-पूजा’ कविता के कथानक की प्रकृति को आधुनिक परिवेश और अपने नवीन दृष्टिकोण के अनुसार नहीं बदलते तो यह कविता केवल अनुकरण मात्र और महत्त्वहीन होती। प्रकृति में परिवर्तन कवि विशेष भाव-भूमि पर पहुँचने के लिए करता है और इसके लिए कवि नए शिल्प का गठन करता है। कथानक की प्रकृति के संबंध में बच्चन सिंह के विचार कुछ इसी प्रकार है,-‘‘कथानक की अपनी स्वतंत्र सत्ता तो होती है, किंतु उसकी सुनिर्दिष्ट प्रकृति नहीं मानी जा सकती । रामचरितमानस की स्वतंत्र सत्ता है। लेकिन वाल्मीकीय रामायण में उसकी एक प्रकृति है। रामचरितमानस में दूसरी और साकेत में तीसरी।’’1 इस प्रकार निराला ने कथानक तो रामचरित ही लिया है किन्तु उसको अपने परिवेश की प्रकृति में ढाला है। यह कथानक अपरोक्ष रूप से अपने समय के विश्व युद्ध पर दृष्टिपात कराता है, जहाँ घनघोर निराशा में कवि साधारणजन के  हृदय में आषा की लौ दिखाने की कोशिश की है, जो राम-रावण के युद्ध के वृत्तांत से ही संभव थी।

निराला जी 
निराला ने राम नाम को ही इस कविता में प्रतिपादित क्यो किया ? जबकि यह शब्द तो अपने संबोधन से ही अवतार का संबंध स्पष्ट करता है, क्योंकि मध्यकालीन साहित्यकारों ने इस नाम को अवतार के रुप में मुख्यतः दर्शाया है और वह उसी रुप में बंधा हुआ है। राम-नाम के संबंध में नंददुलारे बाजपेयी का कथन है,-‘‘ उनके सम्मुख कोई बने बनाये आदर्श या नपे-तुले प्रतिमान न थे, इसलिए जो कुछ भी उन्हें उदाहरणों में अच्छा और उपयोगी दिखायी दिया, उसी को वे नये साँचे में ढालने लगे। राम और कृष्ण उनके सर्वाधिक समीपी और परिचित नाम थे, अतएव इन्हीं चरित्रों को उन्होंने  अपने नए सामाजिक आदर्शों की अनुरुपता  देने की ठानी।’’2  लेख स्वतः ही स्पष्ट कर रहा है कि निराला के सम्मुख प्राचीन आदर्श प्रतिमानों को छोड़कर नवीन आदर्श रुप में कोई प्रतिमान नहीं आया था, इसलिए उन्होंने यहाँ राम-नाम को तो उद्धृत किया है, किन्तु नवीन रुप में, क्योंकि ये राम अवतारी राम नहीं बल्कि संशय युक्त मानव, अपने समय का साधारण मानव है जो अपने समय की परिस्थितियों से अवसाद ग्रस्त भी है:-

        ‘‘जब सभा रही निस्तब्धः राम के स्तिमित नयन
          छोड़ते हुए, शीतल प्रकाश खते विमन
          जैसे ओजस्वी  शब्दों का जो था प्रभाव
          उसमें न इन्हें कुछ चाव, न कोई दुराव,
          ज्यों हो वे  शब्द मात्र, - मैत्री की समनुरुक्ति,
          पर जहाँ गहन भाव के ग्रहण की नहीं शक्ति।’’3

निराला की इस कविता का रचना काल सन् 1936 है अर्थात् प्रथम विश्व युद्ध के पश्चात का समय। इस कविता में युद्ध के मध्य उत्पन्न मानसिक प्रक्रिया है, जिसमें राम के चरित्र के रुप में केवल मानवीय रुप उभरकर पग-पग पर सामने आया है, जो प्राचीन रामकथा की रुढ़ियों को तोड़ नवीन दृष्टिकोंण को परिभाषित कर रहा हैः-
      ‘‘ स्थिर राघवेन्द्र को हिला रहा फिर-फिर संषय,
        रह रह उठता जग जीवन में रावण-जय-भय; ’’4
      ‘‘ कल लड़ने को हो रहा विकल वह बार-बार
        असमर्थ मानता मन उद्यत हो हार-हार।’’5
      ‘‘ भावित नयनों से सजल गिरे दो मुक्ता दल,’’6
      ‘‘ बोले रघुमणि-‘‘ मित्रवर , विजय होगी न समर,’’7
      ‘‘अन्याय जिधर, हे उधर शक्ति ! ‘‘कहते छल-छल
       हो गये नयन , कुछ बूँद पुनः ढलके दृगजल,
       रुक गया कण्ठ।’’8

                      स्पष्ट है कि निराला ने अपनी कविता में मनोवैज्ञानिक भूमि का समावेश कर उसे एक नवीन दृष्टिकोंण दिया है। बंगला कृति ‘कृतिवास’ की कथा शुद्ध पौराणिकता से युक्त अर्थ की भूमि पर सपाटता रखती है, लेकिन निराला ने यहाँ अर्थ की कई भूमियों का स्पर्श किया और उसमें युगीन-चेतना, आत्मसंघर्ष का भी बड़ा प्रभावशाली चित्र प्रस्तुत किया है।
                     
नाटकीयता के संदर्भ में यदि देखा जाये तो निराला ने उसका भी प्रभाव उक्त कविता में बिखेरा है, जो पूर्व में किसी अन्य कवि ने अपने काव्य में वर्णित नहीं किया। संपूर्ण हनुमान का परिदृश्य आधुनिक नाटकीय दृष्टिकोंण का नमूना है, जो विकरालता और प्रचण्डता का रुप धारणकर सामने आया है।निराला ने प्रकृति को रीतिकालीन कवियों की भाँति कामनीय रुप में न चित्रित कर उसे शक्तिरूपा दुर्गा के रुप में ढाला है। नवीन प्रयोग के रुप में निराला ने भूधर को पुरुष का प्रतीक न दिखाकर पार्वती के रुप में चित्रित कर नवीन दृष्टिकोंण दिया है:-

     ‘‘सामने स्थिर जो यह भूधर
      शोभित-शर-शत -हरित-गुल्म-तृण से श्यामल सुन्दर
      पार्वती कल्पना है इसकी, मकरन्द-बिन्दु ,
      गरजता चरण-प्रान्त पर सिंह वह नहीं सिन्धु ,
      दशदिक -समस्त है हस्त। ’’9

इस प्रकार हम देखते हैं कि ‘राम की शक्ति-पूजा’ में निराला ने अपनी मौलिक क्षमता का समावेश किया है। इसमें कवि ने पौराणिक प्रसंग के द्वारा धर्म और अधर्म के शाश्वत संघर्ष का चित्रण आधुनिक परिवेश की परिस्थितियों से संबंद्ध होकर किया है। कवि ने मौलिक कल्पना के बल पर प्राचीन सांस्कृतिक आदर्शों का युगानुरुप संशोधन अनिवार्य माना है। यही कारण है कि निराला की यह कविता कालजयी बन गयी है।

संदर्भ सूची 
1- सिंह, बच्चन, क्रान्तिकारी कवि निराला, विश्वविद्यालय प्रकाशन चौक वाराणसी, संस्करण: 1992 ,पृ0 सं0-77.
2- मिश्र, डाँ. शिवकुमार, आधुनिक साहित्य सृजन और समीक्षा, नंददुलारे बाजपेयी,प्रकाशन, एस0 सी0 वसानी, संस्करण 1978, पृ0 सं0 48.
3- शर्मा रामविलास, राग-विराग, लोक भारती प्रकाशन, 15-ए, महात्मा गाँधी मार्ग, इलाहाबाद-1, ग्यारहवाँ संस्करण, 1986, पृ0 सं0 98.
4-वही, पृ0 सं0 94.
5-वही, पृ0 सं0 94.
6-वही, पृ0 सं0 95.
7-वही, पृृ0 सं0 98.
8-वही, पृ0 सं0 98.
9-वही, पृ0 सं0 101 












अंजू कुमारी 
शोधार्थी 
हिन्दी-विभाग, 
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय
अलीगढ़
Print Friendly and PDF
Share this article :

4 टिप्‍पणियां:

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template