'अपनी माटी' जून-2013 अंक

साहित्य और संस्कृति का प्रकल्प
अपनी माटी 
मासिक ई-पत्रिका 
जून ,2013 अंक 
साथियो
            नमस्कार

'अपने माटी' जैसी नयी और नवाचारी ई-पत्रिका को बीते दो अंकों में ही पाठक साथियों का खूब स्नेह मिला है।हम अपने आप को तब से ही ज्यादा जिम्मेदार अनुभव करने लगे हैं। हमारी पत्रिका के नए लोगो के लिए हम साथी कुँअर रवींद्र के भी आभारी हैं।एक बात और कि हमारे इस मासिक प्रयास में इस बार के देरी से प्रकाशन पर आपको अगर इंतज़ार करना पड़ा हो तो हम मुआफी चाहेंगे।लेखक साथियों का खासकर शुक्रिया जो जिन्होंने अपनी अप्रकाशित सामग्री हमें सहज रूप में उपलब्ध कराई।इस अंक में आपको बीते दो अंकों की तुलना में ही कुछ सार्थक करने की एक कोशिश की है।इस बार सामग्री थोड़ी कम हैं मगर आपको रुचेगी ऐसी आशा है।आपके सुझावों की प्रतीक्षा रहेगी। साहित्यिक बिरादरी में हमारा ये लघु प्रयास हालांकि बहुत ज्यादा मायने नहीं रखता मगर किसी अच्छे उद्देश्य से सीखते हुए  किए जाने वाले काम की भी अपनी अहमियत होती है।

इस अंक में शामिल वरिष्ठ कविवर अम्बिका दत्त जी और शैलेन्द्र चौहान का खासकर तहेदिल से आभार कि उनके होने से अंक में जान आ गयी।अंक में हरिशंकर श्रीवास्तव ‘शलभ ’जी, डॉ कमल नाहर और प्रवीण कुमार जोशी को पहली छाप कर भी हमें प्रसन्नता हैं। पहली मर्तबा एक इतिहासपरक आलेख भी आपकी नज़र किया है।हमारे निवेदन पर हमारे वरिष्ठ कवि हेमंत शेष ने भी बड़ी सदाशयता से इस अंक का वजन बढ़ाया है। अंक में मुक्तिबोध और माखन लाल चतुर्वेदी जैसे युग परिवर्तक रचनाकारों पर भी सामग्री शामिल कर हम एक दायित्व का निर्वाहन अनुभन कर रहे हैं।

इस बीच रितुपर्णों घोष जैसे फिल्मकार का जाना हमें बहुत खला। एक और बड़ा नाम ध्रुपद के उस्ताद फरीदुद्दीन डागर साहेब का।उन्हें हमारी हार्दिक श्रृद्धांजली। फिलहाल हमारे देश के दो बड़े दिग्गज गायिका विदुषी गिरिजा देवी और मन्ना डे स्वास्थ्य की दृष्टी से बीमार हैं उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना।वर्तमान राजनैतिक उठापटक के बीच इस देश के अच्छे स्वास्थ्य की कामना भी करते हैं।

 जून-2013 अंक एक नज़र में
  1. सम्पादकीय: हर हिमालयसे कोईगंगा निकलनीचाहिए
  2. झरोखा:माखन लालचतुर्वेदी
  3. कविताएँ:अम्बिका दत्त
  4. कविताएँ:हेमंत शेष
  5. कविताएँ:शैलेन्द्र चौहान
  6. आलेख:मुक्तिबोध कीकविताएं एकबैचेन मनकी अभिव्यक्ति/ राजीव आनंद
  7. आलेख-मशीनीकरण के युग में कला / प्रवीणकुमार जोशी
  8. शोधमूलक आलेख:निम्बाहेड़ाक्षेत्र केपुरातात्विक स्थलों का सर्वेक्षण/डॉ.कमल नाहर
  9. कहानी:मुख्यधारा / योगेशकानवा
  10. कहानी:महुआ बनजारिन/ हरिशंकर श्रीवास्तव ‘शलभ ’


   डॉ. सत्यनारायण व्यास 
अध्यक्ष
अपनी माटी संस्थान
29 ,नीलकंठ,छतरी वाली खान,सेंथी, चित्तौड़गढ़-312001,
राजस्थान-भारत,
info@apnimaati.com

 अशोक जमनानी
सम्पादक
अपनी माटी पत्रिका 
 सतरास्ता,होटल हजुरी,
होशंगाबाद,
मध्यप्रदेश-भारत
info@apnimaati.com
और नया पुराने