त्रैमासिक ई-पत्रिका 'अपनी माटी' का 15वाँ अंक - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

त्रैमासिक ई-पत्रिका 'अपनी माटी' का 15वाँ अंक

        
   ===============================
सम्पादकीय

झरोखा

संस्कृतिनामा

सिनेमा कल्चर


सतरास्ता


'खड़ा है ओस में चुपचाप हरसिंगार का पेड़' / फ़िराक वाया विशेष कुमार राय
पहाड़ के नायक विद्यासागर नौटियाल/मुकेश कुमार
बेचैनी के आगे की राह / धूमिल वाया अखिलेश गुप्ता
बाबा नागार्जुन के उपन्यासों की कथाभूमि/ डॉ.प्रफुल्ल कुमार मिश्र
डॉ.शंकर शेष के नाटकों में सामाजिक यथार्थ/डॉ.पी.थामस बाबु
नयी इबारत




समीक्षा की आँख





कविता का वर्तमान 
राजेंद्र जोशी
नवनीत पाण्डे


हस्तक्षेप



मित्र पत्रिकाएँ


3 टिप्‍पणियां:

  1. भाई
    बड़ी ख़ुशी होती है जब नेट उपयोगकर्ताओं को इतनी कीमती पत्रिकाएं पढने को मिल जा रही हैं...आज एक बड़ा समाज नेट-यूजर है और आन-स्क्रीन पढना चाहता है...अपनी माटी की टीम बधाई की पात्र है

    उत्तर देंहटाएं
  2. aapni maati har prant ki mitti ki mahak se jodti hai. Ruchikar samagri....padhneeyata banaye rakhti hai. Samast sampadakeey team ko badhai v shubhkamnayein

    उत्तर देंहटाएं

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here