शोध आलेख : हिंदी सिनेमा में पर्यावरण चेतना : दशा एवं दिशा / डॉ. बीनू कुमावत

हिंदी सिनेमा में पर्यावरण चेतना : दशा एवं दिशा 
डॉ. बीनू कुमावत

शोध सार : दुनिया में उपभोक्तावादी जीवन शैली के कारण लगातार पर्यावरण को बहुत हानि पहुंच रही है। इसके चलते हमें नित नई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों को जागरूक बनाने के लिए भारतीय सिनेमा ने भी कुछ फिल्में बनाई हैं, जो संदेश देती हैं कि हमें पर्यावरण के संरक्षण के लिए चल रहे सरकारी और गैर सरकारी अभियानों में बढ़ -चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए। ये फिल्में बताती हैं कि अगर हम अभी जागरूक नहीं हुए तो भविष्य में हमें किन-किन प्राकृतिक मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है। बड़े पर्दे यानी सिनेमा में सामाजिक चेतना भले ही पूरी शिद्दत से अपनी मौजूदगी दर्ज कराती रही है, लेकिन पर्यावरण के विषय उतने मुखर नहीं रहे हैं। हालांकि पर्यावरण के विषय बीच में जुगनुओं की भांति टिमटिमाए जरूर हैं। मौजूदा दौर का सिनेमा मात्र बड़े पर्दे तक सीमित नहीं रहा है और निर्माता निर्देशकों को ओटीटी जैसे मंच मिले हैं। वे अपने पसंदीदा विषयों को पर्दे पर उतारने में अधिक तत्पर भी दिखे हैं लेकिन अब तक मुख्यधारा के सिनेमा में जगह नहीं बन पानेवाला पर्यावरण का विषय इस दौर की फिल्मों की मुख्य विषयवस्तु से भी किंचित् दूर ही रखा गया है पर्यावरण पर केंद्रित सिनेमा भले ही दर्शकों के व्यापक वर्ग को लक्षित नहीं कर सकता हो लेकिन संजीदा दशकों तक पहुंचने में जरुर सफल हो सकता है।

पर्यावरण के विषय अब हमको गहराई से प्रभावित करने लगे हैं और मौजूदा दौर के सिनेमा द्वारा उसे नजरअंदाज करने की प्रवृत्ति हमारी सामूहिक विफलता बन सकती है सहायक विषय के रूप में पर्यावरण चेतना शुरुआत से ही सिनेमा में मौजूद रही है परंतु इसे अब मुख्यधारा  में लाने की आवश्यकता है। प्रस्तुत शोध पत्र में समाज में पर्यावरण चेतना के लिए सिनेमा की भूमिका को दर्शाते हुए भारतीय हिंदी सिनेमा में पर्यावरण चेतना एवं संवेदना का विश्लेषण किया गया है। साथ ही इसकी दशा एवं दिशा को समझने का प्रयास किया गया है।

बीज शब्द : पर्यावरण, पारिस्थितिकी, चेतना, सिनेमा, जल संकट, हरित सिनेमा, प्रदूषण, भ्रष्टाचार, फिल्म, न्याय संगत।

मूल आलेख : सिनेमा हमारी संस्कृति को अभिव्यक्त करने का सुंदर एवं मानक अभ्यास रहा है यह व्यापक दर्शकों तक संदेश पहुंचाने, परंपराओं और मूल्यों को सहेजने, सांस्कृतिक परंपराओं और विश्वासों को प्रकट करने एवं मानव समाज के सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक, नैतिक रीति-रिवाजों को उनके विविध स्वरूपों में अभिव्यक्त करने और सहेजने का शक्तिशाली माध्यम बन गया है।[1] इस तथ्य से कोई इनकार नहीं कर सकता कि समकालीन समाज की बदलती वास्तविकताओं को जानने के लिए सिनेमा सबसे उपयुक्त माध्यमों में से एक है। एक फिल्म निर्माता जिस तरह से समय, स्थान और घटनाओं के विभिन्न आयामों को एक फिल्म के रूप में रिकॉर्ड और प्रबंधित करते हैं, वह दर्शकों को एक बहुसंवेदी दुनिया की झलक पाने में सक्षम बनाता है, जो मौखिक और लिखित कथाओं की सीमा से परे है। कैमरे का लेंस निर्देशक को एक अद्वितीय दृष्टि प्रदान करता है, जो उसे हमारे भौतिक वातावरण में मौजूद विविध तत्वों का पता लगाने में सक्षम बनाता है। साथ ही यह दर्शकों को वृत्तचित्र, काल्पनिक कथाओं या फंतासी फिल्मों के रूप में दुनिया भर में काल्पनिक संसार के रूप में अलग-अलग दुनिया की झलक दिखाने के एक सशक्त माध्यम के रूप में उभरता है।

हाल के वर्षों में सिनेमा को समाज की विभिन्न विसंगतियों, बुराइयों और असमानता अन्य सामाजिक सरोकारों और विचारों के प्रति दर्शकों की संवेदना बनाने के सबसे आकर्षक और भावनात्मक तरीकों में से एक के रूप में पहचाना जाने लगा है। सांप्रदायिक तनाव, राजनीतिक टकराव, राष्ट्र और राष्ट्रवाद के सवाल सहित हर मुद्दे को रुपहले पर्दे के माध्यम से संबोधित किया जाता है, लेकिन जहां तक पर्यावरण संकट की बात है और इसके प्रति लोकप्रिय दृश्य मीडिया का संबंध है, वहां अभी तक एक गहरे इनकार का भाव है। सिनेमा का यह भाव पर्यावरण के प्रति हमारी प्रतिक्रिया को भी शिथिल कर देता है। आज भी सामान्यतया पर्यावरण संरक्षणवाद को सिनेमाई दुनिया में एक प्रतिबंधित और अरुचिकर विषय माना जाता है। हालांकि इसमें निर्विवाद रूप से दर्शकों को खींचने, उनकी प्रवृत्ति को बदलने और मानव अस्तित्व की गतिशीलता को पहचानने की पर्याप्त क्षमता है।

समान्यतया भारत में साहित्य, कला और लोकप्रिय दृश्य-श्रव्य माध्यम सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के विभिन्न रूपों के माध्यम से आज के भयावह पर्यावरण संकट का प्रतिनिधित्व करने में ईमानदारी से कोई रुचि नहीं रखता है। हिंदी भाषा का फिल्म उद्योग जिसे कभी-कभी पूरे भारतीय सिनेमा के लिए पर्यायवाची के रूप में संदर्भित किया जाता है, इस विश्वव्यापी संकट और विनाश का दृश्य रूप से प्रतिनिधित्व करने में कोई वास्तविक रुचि नहीं दिखाता है जो मानव जाति की प्रतीक्षा कर रहा है। अधिकांश पारंपरिक भारतीय फिल्मों में बड़े पैमाने पर सामाजिक सरोकारों को विभिन्न दृष्टिकोण से समायोजित किया गया है। बॉलीवुड में कई गंभीर मुद्दों पर फिल्में बनी हैं। भ्रष्टाचार से लेकर बंटवारे तक, विकलांगता से लेकर एलजीबीटीक्यू तक, आतंकवाद से लेकर राजनीति तक, खेल से लेकर अदालत तक, कई विषयों को इसमें स्थान मिला है। लेकिन बॉलीवुड फिल्म उद्योग को इस महत्वपूर्ण विषयपर्यावरण संकट' के बारे में लगभग चुप रखा गया है जो आज मानव सभ्यता के जीवन-मरण का प्रश्न बना हुआ है। पारिस्थितिकी असंतुलन के प्रति समकालीन दिग्गज और मुख्यधारा के फिल्म निर्माताओं की अरुचि, जड़ता और चुप्पी स्पष्ट रूप से इंगित करती है कि यह मात्र प्रकृति का संकट ही नहीं है बल्कि हमारी सोच,संस्कृति और वैचारिक स्थिति का भी संकट है। हालांकि 1980 के दशक के उत्तरार्ध में से कुछ प्रकृति संबंधित चैनलोंयाइको मीडिया जैसे नेशनल ज्योग्राफिक, डिस्कवरी, एनिमल प्लेनेट आदि की स्थापना के साथ ग्रीन मूवीज का निर्माण बहुत प्रचलन में है।[2]

सैद्धांतिक रूप से हरित फिल्में जिनकोइको सिनेमा के रूप में भी जाना जाता है, रचनात्मक प्रस्तुतियों की विविधता का प्रतिनिधित्व करती है जो मानव और प्राकृतिक दुनिया के बीच के संबंधित मुद्दों को संबोधित करती है[3] हरित सिनेमा को प्राकृतिक दुर्दशा और पारिस्थितिक भेदभाव से संबंधित मुद्दों से निपटने के लिए एक सामाजिक संदर्भ  में एक कर्तव्यनिष्ठ उपकरण के रूप में माना जा सकता हैये फिल्में केवल मनुष्य और प्राकृतिक पर्यावरण के बीच सहजीवी संबंधों की खोज पर ध्यान केंद्रित करती हैं, बल्कि वैश्विक जलवायु परिवर्तन, रासायनिक विषाक्तता और खाद्य-उत्पादन, जैविक और अकार्बनिक प्रदूषकों, भूजल संरक्षण से संबंधित अन्य पारिस्थितिक खतरों और वास्तविकता को उजागर करती है जो लगभग हर व्यक्ति के जीवन को तीव्र रूप से प्रभावित करती हैं।[4] हरित सिनेमा का बढ़ता दायरा बहुत से अंतरराष्ट्रीय फिल्म निर्माताओं की रचनात्मक प्रस्तुतियों के माध्यम से पारिस्थितिकी मुद्दों को संबोधित कर चुनौती देता है। विश्व पर्यावरण दिवस मनाना, हर साल जलवायु शिखर सम्मेलन आयोजित करना या पर्यावरण असंतुलन के खिलाफ अभियान आयोजित करना पारिस्थितिकी को पर्याप्त संरक्षण प्रदान करने के उद्देश्य को पूरा नहीं करते हैं। जबकि सिनेमाई मंच के माध्यम से एक दीर्घकालिक प्रभाव पैदा किया जा सकता है। दर्शकों के दिमाग में फिल्म निर्माता बदलाव की प्रक्रिया में काफी महत्वपूर्ण योगदान देने की अपार क्षमता रखते हैं। टेलीविजन शो जैसे वास्टेड, एनवायरमेंटलिस्ट, फ्रोजन प्लेनेट आदि पर्यावरण को प्रोत्साहित करते हैं। प्लेनेट ग्रीन जैसा टेलीविजन शो, हरित मुद्दों पर हर समय कार्यक्रम दिखाता है और चेंजिंग आइसइलेवन्थ आवर जैसी कई फिल्मों के साथ-साथ कुछ काल्पनिक फिल्में जैसे अवतार, डे आफ्टर टुमारो ने पारिस्थितिक संदेशों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रस्तुत की है।

जहां तक हरित सिनेमा का सवाल है भारतीय संदर्भ में इसकी लोकप्रियता और व्यापकता अभी भी उतनी गहरी नहीं है। भारत वनों की कटाई, जलवायु परिवर्तन, वायु प्रदूषण, प्राकृतिक आपदाएं, घटते संसाधन, वन्यजीवों की विलुप्ति और प्राकृतिक आवासों के विनाश के रूप में कई पारिस्थितिक संकटों का सामना कर रहा है। ये पारिस्थितिक संकट देश में जीवन और आजीविका को प्रभावित करनेवाली विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं के पीछे एक महत्वपूर्ण कारण है। भारत में पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने की दिशा में वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972, जल संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण अधिनियम 1974, वन संरक्षण अधिनियम 1980, वायु प्रदूषण नियंत्रण अधिनियम 1981 और सबसे महत्वपूर्ण पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 जैसे बहुत से कानून और नीतियां बनाई गई हैं।[5] भोपाल एक्सप्रेस, एचटूओ जैसे त्तचित्र, पर्यावरण रियलिटी शो लक्ष्य : एक जीवित ग्रह जैसे प्रयास और पर्यावरण पर कुछ काल्पनिक फिल्में जैसे ऐसा ये जहां, चार : दिनो मैं आइलैंड, दीपा, दि ट्रुथ अबाउटटाइगर्स आदि पर्यावरण जागरूकता को बढ़ावा देती हैं। परंतु पर्यावरण विचारों का प्रसार करने में अभी तक सिनेमा के प्रयासों में भारी कमी रही है। कुछ प्रयास हुए भी हैं तो व्यावसायिक स्तर पर उन्हें नुकसान उठाना पड़ा है। कई काल्पनिक फिल्मों के अलावा यदि हम मुख्य रूप से मुख्य धारा की दो हिंदी फिल्मों नील माधव पांडा की कौन कितने पानी में (2015) और अपर्णा सिंह की इरादा (2017) पर ध्यान केंद्रित करें तो हम पाते हैं कि इन्होंने केवल जल प्रदूषण और जल की कमी, इससे जुड़े इतिहास, राजनीति और संस्कृति के विभिन्न रूपों में मानव जनित पारिस्थितिकी परिवर्तन की व्यापक पड़ताल करने की कोशिश की, बल्कि दो अलग-अलग दृष्टिकोणों से ये फिल्में भारत के प्रकृति के साथ सौहार्दपूर्वक रहने के प्राचीन आदर्श को दर्शाती हैं, जो वैदिक युग से चला रहा है।

21वीं सदी में पानी की कमी निस्संदेह एक वैश्विक चुनौती के साथ-साथ एक गंभीर सामाजिक और राजनीतिक मुद्दा बन गई है। प्रख्यात ब्रिटिश कवि डब्ल्यू. एच. ओडेन ने अपनी 1957 की कविता फर्स्ट थिंग्स फर्स्ट में इस समस्या के बारे में सबसे प्रासंगिक टिप्पणी की है -हजारों लोग प्यार के बिना रह सकते हैं, पानी के बिना नहीं।[6] पानी की बढ़ती आवश्यकता और सुलभ संसाधनों की कमी के साथ पेयजल की कमी खतरनाक स्थिति में पहुंच रही है। क्योंकि पानी के स्रोतों का विभिन्न महाद्वीपों में समान वितरण नहीं है। इसलिए ऐसे कुछ देश हैं, जिन्हें अधिशेष पानी का विशेषाधिकार प्राप्त है जबकि इसके विपरीत कई अन्य देश गंभीर जल संकट का सामना कर रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र विश्वविद्यालय द्वाराग्लोबल वाटर क्राइसिस, 2017’ शीर्षक रिपोर्ट में बताया है कियह धारणा कि पानी प्रचुर मात्रा में है और यह पृथ्वी के 70% हिस्से को कवर करता है, गलत है। क्योंकि सारे पानी का केवल 2.5% ही ताजा पानी है। इस सीमित संसाधन के चलते 2050 तक दुनिया की 40% से अधिक आबादी गंभीर जलसंकट का सामना करेगी।[7]

भारत को तकनीकी रूप से पानी की कमी वाले देश के रूप में वर्गीकृत नहीं किया जा सकता है, परंतु पानी के दुरुपयोग, निरंतर उपेक्षा एवं जल संसाधन विकास परियोजनाओं के पर्याप्त पर्यवेक्षण की कमी के कारण ताजा पेयजल एक दुर्लभ वस्तु बन रहा है। एक विकासशील राष्ट्र होने के नाते तेजी से बढ़ती जनसंख्या और अनुशासनहीन जीवन शैली के कारण भारत जल संकट के प्रति अधिक संवेदनशील है। इसलिए सतत विकास सुनिश्चित करने के लिए मौजूदा संसाधनों से पानी का उपयोग निःसंदेह एक ऐसा प्रश्न है जो सभी हितधारकों द्वारा तत्काल विचार करने योग्य है। ऐसे परिदृश्य में इस गंभीर मुद्दे के बारे में जनता को प्रेरित करने का सबसे अच्छा तरीका सिनेमाई पर्दे का व्यापक उपयोग करना है।

पानी की कमी से संबंधित फिल्मों के साथ हॉलीवुड सिल्वर स्क्रीन एक क्रांति से गुजरी है। परंतु यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत में बहुत कम ऐसी फिल्में बनी हैं जो जल संकट से संबंधित मुद्दों को सीधे तौर पर संबोधित करती हैं। प्रसिद्ध फिल्म निर्माता आशुतोष गोवारीकर की 2001 की भारतीय सिनेमा समीक्षकों द्वारा प्रशंसित ऐतिहासिक  फिल्मलगान' चंपारण नामक एक गांव में पानी की गंभीर कमी की पृष्ठभूमि में बनाई गई थी। संकट ने अंततः गरीब भारतीय ग्रामीणों और अंग्रेजों के बीच एक क्रिकेट मैच का नेतृत्व किया, जिससे पूरी फिल्म में देशभक्ति का जोश भर गया। पानी का संकट उपनिवेशित  ग्रामीणों में देशभक्ति, स्वतंत्रता और राष्ट्रवाद की भावना जगाने के लिए बस एक रूपक बन गया। उसके कुछ समय पश्चात वर्ष 2004 में उसी निर्देशक की और कृतिस्वदेश' आई जो एक गैर आवासीय भारतीय के जीवन और उसकी जड़ों को खोजने के उसके संघर्ष पर केंद्रित है। हालांकि एक छोटे से भारतीय गांव में पानी और बिजली का संकट फिल्म में एक प्रमुख पृष्ठभूमि बना रहा। परन्तु यह घर के लिए नायक की उदासीनता और एनआरआई के रूप में उसकी पहचान के संकट से प्रभावित थी। मुख्यधारा की इन दो फिल्मों से पहले भी वृत्तचित्र निर्माता देव बेनेगल कीस्प्लिटवाइड ओपनथी, जिसमें मुंबई की मलिन बस्तियों में पानी के संघर्ष से निपटने का प्रयास किया गया था। यह जल माफिया को चित्रित करता है, जो गरीब इलाकों से अमीरों को पानी बेचता है। फिल्म में पानी के मूल्य निर्धारण की राजनीति को दर्शाया गया है, जो वंचितों के लिए पानी तक पहुंच को प्रतिबंधित करता है।

इसके बाद 2010 मेंवेल डन अब्बा' आई, जिसका निर्देशन श्याम बेनेगल ने किया था। यह फिल्म हैदराबाद के पास स्थित एक गांव पर केंद्रित थी। यह एक सामान्य नागरिक की कहानी बताती है, जो एक कुआँ बनाने के लिए एक परियोजना शुरू करता है जिसके लिए वह अपनी कृषि भूमि के छोटे से भूखंड का उपयोग करता है, ताकि वह अपने गांव में पानी की कमी को दूर कर सके। फिल्म पूरे देश में पानी की पहुंच में बढ़ती कमी की पृष्ठभूमि के साथ सामाजिक-राजनीतिक व्यवस्था पर एक व्यंग्यात्मक रुख अपनाती है। निर्देशक गिरीश मलिक कीजल(2014), फिल्म पानी की कमी को दर्शाती हुई अंतर्निहित विषय के रूप में भारतीय हरित सिनेमा की शैली में एक और उल्लेखनीय योगदान है। मानव मन के नकारात्मक पहलुओं को सामने लाती यह फिल्म हमारे दैनिक जीवन में पानी के मूल्य पर प्रकाश डालती है और पानी को जीवित रहने के एक संसाधन के रूप में स्थापित करती है। हालांकि इन फिल्मों में पानी की कमी, सूखे और इसी तरह की पारिस्थितिक चिंता के मुद्दों को उठाया गया है, लेकिन उन्हें अक्सर नकारात्मक रूप से राजनीतिक मुद्दों के रूप में देखा जाता है। इन हरित फिल्मों में पर्यावरणवाद का विचार या तो नेपथ्य में डाल दिया गया है या व्यवसायिक रूप से अधिक व्यावहारिक कथा को प्रस्तुत करने के लिए एक सहायक विषय  या सहारे के रूप में लिया गया है, जो एक विशाल बॉक्स ऑफिस संग्रह सुरक्षित कर सके।

पद्मश्री पुरस्कार विजेता निर्देशक नील माधव पांडा की फिल्मकौन कितने पानी में' को पर्यावरण के प्रति जागरूक भारतीय सिने-प्रेमियों के लिए एक ताजी हवा के रूप में देखा गया है। क्योंकि यह फिल्म पानी के मूल्य निर्धारण की राजनीति और हमारे समाज को प्रभावित करने वाले कुछ अन्य महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दों पर व्यंग्य है। उड़ीसा राज्य के एक छोटे से गांव पर आधारित यह फिल्म सीधे तौर पर पानी की कमी के मुद्दे पर जागरूकता पैदा करने के महत्व पर जोर देती है। यह फिल्म एक अंतरराष्ट्रीय गैर लाभकारी संगठनवन ड्रॉप फाउंडेशन' द्वारा निर्मित है जो दुनिया भर में शुद्ध पेयजल की पहुंच प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। यह फिल्म एक ऐसे गांव की कहानी है, जो ऊपरी हिस्से और निचले हिस्से में विभक्त है, जो पानी की आपूर्ति को लेकर लगातार लड़ते रहते हैं। धनी और निर्दय लोग, जो विशेषाधिकार प्राप्त जातियों के ऊपरी गांव के शासक है, गंभीर जल संकट से जूझ रहे हैं। दूसरी ओर निचली जातियों के गांव बेरी को हम देखते हैं, जो सिंचाई की तकनीक और जल संरक्षण के तरीकों में दक्ष हैं। जाति और प्राकृतिक संसाधनों तक पहुंच के बीच के जटिल संबंध को एक निचली जाति के सेवादार डोरा ने समझा दिया हैप्यासे की कोई जात थोड़ी ना होती है, प्यास तो प्यासा होता है।[8] फिल्म में कई सामाजिक वर्जनाएं एक के बाद एक आती हैं, परंतु जो विषय निरंतर बना रहता है, वह है - समाज के एक वर्ग द्वारा सामना किए जाने वाला पानी का संकट। फिल्म दिखाती है कि जल संकट हमारे दृष्टिकोण का विषय है। इसका धन या शक्ति से कोई लेना देना नहीं है। हम अपने अयोग्य प्रबंधन से जल संकट को उत्पन्न करते हैं। दूसरी ओर निचली बस्ती बेरी अल्डो लियोपोल्ड की भूमि नैतिकता की अवधारणा को विस्तारित करती है एवं एक जैविक समुदाय का निर्माण करती है, जहां धरती पर रहने वाले सभी जीव परस्पर अन्योन्याश्रित हैं। इस फिल्म में एक भूमि नैतिकता की प्रतिध्वनि है जहां वंचित आबादी दिखाती है कि भूमि नैतिकता को कैसे बनाए रखा जाए। जबकि भूमि के मालिक इसमें विफल रहते हैं और भयावह जल संकट से जूझते हैं। यहां तक की मुद्रा के रूप में पानी के पैकेट का इस्तेमाल करते हैं। शुभ्रा गुप्ता की समीक्षा इस वस्तु विनिमय  की मौलिक प्रकृति को इस प्रकार अभिव्यक्त करती हैंफिल्म में व्यापार-वस्तु के रूप में पानी का उपयोग करना एक शक्तिशाली अवधारणा है। विशेष रूप से यह देखते हुए कि भारत के इतने सारे हिस्सों में बहुत अधिक सुखा और बहुत कम सुलभ स्वच्छ पेयजल है।[9] फिल्म के ऊपरी गांव और निचले गांव की स्थिति की व्याख्या वर्तमान वैश्विक परिदृश्य के साथ-साथ भविष्य के प्रतिबिंब के रूप में की जा सकती है। निचला गांव हमारे उस रूप को दर्शाता है, जहां आम नागरिकों की अपने संसाधन प्रबंधन के कारण अभी भी मीठे पानी तक पहुंच है, जबकि ऊपरी गांव को हमारे भविष्य के प्रबंध के रूप में देखा जा सकता है जहां आर्थिक प्रगति के बावजूद एक मूल्यवान संसाधन के अंधाधुंध दुरुपयोग एवं कुप्रबंधन के कारण जीवन एक ठहराव पर आने वाला है। यह फिल्म हिंदी सिनेमा के लिए अभूतपूर्व है क्योंकियह वहां तक जाती है जहां तक शायद ही हिंदी सिनेमा जाता है।[10] पानी की कमी दुनिया भर में एक बढ़ती हुई महामारी की तरह है। हमें इस विषय पर कई और फिल्मों की जरूरत है। इसी तरह की पर्यावरण संवेदनशीलता हमें फिल्मकड़वी हवा' में देखने को मिलती है, जो मध्य भारत और राजस्थान के सूखा प्रभावित क्षेत्रों में किसानों की आत्महत्या की भयावह कहानी है।  यह इस विषय के इर्द-गिर घूमती है कि यदि पानी के संरक्षण पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया गया तो आने वाली पीढियों का क्या होगा। इसलिए निर्विवाद रूप से यह स्पष्ट है कि इसमें निर्देशक की अंतर्दृष्टि में एक मजबूत पर्यावरणीय समझ निहित है।

केवल पानी की कमी ही नहीं बल्कि भूजल प्रदूषण भी एक अन्य छिपी हुई वैश्विक चुनौती है। सतही जल प्रदूषण दृश्य प्रदूषण है, जबकि भूजल प्रदूषण एक छिपी हुई खतरनाक स्थिति है। मानव निर्मित उत्पादों एवं अपशिष्टों ने भूजल को खतरनाक स्तर पर पहुंचा दिया है, जिसके कई गंभीर खतरे हमारे सामने रहे हैं। भारत में भी यह संकट गंभीर रूप से अपनी उपस्थिति दर्ज कर रहा है। ड्यूक यूनिवर्सिटी यूएसए और भारत के केंद्रीय भूजल बोर्ड द्वारा किए गए अध्ययन में देश के 16 राज्यों में भूजल में व्यापक रासायनिक विषाक्त पाई गई है। इन राज्यों में पंजाब को भारत में सबसे अधिक भूजल दोहन करने वाला पाया गया है। यहां 1960 में शुरू हुई हरित क्रांति के कारण अत्यधिक कृषि सफलता मिली, लेकिन बाद में यह तीव्र रासायनिक प्रदूषण के कारण भारत का कैंसर बेल्ट बन गया है। पंजाब में भूजल प्रदूषण के पीछे संभावित कारण विद्युत ताप संयंत्र में जलाए गए कोयले से निकलने वाली फ्लाईएश है, जिसमें यूरेनियम का उच्च स्तर होता है।[11] इस प्रकार रासायनिक विषाक्तता भारत में एक राष्ट्रव्यापी खतरा बन गया है, जो पर्यावरण आतंकवाद का एक नया चेहरा बन चुका है।

इस दिशा में निर्देशक अपर्णा सिंह कीइरादाफिल्म सिनेमा की पर्यावरण संवेदनशील शैली में एक महत्वपूर्ण योगदान है। क्योंकि यह राष्ट्रीय स्तर पर पर्यावरण आतंकवाद के इस वैश्विक संकट पर ध्यान केंद्रित करती है। यह पंजाब के भटिंडा शहर की त्रासद कहानी है, जो जान-बूझकर किए गए पारिस्थितिकी विनाश को दर्शाती है। दूषित भोजन से नागरिकों के खून में यूरेनियम, सेलेनियम, क्रोमियम और कैडमियम भर जाता है, क्योंकि वे अनजाने में इनका सेवन करते हैं। यह फिल्म पारिस्थितिक आपदा की कहानी बुनने के लिए चतुराई से तथ्यों को कल्पना के साथ मिलाती है।

इरादाउद्योगपतियों और राजनीतिक दलों के गठजोड़ द्वारा आम लोगों पर किए गए अन्याय पर चर्चा करती है तथा अपने दर्शकों को पर्यावरण नस्लवाद की एक झलक देती है। यह संस्थागत नस्लवाद का एक रूप है, जिसमें शक्तिशाली समूहों द्वारा गलत नीतियों और प्रभावों से अधीनस्थ समूहों के पारिस्थितिकी तंत्र और संसाधनों को नष्ट किया जाता है। यह पूंजीवादी व्यवस्था द्वारा आर्थिक रूप से पिछड़े समूहों का शोषण है। समाज के हाशिए पर स्थित लोग अपने सीमित राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक साधनों के कारण बहुराष्ट्रीय कॉरपोरेट संरचनाओं का विरोध करने की स्थिति में नहीं है और यही कारण है कि वे हमेशा खतरे में रहते हैं।

यह फिल्म कैंसर ट्रेन की क्रूर वास्तविकता को भी दिखाती है जो भटिंडा और बीकानेर के बीच चलती है। इसकी अधिकांश सवारियां कैंसर रोगी होती हैं, जो इलाज के लिए यात्रा करती है। फिल्म में दिखाए गए तथ्यों के अनुसार पिछले दो दशकों से दुनिया भर में आतंकवाद से ज्यादा मौत रासायनिक प्रदूषण से हुई है। ऐसे मेंइरादाजैसी फिल्म निस्सन्देह भूजल-प्रदूषण और मनुष्य प्रकृति पर इसके गंभीर प्रभाव के बारे में जागरूकता पैदा करने में बहुत योगदान देती है। फिल्म इरादा का शीर्षक उस संकल्प का सूचक है जो नायक भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए लेता है। इस फिल्म की निर्देशक अपर्णा सिंह जो स्वर अपनाती हैं, वह गंभीर है, जो ऐसे शहरी विकास पर प्रश्न करता है, जो सतत विकास के अनुरूप नहीं है और जो लोगों के जीवन को खतरे में डालता है।इरादा का केंद्र सही जगह पर है - पारिस्थितिकी और मानवीय खतरों के विषय में निपटना, जो बड़े निर्गमों की ओर इशारा करता है, जो कि रासायनिक कचरे का गैर-जिम्मेदाराना निपटान करते हैं।[12]

   इसी तरह 2021 में अमित वी. मसूलकर द्वारा निर्देशित इको-थ्रिलर फिल्मशेरनीवन्य जीव संरक्षण, राजनीतिक स्वार्थपरता, स्थानीय मुद्दे, मानव-वन्यजीव-संघर्ष पर दोहरी मानसिकता व्यंग्य करते हुए गंभीर सवालों को उठाती है। स्थानीय लोगों का ब्रेनवाश करके सत्ता में अपना रास्ता बनाने की कोशिश, चुनाव प्रचार, लोगों को उकसावा, जिम्मेदार लोगों के दोहरे चरित्र को यह बखूबी दिखाती है। इस दोहरे चरित्र और स्वार्थपरता को फिल्म का यह गीत बखूबी अभिव्यक्त करता है बंदरबांट का खेला, खेले में है जो मेले बड़े..[13] फिल्म नकेवल वन्य-जीव- संरक्षण की ईमानदार कोशिश की वकालत करती है, बल्कि संपूर्ण पारिस्थितिकी तंत्र को मानव जीवन के लिए अपरिहार्य बताती है। फिल्म में जब एक किशोर लड़का कहता है किअगर बाघ है तो जंगल है, अगर जंगल है तो बारिश है, अगर बारिश है तो पानी है और पानी है तो हमारा जीवन है,[14]तब यह फिल्म गहरे पर्यावरणीय सरोकारों को अभिव्यक्त करती है। परन्तु विडम्बना है कि आमजन के मुद्दों से गहराई से जुड़ी होने पर भी यह फिल्म व्यापक दर्शक वर्ग तक नहीं पहुंच पाई।

यह एक विडंबना ही है कि भारत में पारिस्थितिक झुकाव वाली फिल्में मुखर नहीं हैं। यह तो और भी दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस तरह के प्रयासों की सराहना करने के लिए भारतीय दर्शकों की रुचि भी विकसित नहीं हुई है। भारतीय सिनेप्रेमियों ने पश्चिमी इको सिनेमा और पर्यावरणीय टेलीविजन चैनलों को काफी आराम से स्वीकार कर लिया है, लेकिन भारतीय फिल्मों के प्रति उनका दृष्टिकोण संदेह पूर्ण है। ऐसा इसलिए है कि मुख्य धारा के हिंदी सिनेमा ने पर्यावरण के विषय पर आवश्यक प्रयास नहीं किया है। इस संदर्भ में आठवें सीएमएस एनवायरनमेंट एंड वाइल्ड लाइफ फिल्म फेस्टिवल में प्रमुख जूरी के रूप में दिग्गजत अभिनेता, निर्देशक अमोल पालेकर का नजरिया बहुत महत्वपूर्ण है-“आपको वन्य जीव संरक्षण, टिकाऊ तकनीक के बारे में पता चलता है... मैं वास्तव में कुछ करना चाहता हूं। बॉलीवुड का कोई वर्ग जागता है और इस विषय पर कुछ भी करने का मन बनाता है तो उसे बॉलीवुड अछूत मानता है। बॉलीवुड को पर्यावरण के मुद्दों पर फिल्में बनानी चाहिए।[15] इस संदर्भ में इरादा और कौन कितने पानी में दोनों फिल्मों को जनता को शिक्षित करने के छोटे परंतु प्रभावशील प्रयासों के रूप में समझा जा सकता है, जो हरित पुनर्जागरण को जन्म देकर हिंदी सिनेमा में क्रांति ला देते हैं। ये फिल्में पर्यावरण योद्धा के रूप में हमारे सामने आती है जो परिधि से बाहर हो चुके मुद्दों को मुख्य धारा में लाने की हिम्मत करती है। लेकिन विडंबना है कि व्यवसायिक रूप से ये सफल नहीं हो सकीं।

 निष्कर्ष : हम सभी मूलभूत मानव-जनित पर्यावरण परिवर्तन से अवगत हैं, जो पृथ्वी पर हो रहा है।  प्रदूषण, संसाधनों की कमी, जलवायु परिवर्तन जैसी घटनाएं वैश्विक पारिस्थितिक लापरवाही  का परिणाम है। पर्यावरण जीवन और स्थिरता का प्रतीक है और इसका संकट प्राकृतिक दुनिया के विनाश का कारण बन सकता है। यह वास्तव में आश्चर्य की बात है कि बड़ी संख्या में लोग अभी भी अत्यधिक पर्यावरण घटनाओं के बढ़ते सबूतों से पूरी तरह से अविचलित हैं जबकि कुछ ऐसे हैं जो संरक्षण की योजनाओं की वकालत करके NIMBY (नोट इन मायबैकयार्ड) सिंड्रोम प्रदर्शित करते हैं, और लागू करने के लिए अनिच्छुक है। इस आबादी का अधिकांश हिस्सा यह समझने में असमर्थ है कि पर्यावरण संकट एक ऐसी घटना है जो जीवन के सभी रूपों को प्रभावित कर रही है। यदि यह चुप्पी और अज्ञानता उन लेखकों, कलाकारों और फिल्म निर्माताओं में व्याप्त हैं, जिन्हें दूरदर्शिता का भंडार माना जाता है और वे अपनी रचनाधर्मिता के माध्यम से विचारों में किसी प्रकार के बदलाव की परिकल्पना करने में विफल रहते हैं तो नौकरशाहों और राजनीतिज्ञों से शायद ही किसी बदलाव की कल्पना की जा सकती है। यह हमारी सामूहिक विफलता होगी। पर्यावरणीय मुद्दों को हिंदी सिनेमा में सहायक विषय या पृष्ठभूमि के रूप में नहीं बल्कि मुख्यधारा में लाने की आवश्यकता है, जैसा कि इरादा और कौन कितने पानी में लेकर आती हैं। ये फिल्में देश के दो बिल्कुल विपरीत दिशाओं और भौगोलिक स्थानों पर स्थित दो राज्यों पंजाब और ओडिशा में पानी के भविष्य का संकेत देते हुए वास्तविक रूप से टिकाऊ और सामाजिक रूप से न्याय संगत भविष्य का लक्ष्य रखती हैं। इस अर्थ में हिंदी सिनेमा अपने स्वयं के विशिष्ट स्वर और शैली में सभी सामाजिक और आर्थिक रुप से विनाशकारी प्रवृत्तियों की आलोचना कर प्रकृति के साथ एक परिवर्तित समाज को बढ़ावा देने के लिए पर्यावरण-समाजवाद का वाहक बन सकता है।

संदर्भ :
[1]बी.लखेंद्र: ए स्टडीऑन द इनफ्लुएंस ऑफ मास मीडिया ऑन द कल्चर एंड ट्रेडीशन ऑफ सिंगफोट्राइब इन तिनसुकिया डिस्ट्रिक्ट ऑफ आसाम,3 (2),2014,पृ.65
[2]बी. भारली:आईओएसआरजर्नल ऑफ़ ह्यूमैनिटीज एंड सोशल साइंस, 19(12),2014, पृ.44
[3]उपर्युक्त, पृ.45
[4]रस्ट एस. और मोनानी एस. :इंट्रोडक्शनकट्सटूडिजोल्वडिफाइनिंग एंड सिचुएटिंगइकोसिनेमा स्टडीज, एस.रस्ट, एस.मोनानी एंड एस.क्यूबिट(संपा)इको सिनेमा:थ्योरी एंड प्रैक्टिस, रुटलेज प्रकाशन,न्यूयॉर्क, 2013,पृ. 13
[5]एफ.एम.जावेद, एस. पिपरालिया और एस. कुमार:रिव्यु ऑफ़ एनवायरनमेंट रिस्पांसिबलिटी,बिल्डिंग रेगुलेशंस इन जयपुर, जर्नल ऑफ़ अर्बन मैनेजमेंट, 7(2), 2018,पृ.111
[6]डब्ल्यू. एच. ओडेन:फर्स्टथिंग्सफर्स्ट, द न्यूयॉर्कर, मार्च 09, 1957,पृ. 38,ऑनलाइन-
[7]https://tinyurl.com/5fzu7543
[8]एन. एम. पांडा(निर्देशक) : कौन कितने पानी में,(डीवीडी) इंडिया वन ड्रॉप फाउंडेशन, 2015
[9]शुभ्रा गुप्ता: कौन कितने पानी में, समीक्षा, सौरभ शुक्ला इजस्पोटऑनदिबेड द फिल्म इस नोट, द इंडियन एक्सप्रेस, 28 अगस्त, 2015
[10]एस. चटर्जी: कौन कितने पानी में,फिल्म-समीक्षा, 2016 एनडीटीवीमूवीज, https://movies.ndtv.com/movie-reviews/kaun-kitney-paani-mein-movie-review-1168
[11]एल. परिहार, जे.के.जोहाल, वी. सिंह:बायोरेमेडीएशन ऑफ यूरेनियम इन कॉन्टैमिनेटेडवॉटरसैंपल्स ऑफ भटिंडा पंजाब बाईडीसल्फोविब्रीयो जीनस, जर्नल ऑफ सोशल साइंस एंड एनवायरमेंट मैनेजमेंट, 4(1), 2013,पृ.4
[12]एन. जोशी: इरादाकॉन्साइन्सस बट नोट कोम्पेलिंग,दिहिंदू, फरवरी17, 2017,ऑनलाइन-https://tinyurl.com/4td33z42
[13]अमितमसूलकर(निर्देशक) : शेरनी, 2021,अमेजॉन प्राइम वीडियो,ऑनलाइन-https://tinyurl.com/mtu8a3my
[14]शांति रंजन सिंह:कंजर्वेशनइकोक्राइसिस एंड एंथ्रोपोसिनस्क्रुटनाइजिंग हुमन एनिमल कनफ्लिक्ट इन अमित मसुलकर'स शेरनी, जर्नल ऑफ़ इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर,वॉ. 8(2), जुलाई-सितंबर, 2021,पृ. 62 से 68
[15]अमोल पालेकर: बॉलीवुड शुड मेक फिल्म्स ऑन एनवायरमेंटल इश्यूज,इंडियन एक्सप्रेस, 28 अगस्त, 2015, ऑनलाइन -https://indianexpress.com/ariticle/entertaiment/bollywood/bollywood-should-make-films-on-evironmental-issues-amol-palekar/
 
डॉ. बीनू कुमावत
सहायक आचार्य, राजनीति विज्ञान, राजकीय कला कन्या महाविद्यालय कोटा, राजस्थान।


चित्तौड़गढ़ (राजस्थान) से प्रकाशित त्रैमासिक ई-पत्रिका 
  अपनी माटी (ISSN 2322-0724 Apni Maati) अंक-51, जनवरी-मार्च, 2024 UGC Care Listed Issue