आलेख : उत्तर औपनिवेशिक विमर्श और भक्ति कविता : एक पुनर्पाठ / प्रोफेसर प्रभाकर सिंह

उत्तर औपनिवेशिक विमर्श और भक्ति कविता : एक पुनर्पाठ
- प्रोफेसर प्रभाकर सिंह

        उत्तर समय विमर्शऔर विचार की गतिकी का समय है। उत्तर औपनिवेशिक विमर्श के इस दौर में उत्तर संरचनावाद, उत्तर आधुनिकता, सबाल्टर्न विमर्श, नव इतिहासशास्त्र ने साहित्य और इतिहास के पढ़ने और समझने के मायने बदल दिए हैं। धर्म और भक्ति की सेकुलर अवधारणाएं उत्तर समय में शिफ्ट करके बाजार और विज्ञापन के हवाले हो गई  हैं। ' भक्ति धर्म की रसात्मक अनुभूति है' आचार्य रामचंद्र शुक्ल का यह  कथन अब अपनी प्रासंगिकता खोज रहा है। अब भक्ति दिखावे, कट्टरता और संकीर्ण धार्मिकता में बदल गई है। मध्यकालीन इतिहास में हुए भक्ति आंदोलन के समावेशी और लोकजागरण के तेज को उन्मादी भक्ति और संकीर्ण  विचारों के रूपांतरण ने धारण कर लिया है। एक तरफ उत्तर पूंजी और नव साम्राज्य  के इस दौर ने भक्ति और धर्म को बाजार  और पूंजी की वस्तु बनाकर रख दिया है तो विचारों की नई गतिकी ने भक्ति के पुनर्पाठ के रास्ते भी खोले हैं।

            उत्तर औपनिवेशिक विमर्श के इस दौर में उत्तर आधुनिक विचारों में भक्ति और धर्म के पारंपरिक एकरेखीय अध्ययन की जगह उसके बहुलतावादी और बहुसमावेशी पाठ की वकालत है। मसलन अब उत्तर आधुनिकता में मेगा नैरेटिब्स  की  जगह छोटे-छोटे नैरेटिव को महत्व दिया जाने लगा है। भक्ति के मायने और भक्त कविता को देखने की  नव्य इतिहासशास्त्र की नई सैद्धांतिकी ने इतिहास के बंद कोने अंतरों को जिन्हें हाशिया समझकर उपेक्षित किया गया उनके दरवाजे खोल दिए ।उत्तर आधुनिक विमर्श इतिहास या साहित्य के इतिहास को किसी एक परंपरा या सात्यता में देखने का आग्रह नहीं करता।  वह बहुलतावादी दृष्टिकोण के बीच साहित्य और इतिहास की व्याख्या करता है। इतिहास के आलोक में साहित्यिक कृतियों को देखने की जगह अब साहित्यिक कृति को ही इतिहास की कृति मानकर साहित्य के इतिहास पर पुनर्विचार किया जा रहा है। साहित्य के इतिहास पुनर्लेखन की नई इतिहास दृष्टियां बन रही है। हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन में भक्तिकाल सदैव से विचार और विमर्श के केंद्र में रहा है। नव इतिहासशास्त्र और उत्तर औपनिवेशिक विमर्श के आलोक में भक्ति साहित्य के इतिहास लेखन पर पुनर्विचार की आवश्यकता है।

            भारतीय इतिहास में भक्ति आंदोलन और भक्ति साहित्य आज भी हमारे समय और समाज को प्रभावित करने वाला आंदोलन रहा है भक्ति आंदोलन की  अखिल भारतीय बहुल तावादी संस्कृति और लोकजागरण की चेतना ने इस आंदोलन को विरल बनाया। उस दौर के भक्त कवियों का ईश्वर धर्मनिरपेक्ष है। वह बैरागी नहीं दुनिया में रहते हुए लौकिक जीवन को सुखमय बनाने का मार्ग प्रशस्त करता है। संसार की वास्तविकता और मनुष्य की महत्ता को स्वीकार करना जीवन को सुंदर बनाना ,स्थानीय भाषा से प्रेम करना, पोथी में कैद ज्ञान की जगह जीवन में बसे हुए ज्ञान को महत्व देना, छुआछूत से दूर कर्मकांड से रहित एक सुंदर समाज की परिकल्पना भक्ति  कविता की  केंद्रीय चेतना रही।   यों भक्ति आंदोलन एक आध्यात्मिक क्रांति की तरह था जिस का रूपांतरण 19वीं सदी में आधुनिक नवजागरण के रूप में होता है ।भक्ति आंदोलन को रामविलास शर्मा लोक जागरण कहते हैं तो ठीक ही है क्योंकि लोकभाषाओं में लोक जन चेतना के साथ भक्ति  कविता का ऐसा रूपांतरण अखिल विश्व में नहीं दिखाई देता। भक्त कवि मतों , पंथो और जीवन के भीतर रहकर सुधार करना चाहते थे। एक तरह से इनसाइड  क्रिटिक की तरह। अखिल भारतीय स्तर पर कवि नामदेव ,रामानंद, ज्ञानेश्वर ,तुकाराम, शंकरदेव, कबीर, गुरु नानक, सूर ,तुलसी, जायसी और मीरा सभी भक्त कवियों ने  पाखंड और संकीर्णता का विरोध किया। भक्ति आंदोलन के अखिल भारतीय स्वरूप पर के  दामोदरन अपनी पुस्तक 'भारतीय चिंतन परंपरा 'में  सही लिखते हैं कि,"भक्ति आंदोलन ने देश के विभिन्न भागों में भिन्न-भिन्न मात्राओं में तीव्रता और वेग ग्रहण किया। यह आंदोलन विभिन्न रूपों में प्रकट हुआ किंतु कुछ मूलभूत सिद्धांत ऐसे थे जो समग्र रूप से पूरे आंदोलन पर लागू होते थे। पहले धार्मिक विचारों के बावजूद जनता की एकता को स्वीकार करना। दूसरा  ईश्वर के सामने सब की समानता ,तीसरे जाति प्रथा का विरोध, चौथे यह विश्वास की मनुष्य और ईश्वर के बीच तादात्म्य में प्रत्येक मनुष्य के सद्गुणों पर निर्भर करता है की उसकी ऊंची जाति अथवा धन संपत्ति पर पांचवे में इस विचार पर जोर कि भक्ति  ही आराधना का उच्चतम स्वरूप है और अंत में कर्मकांड  और मूर्ति पूजा, तीर्थाटन और अपने को दी जाने वाली यंत्रणाओं की निंदा। भक्ति आंदोलन मनुष्य की सत्ता को सर्वश्रेष्ठ मानता था और सभी वर्गगत एवं जातिगत भेदभाव तथा धर्म के नाम पर किए जाने वाले सामाजिक उत्पीड़न का विरोध करता था... "

            भक्ति आंदोलन की अखिल भारतीय व्याप्ति और भक्ति कविता के अंतः सूत्र को लेकर इतिहासकार और आलोचकों में मत मतांतर है। हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन की परंपरा का सूत्रपात करने वाले औपनिवेशिक इतिहास लेखक गार्सा तासी,जॉर्ज अब्राहम ग्रियर्सन  ने औपनिवेशिक नजरिए से भक्ति आंदोलन और भक्ति साहित्य का पाठ किया। ग्रियर्सन ने तो भक्ति कविता के उदय को ईसाई धर्म से ही जोड़ कर विवेचित किया है। विक्टोरियन नैतिकता और मर्यादा को वह भक्ति कविता विशेष रुप से तुलसीदास की कविता से जोड़ते हैं ।भक्ति का औपनिवेशिक  पाठ प्रस्तुत करते हैं। राष्ट्रवादी अथवा नवजागरण कालीन इतिहासकारों की इतिहास दृष्टि जिसमें मिश्र बंधु ,आचार्य शुक्ल और आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी का नाम लिया जाता है। उन्होंने भक्ति आंदोलन और भक्ति कविता को विभिन्न परिस्थितियों और परंपरा के प्रवाह से जोड़कर विवेचित विश्लेषित  किया। मार्क्सवादी इतिहासकार रामविलास शर्मा, इरफान हबीब, सतीश चंद्र भक्ति आंदोलन के सामाजिक और आर्थिक पहलुओं की गहरी छानबीन करते हुए भक्ति को सामाजिक और आर्थिक  सन्दर्भों में प्रस्तुत करते हैं। इसी प्रक्रिया में उत्तर समय में भक्ति आंदोलन और भक्ति कविता पर पुरानी मान्यताओं को   प्रश्नांकित किया गया और नए समय के साथ भक्ति कविता के पुनर्पाठ  की बात की उत्तर आधुनिक विमर्श और सबाल्टर्न इतिहास दृष्टि एवं  नव्य इतिहासशास्त्र के दृष्टिकोण से भक्ति कविता को देखने और परखने  के लिए इतिहासकारों और चिंतकों ने विमर्श के नए सन्दर्भों  से जोड़कर जो सवाल खड़े किए वह कुछ इस तरह हैं :

भक्ति आंदोलन की अखिल भारतीयता को एक ही तरीके से देखना क्या इसे  सरलीकृत कर देना नहीं है।

            औपनिवेशिक आधारित आधुनिकता या जिसे इकहरी आधुनिकता कहा जाता है उसके दायरे से भक्ति की अखिल भारतीय बहुरंगी आधुनिकता को कैसे परखा जा सकता है?

            भारतीय आधुनिकता ,लोकजागरण और देशज आधुनिकता के आईने में  भक्ति कविता को देखते हुए परवर्ती कविता में उसके विकास को किस तरह से देखा जा सकता है?

            क्या भक्ति साहित्य को आधुनिक सबाल्टर्नवादी मानदंडों से परखना चाहिए क्योंकि पूर्ववर्ती इतिहास लेखन में हाशिये के साहित्य को महत्त्व नहीं दिया गया?

            भक्तिआंदोलन का अखिल भारतीय स्वरूप मसलन दक्षिण भारत, बंगाल ,महाराष्ट्र  में  इस कविता की प्रतिरोधी चेतना को आधुनिक समय में सामाजिक रूपांतरण के रूप में विकसित होते हुए देखा जा सकता है जबकि हिंदी प्रदेश में एक समृद्ध भक्ति परंपरा होते हुए भी जिसमें कबीर ,तुलसी जायसी, सूरदास, मीरा जैसे भक्त कवि उपस्थित रहे पर उनकी  कविताई और चेतना का प्रगतिशील संचरण हिंदी समाज में कमतर क्यों रहा?

            हिन्दी समाज प्राय: भक्त कवियों को मठों, महंतों और परंपरावादी सांस्कृतिक रूपांतरण में ही क्यों देखता परखता रह गया?

            नव्य इतिहासशास्त्र की नजर से जो इतिहास की  सातत्यता पर सवाल उठाए गए हैं उस सिद्धांत  के साथ भक्ति कविता को देखने से कौन से नए मूल्य उपस्थित हो रहे हैं?...

            भक्ति आंदोलन एवं भक्ति कविता पर साहित्य के इतिहास लेखन और आलोचना की परंपरा में कई आलोचकों ने नवाचारी ढंग से विचार किया जिसमें मुक्तिबोध का नाम प्रमुख है 'मध्ययुगीन भक्ति आंदोलन का एक पहलू' जैसा उनका निबंध इस बात की ताकीद करता है जिसमें वह भक्ति आंदोलन की व्याप्ति पर बेहद तार्किक सवाल उठाते हैं। उन्हीं के शब्दों में... "भक्ति आंदोलन जनसाधारण से शुरू हुआ और जिसमें सामाजिक कट्टरपंथ के विरुद्ध जनसाधारण की सांस्कृतिक आशा आकांक्षाएं बोलती थी ,उसका मनुष्य सत्य बोलता था, उसी भक्ति आंदोलन को उच्च वर्गों ने आगे चलकर अपनी तरह बना लिया और उससे समझौता करके फिर उस पर अपना प्रभाव कायम करके और  अनंतर जनता के अपने तत्वों को उनमें से निकालकर उन्होंने उस पर अपना पूरा प्रभुत्व स्थापित कर लिया... "

            भक्ति आंदोलन और भक्ति कविता के संदर्भ में मुक्तिबोध द्वारा उठाए गए इन सवालों पर हिंदी आलोचना पर बहस  कम ही हुई क्योंकि हिंदी का मानस संत कविता या भक्ति आंदोलन की क्रांतिकारी कविता से अधिक अपने को सगुण भक्ति कविता से जोड़ता रहा है जबकि संत कविता की एक व्यापक और क्रांतिकारी परंपरा आधुनिक काल तक मौजूद रही। इसे जानबूझकर हाशिये पर रखा गया। अब जबकि हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन में नई इतिहास दृष्टियों के उभार के साथ उनको प्रस्तावित किया जा रहा है और इतिहास लेखन की नई सबाल्टर्न दृष्टियों की बात की जा रही है तब मुक्तिबोध के यह सवाल हमारे लिए पुनः प्रासंगिक से लगते हैं। मसलन दलित चिंतक धर्मवीर, कंवल भारती ने कबीर और संत कविता का जो पुनर्पाठ  तैयार किया उसमें वह उस आलोचना को खारिज करते हैं जो संत कवियों विशेष रूप से कबीर की कविता की क्रांतिकारी और  तेजस्वी स्वरूप को  बेबाकी से प्रस्तुत नहीं करती...

            इस बीच भक्ति कविता पर पश्चिमी आलोचना और पश्चिम के भक्ति काव्य के प्रेमी आलोचकों ने  भी नए सिरे से विचार  किया  है। डेविड एंड लारेंज, जान स्टेटन होली जैसे महत्वपूर्ण चिंतकों और विचारको ने भक्ति साहित्य की कविता, मध्यकालीन संतों के स्वर उनकी सामाजिक, आर्थिक स्थिति का भक्ति से संबंध, कला, साहित्य और संगीत से भक्त कवियों की कविताओं के अंतर्संबंध जैसे विषयों को लेकर नई व्याख्या प्रस्तुत की। भक्ति कविता को देखने का एक पहलू भक्ति काल और भक्ति आंदोलन में विकसित जनक्षेत्र जो भक्ति का जनक्षेत्र है जिसे है  'पब्लिक स्फीयर' के रूप में देखते हैं वह हेबरमास के 'पब्लिक स्फेयर' की अवधारणा जो यूरोप में 18वीं सदी के बाद विकसित बुर्जुआ समाज के साथ जुड़ी है उससे अलग है। भक्ति आंदोलन में जो जन क्षेत्र विकसित हुआ वह हाशिए के समाज जिसमें शिल्पकार ,दस्तकार ,श्रमजीवी समाज की आर्थिक स्वायत्तता के साथ एक नए जनक्षेत्र के उभार की